कच्चे सूत लपटकर मांगा अखंड सौभाग्य


कच्चे सूत लपटकर मांगा अखंड सौभाग्य

By: Nilesh Trivedi

Published: 19 Mar 2020, 11:38 AM IST


मंदसौर.
शहर सहित जिलेभर में बुधवार को दशामाता पर्व महिलाओं ने परंपरा और आस्था के साथ मनाया। कच्चा सूत लपटकर पीपल की पूजा के साथ अखंड सौभाग्य की कामना की। वहीं दशामाता की कहानी भी सुनी। दिनभर जिले में पीपल के साथ दशामाता की पूजा अर्चना का दौर चलता रहा। महिलाओं ने शुभ- मुहूर्त में पीपल वृक्ष को लक्ष्मी-विष्णु का वास मानकर पूजा कर सूत का धागा बांधा।

बाद में महिलाओं ने वृक्ष की दस बार परिक्रमा की। सुबह से शाम तक महिलाएं १६ श्रृंगार कर मंदिर परिसरों में स्थित पीपल के वृक्षों की पूजा करने के लिए तांता लगा रहा। महिलाओं ने घर- परिवार की दशा सुधारने की कामना को लेकर भगवान लक्ष्मी को मनाया। पूजा अर्चना के बाद महिलाओं ने कच्चे सुत की बेल गले में धारण की। इस अवसर पर महिलाओंं ने व्रत रख नल- दमयंती की कथा का श्रवण किया। महिलाओं ने कच्चा सूत लपेटकर, सीधे हाथ से कनिष्ठिका अंगुली से पीपल वृक्ष की छाल निकाली। जो पूरे वर्ष संभाल कर परंपरा के अनुसार रखी जाती है। शहर में तलाई वाले बालाजी, कुम्हारवाड़ा, नई आबादी, जनकूपुरा सहित अनेक जगह पीपल वृक्ष की पूजा की।


परिवार की सुख समृद्धि के लिए दशामाता का किया पूजन
लिंबावास.
पीपल के वृक्ष पर सूत का धागा लपेटकर ली परिक्रमा और मनाया दशामाता पर्व। महिलाओं ने पीपल के वृक्ष की विधि विधान से पूजा करते हुए वृक्ष पर सूत का धागा लपेटा व परिक्रमा कर पूजा में भाग लेकर दशा माता की पौराणिक कथा सुनी व अपने सौभाग्य व परिवार की खुशहाली की कामना की वही हर घर मे कही मिठी थुली तो कही अन्य प्रकार के व्यंजन बनाकर माता को भोग लगाया यह क्रम देर

शाम तक जारी रहा महिलाओ ने मनाया दशामाता का पर्व
लूनाहेड़ा.
नगर सहित अंचल में बुधवार को महिलाओं ने दशामाता का पर्व आस्था एवं उमंग के साथ मनाया। महिलाओं ने सुबह पीली मिट्टी लाकर घर आंगन को स्वच्छ किया। महिलाओं ने नए परिधान पहनकर शाम को पिपल के वृक्ष की परिक्रमा कर पुजा अर्चना की गई तथा पति की लंबी उम्र की कामना की गई।


पीपल की पूजा कर मांगी सुख-समृद्धि
नारायणगढ़.
होली के दस दिन बाद मान्यतानुसार दशा माता का त्यौहार महिलाओं द्वारा पूरे हर्षोल्लास एवं धार्मिक भाव से मनाया गया। नगर के नीम चौक एवं गांधी चौराहा स्थित देवनारायण ताखा बावजी मंदिर पर महिलाओं द्वारा बड़े सवेरे से ही पीपल के वृक्ष पर जनेऊ बांधकर वृक्ष की विधि विधान पूर्वक पूजा- अर्चना कर अपने घर परिवार में सुख समृद्धि तथा बेहतर दशा की कामना करी।


श्रद्धा व आस्था से दशा माता की पूजा अर्चना की गई
गांव मुंदेडी के आसपास क्षेत्र में गुडभेली, जलोदिया सहित बुधवार को दशामाता का सभी महिलाओं ने व्रत किया। सुबह जल्दी उठ कर पीली मिट्टी लाई गई। पीपल वृक्ष व दशा माता की पूजन कर परिवार की सुख समृद्धि की कामना की। विशेषकर नव विवाहित युवतियों ने पहली बार वैदिक विधि विधान से दशा माता पूजा कर पति की लंबी उम्र की कामना की।

Nilesh Trivedi Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned