मुआवजा को लेकर बीजेपी किसान मोर्चा की भूख हड़ताल पर कांग्रेस विधायक बोले किसानों को मिलना चाहिए न्याय

मुआवजा को लेकर बीजेपी किसान मोर्चा की भूख हड़ताल पर कांग्रेस विधायक बोले किसानों को मिलना चाहिए न्याय

Nilesh Trivedi | Updated: 04 Jun 2019, 11:33:21 AM (IST) Mandsaur, Mandsaur, Madhya Pradesh, India

मुआवजा को लेकर बीजेपी किसान मोर्चा की भूख हड़ताल पर कांग्रेस विधायक बोले किसानों को मिलना चाहिए न्याय


मंदसौर.
जिले में फरवरी माह में ओलावृष्टि हुई थी। इस समय फसलों के हुए नुकसानी का आंकलन तो हुआ और जिले में मुआवजा भी आया, लेकिन कई गांव के किसान अब तक मुआवजा राशि मिलने से वंचित है। लोकसभा चुनाव में १९ मई को हुए मतदान का भी जिले के सीतामऊ क्षेत्रके गांव कोचरियाखेड़ी और सुरखेड़ा के लोगों ने मुआवजा नहीं मिलने की बात पर बहिष्कार किया था।फिर भी अब तक राशि नहीं मिली।

अब भाजपा किसान मोर्चा ने इसे लेकर भूख हड़ताल शुरु कर दी है। इस मामले में एक पटवारी की लापरवाही पाए जाने पर निलंबित किया गया है। भाजपा की इस भूख हड़ताल पर कांग्रेस विधायक हरदीपसिंह डंग ने कहा कि किसानों को न्याय मिलना चाहिए।मैं किसानों के साथ हूं। इसके बाद जिले की राजनीति फिर से गरमा गई। पिछले कई दिनों से सोशल मीडिया पर डंग के भाजपा में आने की पोस्ट वायरल होती आई हैऔर हर बार डंग को सफाई देते हुए वायरल हो रही खबरों को खंडन करते हुए खुद को कांग्रेस का कार्यकर्ताबताया।


दोपहर १२ बजे शुरु की भूख हड़ताल
ओलावृ़ष्टि के मुवावजे को लेकर सीतामऊ तहसील के गांव सुरखेड़ा व कोचरियाखेड़ी के किसानों की मांगों के समर्थन में सोमवार को भाजपा किसान मोर्चा ने तहसील परिसर में दोपहर 12 बजे को भुख हड़ताल शुरू की। जो प्रशासनिक अधिकारियों के आश्वाशन के बाद डेढ़ बजे समाप्त कर दी गई। गांव सुरखेड़ा व कोचरियाखेड़ी के किसान फरवरी में हुई ओलावृष्टि में क्षतिग्रस्त हुई फसलों के मुआवजे को लेकर लंबे समय से शासन प्रशासन से मांग कर रहे है। क्षेत्र के लगभग सभी गांवों में जहां प्राकृतिक आपदा से नुकसान हुआ है वहां मुआवजा मिल चुका है। लेकिन प्रशासनिक अमले की लापरवाही से दोनों गांव प्राकृतिक आपदा के कारण हुए नुकसान के बाद भी मुआवजे से वंचित रह गए। इन गांव के किसानो ने लोकसभा चुनाव में मतदान का बहिष्कार भी कर दिया था।

किसानों की मांगों के समर्थन के भाजपा किसान मोर्चा व भाजपा के कार्यर्ताओं ने गांव के किसानों के साथ सोमवार को तहसील परिसर में भुख हड़ताल शुरू कर दी। लगभग डेढ़ घंटे तक चली हड़ताल प्रशासन के आश्वासन के बाद समाप्त हुई। इस अवसर पर भाजपा जिलाध्यक्ष राजेंद्र सुराणा, जिला महामंत्री अजयसिंह चौहान, किसान मोर्चा के जिलाध्यक्ष भगवानसिंह शक्तावत, रुगनाथसिह काचरिया, अनिल पांड, किसान मोर्चा के मंडल अध्यक्ष अशोक आसलिया, राजेश गिरोठिया, पूरणदास बैरागी, धनसुख पाटीदार, राजेश पालीवाल, पंकज चौहान, राजकुमार पोरवाल सहित गांव के किसान उपस्थित थे।

तीन दिन का मांगा है समय
यहां भाजपा जिलाध्यक्ष राजेंद्र सुराणा ने कहा कि जब सर्वे रिपोर्ट में 70 प्रतिशत नुकसान बताया जा रहा है तो फिर इन दो गांव के किसानों के साथ भेदभाव क्यों किया जा रहा है। जबकि गांवों की सीमा से लगे गांवों में नुकसानी का मुवावजा मिल चुका है। प्रशासन ने इस सम्बंध में जांच के लिए तीन दिन का समय मांगा है। किसानों की समस्या का जल्द निराकरण नही किया गया तो किसानों के हक के दिलाने के साथ खड़े है।


दो गांवों को छोड़ सभी ने दिया मुआवजा
किसान मोर्चा के जिलाध्यक्ष भगवानसिंह शक्तावत ने कहा कि क्षेत्र में 45 से 50 गांवो में ओलावृष्टि हुई थी। इन दोनों गावों को छोडक़र लगभग सभी गांवों को फसल नुकसानी को लेकर राहत राशि मिल चुकी है। वही इन दोनों गांवों को राहत राशि से वंचित होना प्रशासन की कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिंह लगा रहे है। प्रशासन के आश्वासन के हम भुख हड़ताल समाप्त कर रहे है। जल्द किसानों की मांगों का निराकरण नही करता है तो भाजपा किसान मोर्चा उग्र आंदोलन करेगा।


किसानों को मिले न्याय
विधायक हरदीपसिंह डंग के कहा कि किसान अपने हक की लड़ाई लड़ रहे है में भी उनके साथ हु। पटवारी रिपोर्ट में गड़बड़ हुई है जो जांच का विषय है। मेने इस संबंध में पत्र में माध्यम से मुख्यमंत्री को अवगत करवा दिया है।


पटवारी को किया निलंबित
तहसीलदार प्रीति बीसे ने कहा कि किसानों द्वारा मुआवजे को लेकर तहसील परिसर में धरना दिया जा रहा था हमने उनके प्रतिनिधि मंडल से बात कर जांच के लिए तीन दिन का समय मांगा है। संबंधित पटवारी को पूर्व में ही इस विषय को लेकर निलंबित कर दिया गया था।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned