दशपुर नगरी को धर्ममय करने पहुंचने लगे संत

दशपुर नगरी को धर्ममय करने पहुंचने लगे संत

By: harinath dwivedi

Updated: 24 Jul 2018, 01:48 PM IST

मंदसौर.
सोमवार को मुनि प्रसन्नसागर मसा, मुनि पावनचन्द्रसागर मसा, मुनि चन्द्रसागर मसा व साध्वी अर्हमव्रताश्रीजी मसा, साध्वी अर्पणव्रताश्रीजी मसा, साध्वी आर्यमव्रताश्रीजी मसा का मंदसौर (दशपुर) में चातुर्मास के लिए मंगल प्रवेश हुआ। चातुर्मास की चार माह की अवधि में तीनों संतो व तीनो साध्वियों की स्थिरता तलेरा विहार स्थित चिन्ह पुण्य आराधना भवन में रहेगी। संतो व साध्वियों के शहर आगमन व चातुर्मास मंगल प्रवेश पर सोमवार को चल समारोह निकाला गया। इसके पूर्व किटियानी स्थित मांगीलाल गुलाबचंद्र हवेली वाला परिवार की ओर से मंगल प्रवेश के उपलक्ष्य में नवकारसी का आयोजन किया गया। इसमें पोरवाल श्वेताम्बर जैन समाज के धर्मालुजन शामिल हुए। लाभार्थी परिवार के द्वारा इस मौके पर संतो की गहुली कर उनकी वंदना की गई। किटियानी से यह चल समारोह महावीर मार्ग, आदिनाथ विहार चौधरी कॉलोनी, रूपचांद आराधना भवन, नई आबादी के मुख्य मार्गो का भ्रमण कर तलेरा विहार स्थित चिद्पुण्य आराधना भवन पहुंचा। यहां धर्मसभा का आयोजन किया गया। इसमें प्रसन्नचन्द्रसागर मसा ने कहा कि जैन धर्म में साधु- साध्वी, श्रावक-श्राविका जब एक साथ एक अवसर पर उपस्थित होते है तो चतुर्विद संघ कहते है। इस प्रकार चतुर्विद संघ की उपस्थिति के दर्शन से तीर्थ दर्शन के समान पुण्य मिलता है। मंदसौर में चारो माह चतुर्विद संघ की उपस्थित रहेगी ओर यह चातुर्मास पूरे चतुर्विद संघ का चातुर्मास है। उन्होंने कहा कि चारो माह भगवान महावीर की वाणी श्रवण करने का अवसर केवल चातुर्मास में मिलता है इसलिए इस अवसर पर अधिकाधिक लाभ लेना चाहिए। चातुर्मास का चार माह का समय पूरे वर्ष में विशिष्ट समय है चार माह में की गई धर्म आराधना मानव के पुण्य कर्म का बेलेन्स बढ़ाती है इसलिए मानव को इस चार माह की अवधि का पूरा- पूरा लाभ लेना चाहिए तथा धर्म आराधना के अवसर से चुकना नही चाहिए। धर्मसभा में अन्य संतो व साध्वियों ने भी संबोधित किया।


बैंड- बाजे के साथ निकला चल समारोह
मंगल प्रवेश के उपलक्ष्य में श्वेताम्बर पोरवाल जैन समाज की परम्परानुसार भव्य चल समारोह निकाला गया। चल समारोह में बैंड-बाजे व ढोल घोडे सभी शामिल किए गए। संतो के मंगल प्रवेश पर श्रीसंघ की महिला मण्डलोक में विशेष आग्रह रहा। अरिहंत महिला मण्डल में इस मौके पर पूरे चल समारोह के मार्ग में कलश धारण धारण करते हुए चल समारोह की शोभा बढाई। आदिनाथ व शंखेश्वर पाश्र्वनाथ महिला मण्डल ने भी पूरे चल समारोह में उत्साह के साथ भागीदारी की। चल समारोह में नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार, आदिनाथ जैन पोरवाल श्वेताम्बर मंदिर ट्रस्ट, अध्यक्ष रमेश जैन, उपाध्यक्ष शांतिलाल जैन हवेलीवाला, कांतिलाल जैन, विनोद जैन, अजय जैन, दिनेश जैन, पियुष जैन, संजय पोरवाल उपस्थित थे।

98 वर्षीय वयोवृद्ध साध्वी का हुआ नगर प्रवेश
नई आबादी आराधना भवन मे 23 जुलाई को 98 वर्षीय दीर्घ संयमी वयोवृद्ध साध्वी सुदर्शनाश्रीजी मसा एवं मेवाड़ मालव ज्योति चंद्रकलाश्रीजी मसा आदि ठाणा-7 का आगामी चातुर्मास के लिए मंगल प्रवेश नई आबादी आराधना भवन में हुआ। आराधना भवन श्रीसंघ एवं ट्रस्ट के अध्यक्ष महेंन्द्र चौरडिया, सचिव दिलीप रांका ने बताया कि प्रात: 9 बजे संजय गांधी उद्यान से सामैया जुलूस प्रारंभ हुआ। जुलूस से पूर्व सकल श्रीसंघ की नवकारसी हुई। इसके बाद जुलूस नई आबादी के विभिन्न मार्गो से होता हुआ नई आबादी आराधना भवन पहुंचा। यहां पर साध्वी भगवंतो के भक्ताम्बर महापाठ व मंगल प्रवचन हुए। इस अवसर पर मूर्ति पूजक संघ के पूर्व अध्यक्ष कमल कोठारी, विरेन्द्र भंडारी, अभय जेतावत, शेखर धींग, सुरेश जेतावत, सुरेश चौरडिया, नरेन्द्र ओसवाल, विजय ओसवाल, अप्रेश भण्डारी, मानमल जेतावत, पारसमल मेहता, सौभागमल जैन, सज्जनलाल रांका, इन्दरमल रांका सहित कई समाजजन उपस्थित थे। संचालन ट्रस्ट के अध्यक्ष महेन्द्र चौरडिया ने किया। आभार सचिव दिलीप रांका ने माना।
-------------------------------

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned