पत्रकार कमलेश की हत्या पर सीएम शिवराज ने ट्वीट कर कहा नहीं बख्शे जाएंगे आरोपी 

  पत्रकार कमलेश की हत्या पर सीएम शिवराज ने ट्वीट कर कहा नहीं बख्शे जाएंगे आरोपी 
mandsaur news

- कल रात पिपलियामंडी में पत्रकार कमलेश जैन की बदमाश ने कार्यालय में घूस मार दी थी गोली 



मंदसौर.रतलाम


जिला मुख्यालय से करीब 16 किलोमीटर दूर पिपलियामंडी कस्बे में बुधवार की रात एक पत्रकार को उनके कार्यालय में घूसकर बदमाश ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस मामले में गुरुवार को मुख्यमंत्री शिवराज ङ्क्षसह चौहान ने ट्वीट कर कहा कि आरोपियों को बख्शा नहीं जाएगा।वहीं मंदसौर विधायक यशपाल ङ्क्षसह सिसौदिया, मल्हारगढ़ विधायक एवं पूर्व गृहमंत्री जगदीश देवड़ा, जिला प्रेस क्लब सहित कईसंगठनों के प्रतिनिधियों ने पुलिस अधीक्षक ओपी त्रिपाठी से मिलकर पत्रकार कमलेश की हत्या के सभी आरोपियों को शीघ्र गिरफ्तार कर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाईकी मांग की। इससे पहले पिपलियामंडी में पत्रकार कमलेश जैन के शव का अंतिम संस्कार किया गया। अंतिम यात्रा में जिलेभर के पत्रकार, जनप्रतिनिधी व राजनीतिक दलों के नेता कार्यकर्ता शामिल हुए। कमलेश के सम्मान पूरा पिपलियामंडी स्वेच्छा से बंद रहा। पुलिस अधीक्षक त्रिपाठी ने बताया कि कमलेश की हत्या के मामले में अभी तक पांच लोगों को हिरासत में लिया है। उनसे पूछताछ की जा रही है।पूछताछ में मिली जानकारियों की तस्दीक भी की जा रही है।लिहाजा बेहद सर्तकता से मामले में जांच की जा रही है। पुलिस टीमें मिली जानकारियों के अनुसार छानबीन कर रही है। दो-तीन की भी और तलाश है।

जिला मुख्यालय सहित कईजगह दिए गए ज्ञापन

जिला मुख्यालय पर जिला प्रेस क्लब, श्रमजीवी पत्रकार संघ, सहित अनेक संगठनों ने   पत्रकार कमलेश जैन के हत्यारों को शीघ्र पकडऩे और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाईकरने की मांग को लेकर पुलिस अधीक्षक ओपी त्रिपाठी सहित कई प्रशासनिक अधिकारियों को ज्ञापन सौंपा। मंदसौर में ज्ञापन सौंपने वालों में डॉ घनश्याम बटवाल, नरेंद्र अग्रवाल, डॉ प्रीतिपाल ङ्क्षसह राणा, दिलीप सेठिया, ब्रजेश जोशी, हेमंत शर्मा सहित जिलेभर के पत्रकार शामिल थे।  वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने टवीटर पर टवीट कर कहा कि पत्रकार कमलेश जैन के हत्यारों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा। कानून की कड़ी से कड़ी सजा हत्यारों को दी जाएगी।वहीं छत्तीसगढ़ के पूर्व डीजीपी रामनिवास घटना की निंदा करते हुए कहा कि दुखद घटना है। मंदसौर जिले में सकारात्मक पत्रकारिता पर हमला है। केबिनेट मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी घटना की निंदा करते हुए कमलेश को श्रद्धाजंलि दी। जिले में भानपुरा, गरोठ, शामगढ़, सीतामऊ, कयामपुर, सुवासरा, दलौदा सहित अन्य स्थानों पर प्रशासनिक अधिकारियों को ज्ञापन देकर आरोपियों को शीघ्र गिरफ्तार करने व उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाईकरने की मांग की है। वहीं पिपलियामंडी में श्रीराम सेना ने पुलिस को 24 घंटे में आरोपियों को पकडऩे का अल्टीमेटम दिया है। इसके बाद सेना ने मंदसौर बंद करवाने की चेतावनी दी है।
सीसीटीवी फुटेज से मिली वारदात की जानकारी
पत्रकार जैन के ऑफिस के पास किराना दुकान पर लगे सीसीटीवी फु टेज में बुधवार रात्रि 7.53 बजे बाइक पर सवार होकर दो बदमाश गांधी चौराहे की ओर से होकर लवली चौराहा पर अन्नपूर्णा टॉकीज मार्ग स्थित कमलेश जैन के कार्यालय पहुंचे, एक बदमाश बाइक स्टार्ट कर कार्यालय के बाहर खड़ा रहा, दूसरा बदमाश कार्यालय में घुसा, इस दौरान कमलेश जैन लेपटॉप पर कुछ  न्यूज बना रहे थे, पास में सहयोगी टीलाखेड़ा निवासी कमल माली बैठा था। बदमाश ने मंूह पर नकाब पहना था, मात्र 10 सेकेंड में वह बिना कुछ बोले सीधे पत्रकार जैन के सीने पर रिवाल्वर से फ ायर कर बाहर खड़े बदमाश की बाइक के पीछे बैठकर भाग निकला। गोली लगने के बाद जैन उठकर कुछ कदम चले और ऑफिस के बाहर गिर पड़े, पड़ोसी दुकानदार पहुंचे व जैन को उठाया। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार बदमाश गोली मारने के बाद बाइक पर बैठकर तेज गति से खात्याखेड़ी रोड़ की ओर निकले, तेज गति से होने के कारण उनकी बीच में अन्य वाहनों से दुर्घटना होते-होते भी बची।

शव के पोस्टमार्टम के दौरान निकली सीने से एक गोली

कमलेश के शव का गुुरुवार सुबह जिला मुख्यालय पर पोस्टमार्टम किया गया। डॉक्टरों ने उनके सीने से एक गोली निकाली। बाद में शव परिजनों को सौंप दिया। पिपलियामंडी के  महावीरगंज स्थित उनके निवास से निकली अंतिमयात्रा में बड़ी संख्या में लोग शामिल होकर मुक्ति धाम पहुंचे, शवयात्रा के दौरान गांधी चौराहे पर अर्थी रोकी व तहसीलदार पारस कुम्हारा सहित पुलिस अधिकारियों को शीघ्र ही हत्यारों को पकडऩे की मांग की।
किसने क्या कहा:-
-मुक्ति धाम पर आयोजित शोकसभा में मल्हारगढ़ विधायक जगदीश देवड़ा ने कहा  घटना पुलिस प्रशासन चुनौती के रुप में लेकर मुख्य षड्यंत्रकारी तक पहुंचे, अन्यथा एसी घटनाओं को बढ़ावा मिलेगा, दलगत राजनीति से उपर उठकर घटना का विरोध हो।
-सुवासरा विधायक हरदीपसिंह डंग ने कहा  सरेआम गोली मारकर हत्या कर देना पुलिस प्रशासन पर प्रश्न चिन्ह लगाता है, इस घटना से पत्रकारों का मनोबल गिरेगा। डंग ने पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर मामला विधानसभा में उठाने की बात भी कही।
-मंदसौर विधायक यशपालसिंह सिसौदिया ने कहा इस घटना के बाद प्रश्न चिन्ह लग गया है, हत्यारों के साथ ही मुख्य माफियाओं को पकडऩा जरुरी है, जिन्होंने इस घटना को अंजाम दिलवाया, पुलिस व प्रशासन इस घटना को चुनौती के रुप में ले। पुलिस मामले की तह तक जाए।
-पूर्व मंत्री नरेन्द्र नाहटा ने कहा इस घटना के बाद आमजन में असुरक्षा का भय है। प्रशासन व राजनीतिक लोगों को अब जागने का समय है। ऐसी प्रवृत्तियों को रोकना होगा जो अपराधी बना रही है।
-जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक अध्यक्ष मदन राठौर ने कहा पत्रकार की हत्या होना चुनौती है, प्रशासन को जल्द खुलासा करना चाहिए। इसमें जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष महेन्द्रसिंह गुर्जर, कांग्रेस नेता श्यामलाल जोकचन्द्र, पत्रकार घनश्याम बटवाल सहित सोमिल नाहटा, मंदसौर जनपद अध्यक्ष शांतिलाल मालवीय, जिला पंचायत पूर्व अध्यक्ष मनोहरलाल जैन, नरेन्द्र अग्रवाल, आकाश चौहान, प्रीतिपालसिंह राणा, ओमप्रकाश बटवाल आदि ने भी घटना की निंदा करते हुए आरोपियों को पकडऩे की मांग की।

 पिपलिया टीआई अनिलसिंह ठाकुर से सीधी बात -

पत्रिका-हत्या के मामले में अभी तक कितनी गिरफ्तारियां हुई ?
टीआई ठाकुर-अभी तक बांसखेड़ी निवासी जसवंत सौंधिया, रिंछा निवासी जीतू दमामी व काचरिया चन्द्रावत निवासी बंटी सेन को राउंडअप किया है, ये सभी 5 मई को रेलवे फाटक पर हुए विवाद में शामिल थे, पूछताछ की जा रही है।
पत्रिका-क्या कारण हो सकता है ?
टीआई ठाकुर-पुलिस के अनुसार 5 मई को रात्रि में रेलवे फाटक पर बोलेरो वाहन में सवार व्यक्तियों से विवाद हुआ था, पुलिस भी मौके पहुंची थी, दूसरे दिन कमलेश के कार्यालय में भी कुछ लोगों ने जाकर विवाद किया था। पर मामला शांत हो गया था। पत्रिका-जैन ने पुलिस थाने में जान का खतरा होने आवेदन दिया था ?
टीआई ठाकुर-पत्रकार जैन ने पुलिस को कोई आवेदन नहीं दिया, विवाद की सूचना मुझे मोबाइल पर दी थी, घटनाक्रम के बाद मामला शांत हो गया था।
पत्रिका-विवाद के बाद क्या हुआ, पुलिस ने क्या कार्रवाई की ?
टीआई ठाकुर-रेलवे फाटक पर विवाद हुआ था, 100 डॉयल पहुंची थी, चौकी पुलिस का मामला था। बोलरो की तलाशी में क्या मिला और आगे चौकी पुलिस ने क्या कार्रवाई की मुझे पता नहीं है।

पत्रिका-कॉल डिटेल में क्या पता चला ?

टीआई ठाकुर-पत्रकार जैन के मोबाइल से कॉल डिटेल निकलवाई जा रही है, इसके लिए साइबर सेल अलग से जांच कर रहा है, सुराग मिलते ही शीघ्र ही हत्यारों को पकड़ लिया जाएगा।
पत्रिका-कहां-कहां दविश दी और कौन शामिल हो सकता है षड्यंत्र में ?
टीआई ठाकुर-पुलिस ने रात्रि में बांसखेड़ी, तुरकिया, आकली, रिंछा, काचरिया चन्द्रावत, पहाडिय़ा, तुरकिया आदि स्थानों पर दविश दी थी, आकली के कमल सहित अन्य लोगों के नाम भी सामने आ रहे है, जिनकी तलाश की जा रही है। 














----------
Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned