scriptEven before the tender of the roads, there was a ruckus, so the tender | सडक़ों का टैंडर होने से पहले ही हो गया बवाल तो निकालना पड़े दोबारा टैंडर | Patrika News

सडक़ों का टैंडर होने से पहले ही हो गया बवाल तो निकालना पड़े दोबारा टैंडर

सडक़ों का टैंडर होने से पहले ही हो गया बवाल तो निकालना पड़े दोबारा टैंडर

मंदसौर

Published: March 27, 2022 09:44:27 am


मंदसौर.
शहर की बदहाल हो चुकी सडक़ की मरम्मत का इंतजार ही खत्म नहीं हो रहा है। बदहाल सडक़ और गड्ढें शहर की सडक़ों की पहचान बन गए है। बारिश में सभी सडक़ें बेदम हो चुकी लेकिन इनकी तस्वीर अब तक वहीं है। बदल नहीं पाई है। कलेक्टर गौतमसिंह ने इस पर संज्ञान लिया और ४० सडक़ों को चिन्हित कर इन पर काम के लिए दो करोड़ का प्रोजेक्ट तैयार किया। और टैंडर भी निकालें लेकिन इसकी शर्तों में ही ऐसा बवाल हुआ कि काम होने से पहले ही टैंडर फिर से बुलाना पड़े। अब दोबारा टैंडर हुए तो इस प्रक्रिया में ही दो से तीन माह पूरे हो गए। अभी कुछ और समय इंतजार करना होगा। इसके बाद सडक़ो का कायाकल्प शुरु होगा।
bhilwara toll road यह कैसी  रोड, उधड़ रही फि र भी वसूल रहे है टोल
bhilwara toll road यह कैसी रोड, उधड़ रही फि र भी वसूल रहे है टोल

शहर की बदहाल सडक़ों को है मरम्मत का इंतजार
शहर की बदहाल हो चुकी सडक़े इन दिना गड्ढों में तब्दील है। विभागीय प्रक्रियाओं को लेटलतीफी के बीच सडक़ जर्जर होती जा रही है। बारिश के समय शहर का मुख्य मार्ग और पूरे शहर के आंतरिक मार्ग गड्ढों में तब्दील हो गए और यहां से गुजरने के दौरान लोगों को काफी मशक्कत करना पड़ी जो कई माह बीतने के बाद अब भी बनी हुई है। चार से पांच माह से अधिक समय बीत गया लेकिन शहर की सडक़ों की सूरत नहीं बदली और गड्ढें भी नपा नहीं भर पा रही है। ऐसे में प्रशासक के तौर पर कलेक्टर ने सडक़ो के लिए प्रोजेक्ट तैयार कर काम करने को कहा तो नियमों में जो नहीं है ऐसे शर्त रखी थी जिसके कारण विवाद बढ़ा और फिर से सिरे से टैंडर करना पड़े जो अब खुलने के साथ प्रक्रिया पूरी हो रही है।
टैंडर में शर्ते डालने के कारण सुर्खियों में आया था मामला
बारिश में जर्जर हुई शहर की सडक़ो को सुधारने के लिए नगर पालिका ने सर्वे करने के बाद दो करोड़ का टैंडर लगाया। इसमें ४० सडक़ो को लिया गया। इसमें गड्ढों के पेचवर्क से लेकर जहां जरुरत है वहा सडक़ पर डामरीकरण करना तक शामिल था और सडक़ो की पूरी तरह सूरत सवारना इसमें शामिल था, लेकिन टैंडर के साथ ऐसी शर्ते जोड़ी गई जो नियम व मापदंड में नहीं आती है। इसी कारण मामला सुर्खियों में आया और विवादों में घिर गया। इसके बाद मामले ने तूल पकड़ा तो सडक़ो की मरम्मत को लेकर दोबारा टैंडर करने की कार्रवाई की गई। अब दो लोगों ने टैंडर में रुचि दिखाई है। अब बाकी की प्रक्रिया के बाद सडक़ो की मरम्मत का काम होगा।

रेट भी आ गए है
पहले टंैडर में रेट भी अधिक आए थे। इस बार टैंडर में रेट भी आ गए है जो पहले की अपेक्षा कम है। शेष प्रक्रिया को पूरा कर जल्द ही काम को शुरु कराया जाएगा। आगामी समय में दो करोड़ के इस प्रोजेक्ट में सडक़ो को संवारा जाएगा। -पीके सुमन, सीएमओ

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics: एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के अगले सीएम, देवेंद्र फडणवीस ने किया ऐलानMaharashtra: एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के नए सीएम, आज शाम होगा शपथ ग्रहण समारोहAgnipath Scheme: अग्निपथ स्कीम के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने वाला पहला राज्य बना पंजाब, कांग्रेस व अकाली दल ने भी किया समर्थनPresidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: एकनाथ शिंदे ने कहा- 50 विधायकों का भरोसा कभी टूटने नहीं दूंगाMaharashtra Political Crisis: उद्धव के इस्तीफे पर नरोत्तम मिश्रा ने दिया बड़ा बयान, कहा- महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा का दिखा प्रभावप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने MSME के लिए लांच की नई स्कीम, कहा- 18 हजार छोटे करोबारियों को ट्रांसफर किए 500 करोड़ रुपएDelhi MLA Salary Hike: दिल्ली के 70 विधायकों को जल्द मिलेगी 90 हजार रुपए सैलरी, जानिए अभी कितना और कैसे मिलता है वेतन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.