पिता करते है कपड़ों की प्रेस, बेटा बनेगा जज

पिता करते है कपड़ों की प्रेस, बेटा बनेगा जज
पिता करते है कपड़ों की प्रेस, बेटा बनेगा जज

Nilesh Trivedi | Updated: 23 Aug 2019, 12:07:01 PM (IST) Mandsaur, Mandsaur, Madhya Pradesh, India

पिता करते है कपड़ों की प्रेस, बेटा बनेगा जज


पिता कपड़ो की प्रेस का काम करते है। लेकिन बेटे की प्रतिभा ने उसे लक्ष्य की और बढ़ाया। नगर में रहकर हायर सेकंडरी तक पढऩे के बाद उज्जैन आगे की पढ़ाई करने के लिए पहुंचा। जहां स्नातक व एलएलबी की। फिर स्टेनोग्राफर की नोकरी लग गई। और लक्ष्य तक पहुंचने का मानों रास्ता मिल गया और अब सिविल जज की परीक्षा पास कर जज बनने का अपना सपना किया। .

सुवासरा नगर का युवा अब जज बनेगा। सिविल जज की परीक्षा बेटे ने पास की तो पिता की खुशिया का ठिकाना नहीं रहा तो दो बड़े भाई भी खुशी हुई। घर ही नहीं मानों पूरे नगर में खुशियां छा गई और बधाईयों का तांता लग गया। सुवासरा नगर के राजेश अंशेरिया अब जज बनेंगे। नगर से पहली बार कोई जज बनेगा। इसी बात से नगर के लोग भी खुश है। शुरुआती दौर में अभाव के बीच कड़े संघर्ष के बाद भी पढ़ाई जारी रही और मुकाम हासिल किया।


जानकारी के अनुसार सुवासरा निवासी राजेश अंशेरिया ने सिविल जज की परीक्षा में सफलता प्राप्त की है। उनके पिता प्रभुलाल कपड़ो की प्रेस का काम करते है। पिछले ५० सालों से वह यहीं काम कर रहे है। राजेश के दो बड़े भाई है। फकीरचंद व कन्हैयालाल। दो भाई व पिता नहंी आज जब सिविल जज की परीक्षा राजेश ने पास की तो पूरे परिवार ही नहीं दोस्तो से लेकर नगवासियों को भी उस पर नाज हो गया। सुवासरा नगर में पढऩे से लेकर जज बनने तक का सफर राजेश का उतार-चढ़ाव के साथ कड़े संघर्ष वाला रहा। राजेश के पिता प्रभुलाल अंशेरिया जो कि कपड़े प्रेस करने का कार्य करते हैं। जिनके बिना सहयोग से राजेश ने कई वर्षों तक उज्जैन में रहकर पढ़ाई की और समाचार पत्र वितरण तक का काम किया। उज्जैन में स्टेनोग्राफर की नोकरी लगी तो उसकी राह भी आसान हो गई।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned