जिम्मेदारों की अनदेखी व नींद से शिवना नाला बनने पर मजबूर

विपरीत दिशा में बही नदी

मंदसौर . शिवना का जल शुद्ध हो और इस नदी का जल आचमन करने योग्य हो। इस उद्देश्य को लेकर नमामि शिवना अभियान चलाया है। शिवना नदी को नाला बनने से रोकने के लिए लिए सामाजिक संगठन अपने स्तर पर लगातार कोशिशें कर रहे है। बावजूद अब तक इस और कोई ध्यान नहीं दे रहा है। जिम्मेदारों की कुंभकर्णी नींद की वजह से शिवना की दुर्दशा प्रतिदिन बद से बदतर होती जा रही है। मंगलवार को पशुपतिनाथ मंदिर क्षेत्र में शिवना की छोटी पुलिया के समीप शिवना नदी उल्टी बहने लगी।
हिन्दू संस्कृति उत्सव समिति के सदस्य मनीष भावसार ने बताया कि छोटी पुलिया के समीप से एक राहगीर ने सूचना दी कि छोटी पुलिया पर शिवना में उल्टी दिशा में पानी मिल रहा। जब शिवना के स्थान पर जाकर देखा तो आश्चर्य सा नजारा था। शिवना उल्टी बहने लगी। पूर्व में भी हिन्दू संस्कृति उत्सव समिति द्वारा जिम्मेदारों को चेताया गया सोशल मीडिया पर भी वीडियो डाला गया कि शिवना में तेजी से नाले का पानी मिल रहा है जिसकी वजह से कोर्ट के रास्ते पर घाटी के वहा से शिवना उल्टी बहने लगी लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया। और अब नाले के मिल रहे पानी की अधिकता के कारण उल्टी दिशा में यह गंदा पानी जा रहा है। ऐसे में मंदिर के समीप क्षेत्र में गंदा पानी अधिक एकत्रित हो गया है। नगर पालिका स्वास्थ्य अधिकारी केजी उपाध्याय और नपाध्यक्ष हनीफ शेख को भी सूचना दी। समिति द्वारा यह मुद्दा भी जनता के बीच लाया गया कि पशुपतिनाथ मंदिर पर करोड़ों की लागत से बनने वाले सहस्त्र शिवलींग मंदिर का वेस्ट मटेरियल और मिट्टी को शिवना से निकालने की बजाय पानी की नली लगाकर शिवना में प्रवाहित करने का गलत कार्य किया जा रहा है यह ठेकेदार की लापरवाही है और इससे प्रबंध समिति के जिम्मेदारों को अवगत कराया गया।

Mukesh Mahavar Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned