रामकथा में प्रभु राम का जन्म वृतान्त श्रवण कर भाव विभोर हुए धर्मालुजन


रामकथा में प्रभु राम का जन्म वृतान्त श्रवण कर भाव विभोर हुए धर्मालुजन

By: Nilesh Trivedi

Published: 06 Jan 2020, 11:54 AM IST


मंदसौर.
नगर के संजय गांधी उघान में सुयश रामायण मंडल जनता कॉलोनी द्वारा सात दिवसीय रामकथा का आयोजन का जन्म वृतान्त श्रवण कराया। व्यासपीठ पर विराजित संत दशरथ भाई ने प्रभु राम के जन्म वृतांत का रविवार की कथा में श्रवण कराया।

भवगान का जन्म वृतांत सुन धर्मालुजन भाव विभोर हो गए। राम जन्मोत्सव के लिए सुयश रामायण मंडल ने कथा पांडल सुधित पुष्पों से सजाया। रामकथा के तृतीय दिवस की कथा समापन पर जन्म प्रभु राम का जन्म वृतान्त आया तो धर्मालुजनों ने राम जयकारें लगाए। सुयश रामायण से जुडे परिवारो ने राजा दशरथ व कौशल्या बनाकर रामजन्म की खुशिया मनाई।
दशरथ भाईजी ने राम जन्म के पूर्व भारत वर्ष की स्थिति का वर्णन किया। प्रभु राम के जन्म के पूर्व राक्षसों का उत्पाद पूरे भारत वर्ष में बढ गया था। ऋषि मुनियों को उनके यज्ञ करते समय असुर कुल के लोग परेशान करते थे। लंका पर रावण ने एकाधिकार जमा लिया था उसने अपने भाई कुबैर के द्वारा बनाई गई। ऐसे विकट समय में प्रभु राम का चेत्र नवरात्रि को अयोध्या के शासक राजा दशरथ के यहां जन्म हुआ।


शिव पार्वती विवाह का प्रसंग का प्रसंग कराया श्रवण
दशरथ भाईजी ने राम कथा के तृतीय दिवस शिव पार्वति विवाह के प्रसंग को श्रवण कराया। सती के रूप में अपनी देह का त्याग करने वाली पार्वती ने कठिन तप तपस्या के बाद शिव को पाया। देवताओं के निवेदन पर भगवान शिव ने पुन: ग्रहस्थ जीवन में प्रवेश करतें हुए हिमालय राजा की पुत्री पार्वति से विवाह किया। दशरथ भाई ने विवाह प्रसंग को मनमोहक रूप से वृतान सुनाया। दशरथ भाई ने कहा कि शिव को राम प्रिय है और राम को शिव प्रिय है।

तुलसीदास ने राम व शिव को एक दूसरे का पूरक बताया है। राम जन्म के कारणो पर प्रकाश डालते हुऐ दशरथ भाईजी ने रामकथा में कहा कि सनातन धर्म के शास्त्रों में राम जन्म के चार कारध बता गए है। तृतीय दिवस की रामकथा के समापन के अवसर पर पुष्पेंद्र भावसार, नारूभाई इंजीनियर, भूपेंद्र सोनी, विनय दुबेला, जयप्रकाश सोनी, धर्मवीर रत्नावत, सुरेश भावसार, सुरेंद्र कुमावत ने राम चरित मानस की पौथी की आरती की।

Nilesh Trivedi Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned