खुल गया राज ,यहां से लड़ेंगे कांग्रेस के यह दिग्गज नेता चुनाव

खुल गया राज ,यहां से लड़ेंगे कांग्रेस के यह दिग्गज नेता चुनाव

By: harinath dwivedi

Updated: 14 Jul 2018, 09:06 PM IST

मंदसौर । मालवा जिसे भाजपा अब तक अपना गढ़ मानती आई है अब उस मालवा को साधने के लिए आने वाले विधानसभा के चुनाव में पूर्व केंद्रीय मंत्री व कांग्रेस के चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया की भी निगाह है। सूत्रों की माने तो मालवा को साधने के लिए सिंधिया मालवा की किसी सीट से चुनाव लड़ सकते है और ऐसे में उनके करीबी रहे पूर्व मंत्री महेंद्रसिंह कालूखेड़ा की जावरा सीट को ही सुरक्षित मानकर वहां से चुनाव लड़ सकते है।कांग्रेस सुत्रों की माने तो यदि पार्टी सिंधिया को सीएम के रुप में प्रोजेक्ट करती है तो सिंधिया दो सीटों से चुनाव लड़ेंगे। इसमें एक तो गुना-अशोकनगर क्षेत्र की कोई सीट और दूसरा मालवा को साधने के लिए वह इसे बेल्ट में जावरा सीट से चुनाव लड़ सकते है। हालांकि अधिकारीक रुप से इसकी अभी कोई पुष्टि नहीं कर रहा है।

मालवा है बेहद खास
मालवा में 65 विधानसभा सीटों पर वर्तमान में 63 पर भाजपा काबिज है और मात्र दो सीट वर्तमान में कांग्रेस के पास है। ऐसे में हर बार की तरह इस बार भी चुनाव में मालवा बेहद खास होने वाला है और सभी की नजर मालवा पर है। सिंधिया की भी मालवा की सीटों पर नजर है। मालवा के लोग जिस पार्टी पर विश्वास दिखाते है उसी की सरकार बनना तय माना जाता है और अब तक ऐसा होता भी आया है। ऐसे में दोनों ही पार्टियों के लिए मालवा बेहद खास होने वाला है। इसलिए सिंधिया के मालवा में मंदसौर संसदीय क्षेत्र की रतलाम जिले की जावरा सीट से चुनाव लडऩे की चर्चाओं ने राजनीति माहौल को ठंडे मौसम को गरम कर दिया है। वहीं दूसरी और महाकाल की नगरी उज्जैन से शनिवार को मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में चुनावी शंखनाद किया और अपनी जनआशीर्वाद यात्रा को वह भाजपा के लिए गढ़ माने जाने वाले मालवा की और लेकर निकलें है। पूर्व में दो बार की तरह तीसरी बार भी सीएम अपने यात्रा को लेकर सबसे पहले मालवा की और निकले है।

कालूखेड़ा से नजदीकियों ने सिंधिया को मालवा में खींचा
सिंधिया की मालवा में सबसे अधिक नजदीकियां पूर्व मंत्री महेंद्रसिंह कालूखेड़ा से थी। कालूखेड़ा के निधन के बाद उनके भाई केकेसिंह कालूखेड़ा ने उनकी राजनीति बिछात पर कदम आगे बढ़ाए है। कालूखेड़ा की नजदीकियों ने सिंधिया को मालवा में खींचा और कालूखेड़ा के जरीए सिंधिया मालवा की राजनीति को प्रभावित करते भी आए है। अब पूर्व मंत्री कालूखेड़ा नहीं है, ऐसे में उनकी रही जावरा सीट से चुनाव लड़कर सिंधिया मालवा की सीटों पर दखल देते हुए इन्हें साधन की जुगत में है। राजनीतिक गलियारों में यह चर्चाओं का विषय भी बना हुआ है।

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned