छोटे उपकरणों सहित कीटनाशक पर सरकार ने किया अनुदान खत्म

छोटे उपकरणों सहित कीटनाशक पर सरकार ने किया अनुदान खत्म

harinath dwivedi | Publish: Jul, 14 2018 11:26:52 AM (IST) Mandsaur, Madhya Pradesh, India

छोटे उपकरणों सहित कीटनाशक पर सरकार ने किया अनुदान खत्म

मंदसौर.
एक और तो सरकार खेती को लाभ का धंधा बनाने के दावे के साथ अनेक योजनाएं लागू कर किसानों के कल्याण की बात कर रही है, वहीं दूसरी और खेती से जुटे छोटे उपकरणों पर इस बार सरकार ने अनुदान को बंद कर दिया है। इस बार से उन किसानों को जो कीटनाशक से लेकर छोटे संसाधन जुटाने में मिलने वाले अनुदान से खेती से जुड़े उपकरण जुटाते थे, अब नहीं जुटा सकेंगे। इसके लाभ से उन्हें वंचित होना पड़ेगा। विभाग की तमाम योजनाओं के लाभ लेने की प्रक्रिया को ऑनलाईन कर दिया है और विभाग को लक्ष्य दिए गए है, लेकिन इन छोटे उपकरणों व दवाईयों का लक्ष्य में प्रावधान ही नहीं दिया गया। यानी २ हजार रुपए से कम जिन चीजों पर अनुदान मिलता था। वह सब इस साल से बंद हो गया है। सरकार के इस निर्णय से छोटे किसान को धक्का लगा है और वह इससे वंचित हो गए है। चुनावी वर्ष में सरकार द्वारा लिए गए इस निर्णय से बड़ी संख्या में किसान इससे वंचित रह जाएंगे। जो किसानो को बड़ा झटका माना जा रहा है। इन दिनों बुआई के बाद खरपतवार से लेकर अन्य काम का दौर शुरु हो गया है और ऐसे में इस अनुदान का प्रावधान खत्म होने के कारण किसान दवा से लेकर छोटे उपकरणों को लेकर चिंतित है।


10 हजार से अधिक किसान लेते है लाभ
खेती से जुड़े छोटे-छोटे उपकरण व फसलों में डाली जाने वाली दवाईयों को जिन पर अनुदान मिलता है। उन पर अनेक किसान अनुदान लेते आ रहे थे। करीब 10 हजार से अधिक किसान इनमें मिलने वाले अनुदान का लाभ लेते आ रहे है। यानी इस बार 10 हजार से अधिक किसान जो इन उपकरणों को अनुदान से लेते थे और दवाईयां लेते थे। उन्हें इस लाभ से वंचित रहना पड़ेगा। जिले में करीब 40 से 45 हजार तक किसानों की संख्या है, लेकिन इस अनुदान का लाभ 10 हजार किसान जो छोटे किसान है, वहीं लेते थे, जो इस बार नहीं ले पाएंगे। अभी सरकार के इस निर्णय से किसान वर्ग अनभिज्ञ है, लेकिन विभाग को इसकी जानकारी है।


इन चीजों पर खत्म हुआ अनुदान
विभाग से मिली जानकारी के अनुसार करीब 10 से 12 ऐसी संसाधव व कीटनाशक दवा है। जिन पर अब तक अनुदान किसानों को मिलता था, लेकिन अब नहीं मिलेगा। यह इससे स्पष्ट होता है कि इस बार जो लक्ष्य आए है, उनमें इन चीजों का प्रावधान ही नहीं है। इनमें मुख्य रुप से कीटनाशक दवा है। क्योंकि सबसे अधिक किसान इस पर अनुदान का लाभ उठाते थे। इसके अलावा स्प्रेपंप, स्पायरल ग्रेडर, चेपगटर, हल-बखर के साथ ही खेती से जुड़े अन्य सामने है। जिन पर इस बार से किसानों को अनुदान नहीं मिलेगा। इन पर किसानों को २५ से लेकर 50 प्रतिशत तक का अनुदान मिलता थ। 500 से लेकर 2 हजार रुपए तक का अनुदान जिन पर दिया जाता था, वह सब इस बार बंद हो गए है।

प्रावधान नहीं है
2 हजार से कम का जिन पर अनुदान किसानों को मिलता था। उनको लेकर इस बार प्रावधान नहीं आया है। कीटनाशक दवा से लेकर छोटे संसाधन व उपकरण जिन पर किसानों को अनुदान मिलता था, उनका इस बार प्रावधान नहीं है। सभी योजनाओं की सभी प्रक्रिया ऑनलाईन हो है।-डॉ. एएस राठौर, उपसंचालक, किसान, कल्याण विभाग, मंदसौर

Ad Block is Banned