बाढ़ के जख्मों पर अब शासन का किश्तों में मरहम

बाढ़ के जख्मों पर अब शासन का किश्तों में मरहम

By: Nilesh Trivedi

Updated: 03 Dec 2019, 11:18 AM IST

मंदसौर.
कर्जमाफी के बाद बाढ़ प्रभावित किसानों को फसल नुकसानी का मुआवजा भी अब किश्तों में मिलेगा। पहले कर्जमाफी किश्तों में हो रही है और अब राहत भी किश्तों में बांटी जा रही है। इसके लिए शासन ने आदेश जारी किया है और प्रशासन ने उस पर काम भी शुरु कर दिया है। जिले में करीब २५० करोड़ रुपए की राशि अभी किसानों को राहत के रुप में बंटना है पर २५ प्रतिशत ही राशि दी जाएगी। यानिकी साढ़े ६२ करोड़ की राशि ही खातों में डाली जाएगी। शेष ७५ प्रतिशत राशि बजट आने पर अगले चरण में दी जाएगी

वहीं फसल बीमा की राशि भी जिले के किसानों को लगातार चार सीजन से नहीं मिली है। इसके साथ ही गेंहू खरीदी में बोनस की प्रोत्साहन राशि से लेकर भावांतर में खरीदी गई सोयाबीन की राशि के अलावा प्याज प्रोत्साहन की राशि का भी जिले के किसानों को अब तक इंतजार है। बाढ़ के जख्म झेल चुके किसानों को मरहम का इंतजार है। पर घोषणाओं के बाद इन जख्मों पर किश्तों में मरहम लगाने का काम किया जा रहा है।


रात में बिल लगाने का काम कर रहा राजस्व अमला
एक महीने से अधिक समय तब बजट के अभाव में राहत राशि वितरण का काम बंद था। अब बजट मिला तो बिल लगाने का काम राजस्व अमले ने शुरु किया। लेकिन इस बार बिल राजस्व अमला रात में लगा रहा है। जिससे की किसानों को राशि जल्द मिल सकें। लेकिन किसानों को नुकसानी की सिर्फ २५ प्रतिशत ही राशि मिलेंगी। जिले में करीब २५० करोड़ बढऩा शेष है, लेकिन कितना बजट मिला। यह पता नहीं। ग्लोबल बजट है। बिल लगाने के साथ खातों में राशि शासन डालेगा, लेकिन शासन ने निर्देश दिए है कि २५ प्रतिशत राशि के ही बिल लगाए जाए। ऐसे में किसानों को उनकी नुकसानी के आंकलन के मान से २५ फीसदी ही राहत राशि अभी दी जाएगी।


60 फीसदी को है इंतजार
जिले में इस बार बाढ़ आपदा का सबसे ज्यादा २४० करोड़ रुपए का मुआवजा व राहत की राशि अब तक वितरित हो चुकी है। फिर भी जिले के ६० प्रतिशत किसानों को अभी भी फसल नुकसानी के मुआवजे की राशि का इंतजार है। प्रशासन का दावा है कि पशु और मानव हानि से लेकर आवास के अलावा अन्य नुकसान की क्षतिप्रतिशत राशि वितरित हो चुकी है और सिर्फ फसल नुकसानी की राशि ही बाकी है। खरीफ की सवा तीन लाख हैक्टेयर की फसल खराब हुई।

Nilesh Trivedi Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned