४३ लाख बकाया वसूलने राजस्व टीम पहुंची तो बनाया फांसी का फंदा

- कार्रवाई रोकने के लिए बनाया दबाव

By: harinath dwivedi

Published: 24 May 2018, 04:37 PM IST

मंदसौर.
जिला अस्पताल के सामने पांडव मार्केट में द्वितीय तल की दुकानें अवैध होने से नपा द्वारा उसे अधिग्रहित किया है। इसी के लिए नपा के ४३ लाख रुपए की वसूली के लिए बुधवार को नपा की टीम नपती के लिए पहुंची थी। हालांकि मामला न्यायालय में विचाराधीन है, परंतु इंजीनियरों द्वारा नपती कर अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की जानी है, इस कारण टीम बुधवार को नपती के लिए पहुंची थी। पुलिस के साथ नपा की टीम को देखते हुए मार्केट के संचालक ने कार्रवाई रोकने के भरसक प्रयास किए। इस दौरान संचालक ने फंदा बनाकर गले में डाल लिया और कार्रवाई रोकने के लिए टीम पर दबाव बनाने का भी प्रयास किया।
पांडव मार्केट पर नपा का करीब ४३ लाख रुपए बकाया है। इस राशि की वसूली के लिए न्यायालय में प्रकरण भी चल रहा है। वसूली के लिए नपा की राजस्व टीम बुधवार दोपहर को बाजार की दुकानों और वहां की जमीन की नपती करने के लिए पहुंची थी। टीम में उपयंत्री महेशचंद्र शर्मा, सहायक यंत्री रमेशचंद्र तोमर, राजेश दावरे और टाइम कीपर सुधीर दुबे के साथ कोताली पुलिस मौजूद थे। टीम अपनी कार्रवाई कर रही थी, तभी मार्केट के संचालक नरेंद्र मनकानी भी वहां पहुंच गए। पहले तो उन्होंने कार्रवाई की जानकारी मांगी और नपती के आदेश की जानकारी चाही। इसके साथ ही उन्होंने कई अधिकारियों से भी फोन पर चर्चा की। संतुष्ट जवाब न मिलने पर मनकानी ने मार्केट में पड़ी एक रस्सी पिल्लर पर बांधकर फंदा बना लिया और फंदा गले में डालकर कार्रवाई करने वाली टीम पर दबाव बनाने का प्रयास किया। हालांकि इस दौरान पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए मनकानी को कब्जे में लिया। इसके बाद भी मनकानी हंगामा करते रहे। हालांकि इंजीनियरों की टीम ने अपनी कार्रवाई पूरी की है, जल्द ही वे अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे। इस संबंध में सीएमओ सविता प्रधान का कहना था कि वसूली के लिए टीम गई थी, हालांकि उन्होंने अभी तक रिपोर्ट प्रस्तुत नहीं की है।
----------------

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned