Video # में देखिए, तेली समाज के लोग क्यों उतरे सडक़ पर

Video # में देखिए, तेली समाज के लोग क्यों उतरे सडक़ पर

By: Rahul Patel

Published: 19 Jan 2019, 02:47 PM IST

मंदसौर.
नगरपालिका अध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की निर्मम हत्या की निष्पक्ष जांच की मांग को लेकर चारभुजानाथ मूर्ति मंदिर ट्रस्ट पंच कचेलियान तेली समाज ने ज्ञापन दिया। समाजजनों ने शहर के कंट्रोल रुम परिसर में पहुंचकर राज्यपाल के नाम का ज्ञापन डीएसपी भारत भूषण चौधरी को दिया। ज्ञापन में कहा गया कि बंधवार की हत्या की गोली मारकर हत्या की तेली (राठौर) समाज घोर निंदा करता है। बंधवार मंदसौर के निवासियों एवं तेली समाज के धार्मिक कार्यो में हमेशा बढ़- चढक़र हिस्सा लेने वाले, दुख की घड़ी में हमेशा खड़े रहने वाले एवं समाज के हर कार्य में तत्पर रहकर कार्य करने वाले जननायक थे। जिसकी इस तरह निर्मम हत्या से समाजजनों को गहरा आघात पहुंचा है। बंधवार के नहीं रहने से संपूर्ण मंदसौर के निवासियों एवं संपूर्ण समाज को भारी क्षति हुई है, जिसकी पूर्ति नहीं की जा सकती है। ज्ञापन में मांग की गई कि उक्त घटना की निष्पक्ष जांच कराई जाएं। घटना के पीछे कौन व्यक्ति है, इसकी जांच भी की जाएं ताकि भविष्य में इस प्रकार की घटना की पुनरावृत्ति ना हो। साथ ही असामाजिक तत्वों की धरपकड़ कर पुलिस दंडात्मक कार्रवाई करें। इससे शहर में समाज के व्यक्तियों में भय का वातावरण उत्पन्न हो सके। ज्ञापन देने वालों में समाज के अध्यक्ष नंदलाल राठौर, राजकुमार आडा, रामचंद्र सोलंकी, डाडमचंद परमार, अंबालाल गेहलोत, विनोद गेहलोत, मांगीलाल सोलंकी, भेरुलाल सिसौदिया, लक्ष्मीनारायण नकुम सहित कई लोग उपस्थित थे।

दोपहर 12 बजे खाना खाने आए थे, फिर नहीं लौटे
उल्लेखनीय है कि नपाध्यक्ष स्व. प्रहलाद बंधवार के लिए शहर ही उनका घर था और शहरवासी उनका परिवार। घर से ज्यादा समय वे अपने शहर में रहते थे। किसी का भी फोन आ जाता था तो परिवारजनों को कुछ बताए बिना ही वे तुरंत पहुंच जाते थे। गरीब व मध्यम वर्ग की सहायता के लिए वे हमेशा तत्पर रहते थे। यह बात ‘पत्रिका’ से चर्चा में ‘दादा’ के परिजनों ने कहीं। पुत्र नरेंद्र बंधवार ने बताया कि उन्होंने आखिरी बार उन्हें तीन दिन पहले देखा था। चूंकि उनके घर आने- जाने का कोई समय निर्धारित नहीं था, ऐसे में नरेंद्र के उठने से पहले ही वे घर से निकल जाते थे। वहीं रात में ११-१२ बजे तक आते थे। वहीं नरेंद्र की माता कौशल्या बंधवार के अनुसार आखिरी बार वे घर पर गुरुवार की दोपहर १२ बजे भोजन करने के लिए आए थे। उसके बाद से वे शहर में ही थे। रात को उनको गोली मारने की सूचना मिली। परिवारजनों ने आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग की है। उल्लेखनीय है कि प्रहलाद के दो पुत्र नरेंद्र व लखन एवं पुत्री हितेशा है।

Patrika
Rahul Patel Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned