नगर पालिका अध्यक्ष चाय पीकर निकले और यह कहकर मारी गोली....पढ़े यहां

नगर पालिका अध्यक्ष चाय पीकर निकले और यह कहकर मारी गोली....पढ़े यहां

By: Vikas Tiwari

Published: 19 Jan 2019, 07:58 PM IST

मंदसौर.
नगर पालिका अध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की २५ हजार रूपए और चुनाव जीतने के बाद कोई फायदा नहीं पहुंचाने को लेकर आरोपी मनीष बैरागी ने हत्या कर दी है। इस बात का खुलासा कंट्रोल रूम पर आयोजित प्रेस वार्ता में पुलिस अधीक्षक तुषारकांत विद्यार्थी ने किया। पुलिस ने आरोपी मनीष को पिस्टल देने वाले अजय जाट को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। जिसे पुलिस रविवार को न्यायालय में पेश करेगी। पुलिस ने आरोपी मनीष को न्यायालय में पेश किया, जहां से उसे २३ जनवरी तक पुलिस रिमांड पर सौंपा है। पुलिस ने अंकुर आपर्टमेंट के पीछे उसके ऑफिस में दरी के नीचे से बरामद की। पुलिस ने ३२ बोर की पिस्टल, दो मैगजीन एवं सात जिंदा कारतूस बरामद किए।
पुलिस अधीक्षक तुषारकांत विद्यार्थी ने बताया कि आरोपी मनीष बैरागी नगर पालिका अध्यक्ष प्रहलाद बंधवार को कई सालों से जानता था। नगर पालिका के चुनाव में भी आरोपी ने सक्रिय योगदान दिया। चुनाव में होर्डिंग्स लगवाने के गोलू जाट को डेढ़ लाख रूपए दिए थे। इसमें ५० हजार एक बार नगर पालिका अध्यक्ष बंधवार ने गोलू के माध्यम से रूपए मनीष को भिजवाएं और बाद में ७५ हजार रूपए स्वयं ने भी मनीष को दिए। इस तरह एक लाख २५ हजार रूपए वापस दे दिए थे। बाकी बचे २५ हजार रूपए देने का वादा किया था। आरोपी ने पुलिस को बताया कि जब वह दादा से कहता था कि रूपए चाहिए तो वे कहते थे कि गोलू हिसाब कर बताए तो पैसे दूंगा। गोल के पास जाता था तो गोलू दादा का नाम बोलता था। लेकिन कई बार रूपए मांगने के बाद भी नहीं मिले। चुनाव के दौरान आरोपी को उसके मकान एवं दुकान का पट्टा देने का भरोसा दिलाया था। लेकिन वह उसे नहीं मिले। आरोपी ने पुलिस को बताया कि चुनाव के बाद उसके साथियों को निर्माण कार्यो का ठेके आदि कार्य दिए जा रहे थे। जिसमें गोलू शाह की गाडी भी नगर पालिका में अटैच थी। स्वीमिंग पुल का कार्य भी किया। लेकिन उसे कोई कार्य नहीं मिल रहा था। आर्थिक तंगी से गुजर रहा था तभी इसने नगर पालिका अध्यक्ष को मारने का प्रण ले लिया। और हत्या कर दी।

Vikas Tiwari Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned