कांग्रेस पार्षद शेख बने नपा कार्यवाहक अध्यक्ष

कांग्रेस पार्षद शेख बने नपा कार्यवाहक अध्यक्ष

मंदसौर.
मंदसौर नगर पालिका में कांग्रेस पार्षद हनीफ शेख को शासन ने सोमवार को नपा का कार्यवाहक अध्यक्ष बनाया है। नगरीय प्रशासन विकास विभाग के राजीव निगम ने इसके आदेश जारी किए है। इसमें आगामी आदेश तक शेख नपा में अध्यक्ष का कामकाज संभालेंगे। लंबे समय से शेख के अध्यक्ष बनने की अटकले चल रही थी। कई बार सोशल मीडिया पर खबर वायरल हुई। लेकिन आदेश नहीं मिला। और अब सोमवार को आखिरकार नपा को अध्यक्ष मिल गया। करीब ४० सालों बाद नपा में कार्यवाहक ही सही लेकिन कांग्रेस का अध्यक्ष बना है। ऐसे में कांग्रेस ने शाम को जश्न मनाया। शेख ने भी कार्यकर्ताओं और पार्टी नेताओं के साथ मिठाईयों के साथ अध्यक्ष बनने की खुशीयां मनाई।
६ माह से खाली पड़ी कुर्सी, अब कामों को मिलेगी गति
१७ जनवरी को नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की हत्या के बाद से नपाध्यक्ष की कुर्सी खाली पड़ी है। शासन ने संयुक्त कलेक्टर को वित्तीय अधिकार दिए जरुर लेकिन इससे जनता से जुड़े काम नहीं हुए और न हीं सरकार की योजनाओं के भी। ऐसे में अब अध्यक्ष की नियुक्ति के बाद नामांतरण से लेकर अन्य तमाम प्रकार के ६ माह में लंबित पड़े कामों को गति मिलेंगी।
भाजपा की बहुमत वाली परिषद में कांगे्रस पार्षद अध्यक्ष
भाजपा की बहुमत वाली परिषद में अब कांग्रेस पार्षद को शासन ने अध्यक्ष नियुक्त किया है। ऐसे में नए कामों को मंजूर कराने से लेकर पीआईसी की बैठक व परिषद के कामों के अलावा विकास कार्यों को आगे बढ़ाना नपा में शेख के लिए चुनौती भरा साबित होगा। नपा में उपाध्यक्ष भी भाजपा का है तो बहुमत भी भाजपा के पास है। ऐसे में अध्यक्ष के रुप में शेख के लिए नपा से जुड़े कामों को आगे बढ़ाना टेढ़ी खीर होगा।
पहले दिन से ही शेख की थी मजबुत दावेदारी
कार्यवाहक अध्यक्ष की नियुक्त की प्रारंभिक चर्चाओं के साथ ही शेख की दावेदारी मजबुत दी। शेख को संगठन से लेकर पार्टी के नेताओं का सहयोग मिला था। पूर्व विधायक नवकृष्ण पाटिल से लेकर जिलाध्यक्ष प्रकाश रातडिय़ा व अन्य नेता शेख के समर्थन में थे और कई पार्षदों को लेकर शेख पूर्व में भोपाल में शक्ति प्रदर्शन भी कर चुके थे। लंबे समय से नियुक्ति रुकी हुई थी, लेकिन तमाम राजनीतिक जोरआजमाईश के बाद भी शासन स्तर से फैसला शेख के समर्थन में हुआ और सोमवार को आदेश जारी हो गए।
कांग्रेस ने किया स्वागत, भाजपा ने कहा उपचुनाव कराए सरकार
लंबे समय बाद तमाम राजनीतिक उठापटक के बाद कार्यकारी अध्यक्ष के आदेश जारी हुए है। ऐसे में कांग्रेस ने इसका स्वागत किया है। लेकिन सरकार के इस निर्णय का भाजपा विरोध कर रही है। भाजपा का कहना है कि कार्यकारी अध्यक्ष सरकार किसी को भी नियुक्त करें, लेकिन उसका समय था। उस समय नहीं किया। अब ६ माह से अधिक समय हो गया अध्यक्ष की कुर्सी खाली है। एक्ट के अनुसार उपचुनाव होना थे, लेकिन सरकार उपचुनाव कराने क बजाए अब अध्यक्ष नियुक्त कर रही है। इस मामले में भाजपा पार्षद राम कोटवानी पहले ही हाईकोर्ट में याचिका लगा चुके है तो भाजपा जिलाध्यक्ष राजेंद्र सुराणा ने कहा कि सरकार उपचुनाव कराने से डर रही है। अब चुनाव का समय था। अध्यक्ष की नियुक्ति का समय बीत गया है।

Nilesh Trivedi
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned