अंडरब्रिज निर्माण का उलझा पेंच, वैकल्पिक मार्ग की तलाश

harinath dwivedi

Publish: Feb, 15 2018 08:52:58 PM (IST)

Mandsaur, Madhya Pradesh, India
अंडरब्रिज निर्माण का उलझा पेंच, वैकल्पिक मार्ग की तलाश

पटरी के समानांतर सड़क बनाकर गीता भवन अंडरब्रिज का उपयोग की मांग पर कलेक्टर ने किया क्षेत्र का निरीक्षण

मंदसौर । सालो की मशक्कत के बाद मिड इंडिया रेलवे फाटक अंडरब्रिज का प्रस्ताव स्वीकृत हुआ। इसके लिए ड्राइंग डिजाइन भी नगरपालिका ने तैयार की और रेलवे विभाग ने भी अंडरब्रिज के प्रस्ताव को स्वीकृत कर दिया। इसके बाद भी अंडरब्रिज निर्माण का पेंच उलझ गया है। मिड इंडिया रेल्वे फाटक क्षेत्र के व्यापारियों ने कुछ दिन पहले कलेक्टर को ज्ञापन देकर अंडरब्रिज बनाने की बजाय वैकल्पिक मार्ग बनाने का सुझाव दिया था। इसी तारतम्य में गुरुवार को कलेक्टर ओपी श्रीवास्तव ने एसडीएम एसएल शाक्य, नगरपालिका सीएमओ सविता प्रधान, कार्यपालन यंत्री सुधीर जैन, उपयंत्री राजेश उपाध्याय व क्षेत्रीय पार्षद पति आशीष गौड के साथ निरीक्षण किया। उन्होंने पूरे मिड इंडिया रेल्वे फाटक क्षेत्र से गीता भवन अंडरब्रिज तक निरीक्षण किया।
उद्देश्य था कि क्या रेलवे फाटक पर अंडरब्रिज बनाए बगैर अभिनंदन क्षेत्र की कॉलोनियों के लोगों की आवाजाही बगैर रोक-टोक के सुगम हो सकेगी। अर्थात् मिड इंडिया रेल्वे फाटक बंद होने के बाद भी लोग वैकल्पिक मार्ग से गीता भवन अंडरब्रिज तक वाहनों के साथ आ-जा सकेंगे।
यह लोगों का प्रस्ताव
मिड इंडिया रेल्वे फाटक से गीता भवन अंडर ब्रिज तक रेलवे पटरी के समानांतर सड़क बनाए जाने का प्रस्ताव है, यह सड़क दशरथ नगर की तरफ से कोठारी कॉलोनी व रेल्वे की पटरी के बीच की जमीन पर बनाया जा सकता है। यह एक तरह से लिंक रोड है। लोगों का कहना हैकि लिंक रोड बनने से व्यापार-व्यवसाय भी प्रभावित नहीं होगा। नगरपालिका के उपयंत्री राजेश उपाध्याय ने कहा कि अभी रेल्वे अंडरब्रिज बनाने के कार्य में अभी कोईगति नहीं है। कलेक्टर श्रीवास्तव ने लोगों द्वारा सुझाए गए वैकल्पिक मार्गस्थल का निरीक्षण किया है। तकनीकी परीक्षण के बाद कलेक्टर द्वारा जो दिशा- निर्देश दिए जाएंगे, उस अनुसार कार्य किया जाएगा।
कलेक्टर का कहना...
कलेक्टर ओपी श्रीवास्तव ने कहा कि व्यापारियों सहित कुछ लोगों ने मिड इंडिया रेलवे फाटक पर अंडरब्रिज बनाने की बजाय रेल्वे पटरी के समानांतर सड़क बनाकर सड़क बनाकर उसे गीता भवन अंडरब्रिज तक जोडऩे का प्रस्ताव दिया था। इसी बात को लेकर उन्होंने पूरे मार्ग स्थल का निरीक्षण किया है। अब तकनीकी दल द्वारा इस पूरे मामले को दिखवाया जाएगा। यह मार्ग फिजिबल है अथवा नहीं, यहां कईकोई परेशानी तो नहीं होगी, निजी जमीन है या नहीं यदि है तो संबंधित व्यक्ति निजी जमीन देने को राजी हैया नहीं। क्या नियमानुसार जमीन को अधिग्रहित किया जा सकता है, यातायात का दबाव कितना होगा। वर्तमान में गीता भवन अंडरब्रिज क्षेत्र में यातायात का दबाव कितना है, ऐसे कईपहलुओं पर दक्ष इंजीनियरों से निरीक्षण कराया जाएगा। यदि सब कुछ ठीक रहा तो वैकल्पिक मार्गके मामले में प्रस्ताव बनाएंगे। वर्तमान में मिड इंडिया रेल्वे फाटक अंडरब्रिज का प्रस्ताव रेल्वे ने स्वीकृत तो किया है।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned