scriptNapa does not have any plan for the roads of the city, only doing it w | शहर की सडक़ो के लिए नपा के पास नहीं कोई योजना, सिर्फ मुरम और पेचवर्क से कर रहे इतिश्री, दचको व हिचकोले का दर्द झेल रहा शहर | Patrika News

शहर की सडक़ो के लिए नपा के पास नहीं कोई योजना, सिर्फ मुरम और पेचवर्क से कर रहे इतिश्री, दचको व हिचकोले का दर्द झेल रहा शहर

शहर की सडक़ो के लिए नपा के पास नहीं कोई योजना, सिर्फ मुरम और पेचवर्क से कर रहे इतिश्री, दचको व हिचकोले का दर्द झेल रहा शहर

मंदसौर

Published: August 03, 2022 05:55:44 pm

मंदसौर.
नगर पालिका ने शहर की सडक़ो के पेचवर्क और सुधार के नाम पर कुछ माह पहले ही दो करोड़ की मोटी रकम खर्च की थी। लेकिन काम बारिश में बह गया। फिर से शहर के आंतरिक मार्ग की ३६ किमी की सडक़े बेदम हो गई और जानलेवा गड्ढें उभर आए है। नपा के पास शहर की खस्ताहाल सडक़ो को सुधारने के लिए कोई योजना नहीं है सिर्फ पेचवर्क और गिटट्टी, मिट्टी और मुरम भरकर खानापूर्ति की जाती है। वहीं हिचकोले और उड़ती धुल के साथ दचको का दर्द झेलना शहर की मजबुरी बन गया है। आम लोग हर दिन इन सडक़ो से गुजरते हुए हिचकोले खाने और परेशानियों से जुझने को मजबुर है। सिस्टम की विडबंना तो यह है कि जिन बदहाल हो चुकी सडक़ो से नपा से लेकर प्रशासन के जवाबदार अधिकारी हर दिन गुजरते है वह इन्हें देखकर भी अनदेखा कर रहे है। नपा ने परिषद का कार्यकाल समाप्त होने के बाद से अधिकारी संचालन कर रहे है। ऐसे में कई बार मुरम से लेकर पेचवर्क के रुप में सुधार के लिए प्रयोग हुआ लेकिन स्थिति ढाक के तीन पात है।
शहर की सडक़ो के लिए नपा के पास नहीं कोई योजना, सिर्फ मुरम और पेचवर्क से कर रहे इतिश्री, दचको व हिचकोले का दर्द झेल रहा शहर
शहर की सडक़ो के लिए नपा के पास नहीं कोई योजना, सिर्फ मुरम और पेचवर्क से कर रहे इतिश्री, दचको व हिचकोले का दर्द झेल रहा शहर

दो करोड़ के काम के बाद भी नहीं दम भर पाई सडक़ें
कलेक्टर गौतमसिंह ने मंदसौर आने के बाद नपा प्रशासन का कामकाज संभालने के साथ ही पूरे शहर की खस्ताहाल और गड्ढों वाली सडक़ो को सुधारने के लिए दो करोड़ रुपए में सुधार कार्य करने के निर्देश दिए थे। नपा ने इस पर काम किया और कलेक्टर के निर्देश के अनुरुप टेंडर लगाए तो उसमें नियम व शर्तों को लेकर बखेड़ा खड़ा हो गया। इसके चलते दोबारा टेंडर निकालना पड़े और काम हुआ तो सडक़ों पर डामर की पतर चढ़ाकर खानापूर्ति कर दी गई। अब जब इस बार मंदसौर में कम बारिश हुई तो भी पूरे शहर की सभी आंतरिक सडक़े बेदम हो गई। ऐसे में दो करोड़ का काम भी दम नहीं भर पाया और दो करोड़ का काम बारिश के पानी के साथ बह गया। विडबंना तो यह है फिर भी इस पर कोई संज्ञान लेकर कार्रवाई करना तो ठीक जांच तक नहीं करवा पा रहा है।

पैंबद और मुरम डालकर हर बार करते है लीपापोती
हर बार बारिश आने के साथ शहर की सडक़ो का यही हाल होता है। पैंबद लगाकर तो कही मुरम डालकर गड्ढों को भरने की लीपापोती हर साल की जाती है, लेकिन खस्ताहाल हो रही सडक़ो को स्थायी रुप से संवारने के लिए पिछले कई सालों से नपा ने कोई काम नहीं किया है। मुरम डालने के नाम पर हर साल बारिश में बड़े पैमानें पर नपा के दफ्तरों में लीपापोती होती आई है। शिकायतों के बाद भी ना तो कभी जांच होती है और ना ही कभी कार्रवाई।

विकास के वादों को मुंह चिढ़ा रहे सडक़ो के गड्ढें
शहर की सडक़ो से हर आम व खास परेशान है। विकास के बड़े दावों को सडक़ो के जानलेवा गड्ढें मुंह चिढ़ा रहे है। बारिश के बाद इन गड्ढों में पानी इतना भरा है कि गड्ढों की गहराई तक पता नहीं चल पा रहा है। दो करोड़ की राशि कुछ माह पहले खर्च करने के बाद अब फिर से वहीं स्थिति बनने के बाद फिर गड्ढों में सडक़ें गुम हो रही है लेकिन नपा के पास इन्हें सुधारकर जनता को राहत देने के लिए कोई योजना नहीं है।

काम होने से पहले ही उठे गुणवत्ता पर सवाल फिर भी कर दिया भुगतान
वहीं नपा के अपने दावे है। जिस ठेकेदार को काम दिया है था। काम के दौरान ही गुणवत्ता पर सवाल खड़े हुए तो काम तो रोका लेकिन राशि का भुगतान कर दिया। अब फिर बारिश के बाद उसी से बचा हुआ काम कराने की तैयारी है।

गुणवत्ता पर उठे सवाल इसलिए रुकवाया काम
दो करोड़ में शहर की सडक़ो को संवारने के काम की शुरुआत की थी। इसकी गुणवत्ता पर सवाल उठा तो काम रुकवाया दिया है। बारिश के बाद फिर काम शुरु करवाएंगे। ठेकेदार को कुछ राशि का भुगतान किया है। -पीके सुमन, सीएमओ

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

अरविंद केजरीवाल ने जारी किया मिस्ड कॉल नंबर, भारत को नंबर वन देश देखने वालों से की घंटी बजाने की अपीलCBI Raids Manish Sisodia House Live Updates: बीजेपी ने मनोज तिवारी ने कहा- मनी लॉन्ड्रिंग एंगल से भी इस मामले में जांच होनी चाहिएबंगाल, महाराष्ट्र में भी ED के छापे, उनके सामने तो मैं तिनका हूँ, 'सांसद अफजाल अंसारी ने दी चुनौती- पूर्वांचल हमारा ही रहेगा'बिलकिस बानो केसः 6000 से अधिक सामाजिक कार्यकर्ताओं ने सुप्रीम कोर्ट से दोषियों की रिहाई को रद्द करने की मांग कीMumbai: दही हांडी उत्सव के बीच मुंबई में बड़ा हादसा, बोरीवली इलाके में चार मंजिला इमारत ढही, कई लोगों के दबे होने की आशंकाक्यों मनीष सिसोदिया के घर पर CBI कर रही छापेमारी? जानिए क्या है पूरा मामलाअमित शाह का भोपाल दौरा, चार राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बनाएंगे खास रणनीतिJanmashtami 2022: मुंबई और ठाणे में इन जगहों पर लगी है सबसे उंची दही हांडी, 10 थर लगाने पर 21 लाख का इनाम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.