शनिदेव को मनाने मंदिरों में पहुंचे श्रद्धालु, किया तेलाभिषेक

शनिदेव को मनाने मंदिरों में पहुंचे श्रद्धालु, किया तेलाभिषेक

harinath dwivedi | Publish: Aug, 12 2018 03:37:26 PM (IST) Mandsaur, Madhya Pradesh, India

शनिदेव को मनाने मंदिरों में पहुंचे श्रद्धालु, किया तेलाभिषेक

मंदसौर.
शनिश्चर अमावस्या के अवसर पर शहर सहित जिले भर के शनिदेव मंदिरो में शनिवार को श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रही। शहर के खानपुरा स्थित शनि मंदिर में शनिवार को श्रद्धालुओं की भीड़ रही। भगवान शनिदेव को मनाने के लिए श्रद्धालुओं ने उनका तेलाभिषेक कर पूजन- अर्चन किया। सुबह ६ बजे से ही मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़ लगने लगी थी जो देर रात्रि तक जारी रही। श्रद्धालुओं ने कतारबद्ध होकर बारी- बारी से भगवान शनि को मनाने का प्रयास किया।


251 फीट की नींबू की माला के साथ निकाली यात्रा
हरियाली अमावस्या के अवसर पर पिंडा गांव से 251 फीट की नींबू की माला के साथ यात्रा निकाली गई। जो प्रमुख मार्गो से होती हुई पिंडा से आकोदड़ा माताजी तक पहुंची। लदूसा में गांव वासियों ने यात्रा में शामिल लोगों का स्वागत किया। वहीं शासकीय माध्यमिक विद्यालय लदुसा में हरियाली अमावस्या पर्व पर केले प्रसाद के रूप में बाटे गए। इस अवसर पर गोपाल धाकड़, महेश व्यास, नानालाल गाजी, राधेश्याम धनगर उपस्थित थे। वही मगराना के चारभुजानाथ मंदिर में प्रसादी का आयोजन हुआ। आयोजन बूढा के वगाडिया परिवार की ओर से हुआ। कार्यक्रम में बूढा, मगराना, चिल्लोद पिपलिया, सुथार खेड़ा के श्रद्धालुओं ने प्रसादी ग्रहण की।


जयेश्वर महादेव का अद्र्धेश्वर रूप में किया मनमोहक हरित श्रृंगार
भैंसोदा ग्राम सहित आसपास के क्षेत्र में शनिवार को हरियाली एवं शनिचरी अमावस्या का पर्व बड़ी ही श्रद्धा एवं आस्था और उल्लास से मनाया गया। सुबह से ही ग्राम के जयेश्वर महादेव मंदिर शिवालय, नीलकंठेश्वर महादेव मंदिर भैंसोदामंडी सहित कई मंदिरो में धार्मिक आयोजन हुए। ग्राम के रूपानदी तट स्थित जयेश्वर महादेव मंदिर में भगवान शिव के शिवलिंग का शिवमित्र मंडल द्वारा हरियाली अमावस्या होने के कारण हरे मावे एवं मोतियों से अद्र्धेश्वर महादेव की आकृति बनाकर मनमोहक एवं आकर्षक श्रृंगार किया गया। सुबह से मंदिरो में भगवान शिव के दर्शन के लिए दर्शनार्थियों का तांता लगने लगा जो सांयकाल तक जारी रहा। सांयकाल 7 बजे भगवान शिव की महाआरती हुई एवं प्रसाद वितरण किया गया। वहीं भैंसोदा क्षेत्र के भैंसोदामंडी स्थित नीलकंठेश्वर महादेव का भी केसरिया रंग एवं मावे व् सूखे मेवे से मनमोहक श्रृंगार किया गया। साथ ही भगवान शिव को पगड़ी भी पहनाई गई जो आकर्षण का केंद्र रही।
-------------------------

Ad Block is Banned