बैठक का बहिष्कार करना पड़ा महंगा, एक सचिव निलंबित, 7 को कारण बताओ नोटिस

बैठक का बहिष्कार करना पड़ा महंगा, एक सचिव निलंबित, 7 को कारण बताओ नोटिस

harinath dwivedi | Publish: Jul, 14 2018 12:08:47 PM (IST) Mandsaur, Madhya Pradesh, India

बैठक का बहिष्कार करना पड़ा महंगा, एक सचिव निलंबित, 7 को कारण बताओ नोटिस

मंदसौर/गरोठ.


गरोठ जनपद में जिला पंचायत सीईओ की बैठक का बहिष्कार कर नारेबाजी कर अनुशासनहीनता करने के आरोप में एक सचिव को कलेक्टर ने निलंबित किया है। वहीं इसी मामले में 7 पंचायत सचिवों को कारण बताओ नोटिस जारी किए जाने की कार्रवाई की है। उल्लेखनीय है कि जिला पंचायत सीईओ आदित्यसिंह द्वारा विगत माह गरोठ जनपद पंचायत में पंचायतो में शासकीय योजना मनरेगा, पीएम हाउस आदि के कार्यो की प्रगति समीक्षा बैठक के दौरान सीईओ पर अभद्रतापूर्वक आरोप लगाकर पंचायत व रोजगार सहायक सचिवो ने बैठक का बहिष्कार कर बाहर निकलकर नारेबाजी की थी। मामला बढ़ता देख सूचना मिलने पर मौके पर पुलिस बल पहुंचा था तब जाकर मामला शांत हुआ था। इसके बाद कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव ने ग्राम पंचायत खजुरीरुण्डा के पंचायत सचिव सुनील शर्मा को निलंबित कर 6 पंचायत सचिवो सहित एक रोजगार सहायक सचिव को कारण बताओ नोटिस दिए है। निलबंन आदेश के अनुसार समीक्षा बैठक में सीईओ द्वारा अल्प प्रगति वाली पंचायत सचिवों से कारण पूछने पर बैठक का बहिष्कार करना अनुशासन हीनता की श्रेणी में आता है जो सचिव द्वारा किया गया है। निलंबन अवधि के दौरान सचिव का मुख्यालय गरोठ जनपद पंचायत रहेगा।


इन 7 को दिए कारण बताओ नोटिस
इसी प्रकार इस मामले में क्षेत्र की 6 अन्य ग्राम पंचायतों के सचिव मोहनलाल शर्मा, श्यामसिंह तंवर, नारायणसिंह, देवीलाल हतोलिया, नंदलाल व्यास, अर्जुन मीणा तथा रोजगार सहायक सचिव राजबहादुरसिंह को कारण बताओ नोटिस जारी किया गए है।


यह था मामला
22 जून को गरोठ जनपद पंचायत में ग्राम पंचायतों के कार्यो की समीक्षा बैठक में सीईओ द्वारा प्रगति रिपोर्ट के बारे में पूछताछ करने के दौरान सीईओ द्वारा कहे गए शब्दो से नाराज होकर पंचायत व रोजगार सहायक सचिवो ने बैठक का बहिष्कार कर बाहर निकलकर नारेबाजी की थी उस समय सचिवो का आरोप था कि जिला पंचायत सीईओ द्वारा कहा गया था कि यदि सही तरीके से कार्य न किया तो वह धूप में खड़े कर कार्य करवाएंगे। मामला बढ़ता देख मौके पर एएसपी सहित पुलिस बल ने पहुंचकर मामले को शांत किया था। अब जाकर अनुशासनहीनता करने के आरोप में कलेक्टर ने एक सचिव का निलबंन और 7 को कारण बताओ नोटिस दिए है।

Ad Block is Banned