स्वाति नक्षत्र में घर-घर विराजेंगे गणपति

स्वाति नक्षत्र में घर-घर विराजेंगे गणपति

harinath dwivedi | Publish: Sep, 11 2018 10:00:18 PM (IST) Mandsaur, Madhya Pradesh, India

स्वाति नक्षत्र में घर-घर विराजेंगे गणपति

मंदसौर । शहर सहित पूरे जिले भर में रिद्धी-सिद्धी के दाता एवं विघ्नहर्ता भगवान गणेश महोत्सव गुरुवार से शुरु हो रहा है। ढोल-ढमाकों व बैंड-बाजों के साथ हर कोई गुरुवार को विघ्नहर्ता को प्रतिष्ठानों, घरों व पांडालों में विराजित करेंगे। बच्चें से लेकर बुजुर्गो तक हर कोई इस पर्व को मनाने को लेकर उत्साहित है। गणपति की स्थापना के बाद से ही १० दिनों तक भगवान की पूजा-अर्चना का दौर प्रतिदिन जारी रहेगा। पंडित कैलाशचंद्र भट्ट के अनुसार इस दिन भाद्रपद शुक्ल पक्ष की चतुर्थी, गुरुवार का दिन और स्वाति नक्षत्र है। गणेश जी को लड्डू, चंदनयुक्त दुबी, कुमकुम आदि चढ़ाना चाहिए। लड्डू, केला और पान का भोग लगाना भी फलदायक माना जाता है।
१६० से अधिक स्थानों पर विराजेंगे गणेश
जानकारी अनुसार प्रतिवर्ष की तरह इस बार भी घरों, दुकानों व विभिन्न संस्थानों के साथ ही शहर में करीब 160 से अधिक सार्वजनिक स्थानों पर गणपति स्थापना होगी। इनमें से करीब 25 पांडाल आकर्षण का केन्द्र रहेंगे। शहर में कई ऐसे पांडाल है, जिन्होंने अन्य स्थानों से गणेशजी की महंगी प्रतिमाएं बुलवाई है। जिले में करीब ४०० से अधिक स्थानों पर मूर्ति कलाकारों ने अलग-अलग तरह की भगवान गणपति की मूर्तियोंं से बाजार सजाया। एक अनुमान के मुताबिक करीब ८ हजार से अधिक पीओपी से बनी प्रतिमाएं घर, संस्थाओंं व पांडालो में सोमवार को विराजित होगी। इसके अलावा ५ हजार से अधिक इको फ्रेंडली प्रतिमाएं भी विराजित होगी। आयोजन करने वाले गणेश मंडलों द्वारा उत्सव की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। शहर सहित जिलेभर के गणेश मंदिरों में साज-सज्जा के साथ ही अन्य आवश्यक कार्य जारी है।
भक्तों को लुभा रही बप्पा प्रतिमाएं
शहर में इस बार विभिन्न आकृतियों में गणेशजी की प्रतिमाएं बिकने आई है। शहर के बीपीएल चौराहे से लेकर अस्पताल मार्ग तक, बीपीएल से नई आबादी मार्ग सहित कई स्थानों पर बड़ी संख्या में मूर्तियों की दुकानें सज गई है। कहीं बड़ी प्रतिमाएं लोगों को आकर्षित कर रही है, तो कहीं शेषनाग धारणकर मूसक पर सवार बप्पा भक्तों को लुभा रहे है। नई वैरायटी में आई बाहुबली भी लोगों के आकर्षण का केन्द्र बनी हुई है। बाजार में ५० रुपए से लेकर 50 हजार रुपए तक गणेशजी की छोटी व बड़ी प्रतिमाएं उपलब्ध है। प्रतिमाएं महंगी होने के बावजूद भी लोग अपनी पसंद की मूर्तियों की खरीदारी कर रहे है।
बिजली चोरी रोकना भी चुनौती
सार्वजनिक तौर पर अभी पांडालों की अनुमति भी बताने की स्थिति में प्रशासन नहीं है। बड़े पांडालों को छोड़ कई जगह सार्वजनिक स्थानों पर गणेश स्थापना के लिए आवेदन तक नहीं दिए जाने की जानकारी मिली है। प्रत्येक पांडाल की सुरक्षा व्यवस्था आयोजन समिति के स्वयंसेवकों के जिम्मे रहेेगी। शहर सहित जिले में करीब ५०० से अधिक सार्वजनिक स्थानों पर गणेश स्थापना होगी। इन स्थानों पर बिजली की रोशनी की जाएगी। पांडालों को विद्युत रोशनी से सजाया जाएगा। भगवान की प्रतिमा स्थापना गुरुवार को होगी, इसमें बिजली चोरी की आशंका बलवती है। बिजली कंपनी के लिए चोरी रोकना चुनौती बन गया है। इस संबंध में बिजली कंपनी के अधीक्षण यंत्री डीएस चौहान ने कहा कि शहर में सार्वजनिक स्थलों पर अस्थाई कनेक्शन के लिए बिजली कंपनी का दल भ्रमण करेगा। बिजली चोरी रोकने के लिए बिजली कंपनी की टीम सभी आयोजन स्थलों का आकस्मिक निरीक्षण करेगी।
आगजनी से सुरक्षा को लेकर तैनात रहेंगे अग्निशमन वाहन
एसपी मनोजसिंह ने बताया कि जिले में सभी स्थानों पर सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस बल तैनात किया गया है। कोटवारों व नगर सुरक्षा समिति के लोगों को भी आवश्यक निर्देश दिए गए है। पांडालों पर बिजली के खुले तार ना हो, आगजनी से सुरक्षा के साधन हो, इसके निर्देश भी दिए गए है। कोई भी अनहोनी होने या आगजनी होने पर अग्निशमन दल वाहनों के साथ सतर्क रहेगा। वहीं प्रशासन ने हर समय एबुलेंस तैयार रखने के निर्देश दिए है। शहर में कंट्रोल रुम पर 24 घंटे फायर फाइटर तैनात रहेगा।
----------------------------
गणेशस्थापना के शुभ मुहूर्त
शुभ प्रात:काल 6 से 7.30 तक
चर, लाभ, अमृत सुबह 10.30 से 3 बजे तक
शुभ शाम 4.30 से 6 बजे तक
अमृत शाम 6 से 7.30 बजे तक
चर शाम 7.30 से रात 9 बजे तक

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned