शुभ मुर्हूत में विराजेगी मां भगवती, देवी मंदिरों में पहुंचेगे भक्त

शुभ मुर्हूत में विराजेगी मां भगवती, देवी मंदिरों में पहुंचेगे भक्त

By: harinath dwivedi

Published: 09 Oct 2018, 06:08 PM IST

मंदसौर । शहर सहित अंचल में बुधवार से शक्ति की भक्ति का महापर्वशारदीय नवराद्धि शुरु हो रही है। शुभ मुर्हत में मातारानी पांडालों में विराजेंगी और घटस्थापना के साथ नो दिवसीय आराधना का यह महापर्वशुरु होगा। आकर्षक विद्युत रोशनसी से लेकर रंगोली से सजे पांडालों में आराधिकाएं गरबों के साथ माता की आराधना करेंगी। वहीं शहर के साथ जिले भर में स्थित प्राचीन माता के मंदिरों पर भक्तों का तांता भी दर्शन के लिए लगेगा तो नो दिनों तक श्रद्धालु अलग-अलग मान्यता व आस्था के साथ भक्ति में लीन रहेंगे।
शहर के नालछा माता मंदिर, महिषासुर मर्दिनी माता मंदिर शामगढ़, दूधाखेड़ी माताजी मंदिर भानपुरा सहित कई मंदिरों में दुर्गा सप्तशती पाठ, शतचंडी महायज्ञ एवं सहस्त्रचंडी सहित अन्य अनुष्ठान होंगे। माता को प्रसन्न करने के लिए सभी अपने-अपने तरीके से प्रयास करेंगे। कोई नौ दिन तक उपवास रखेगा तो कोई नौ दिनों तक चप्पल नहीं पहनेगा।
ढोल-ढमाकों व जयकारों के साथ आएगी मातारानी
बुधवार को को शहर में दिनभर माता भक्तों का मेला लगा रहेगा। लोग गाजे-बाजे, ढोल-ढमाकों के साथ उड़ती रंग-गुलार में सतरंगी आसमान के बीच जयकारों के साथ माताजी को गरबा स्थल तक ले जाएंगे व विधि-विधान से माता की प्रतिमा को स्थापित करेंगे। जिले में करीब ४०० से अधिक स्थानों पर बुधवार की शाम से गरबा के आयोजन शुरू होंगे। वहीं जिले में करीब १ हजार जगह पर माता की घटस्थापना होगी।इसके लिए पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किए हैं। असामाजिक तत्वों पर नजर रखने के लिए सादी वर्दी में जवान तैनात रहेंगे, तो कई जगहों पर कैमरें भी लगाए जा रहे है। धर्म ग्रंथों के अनुसार, नवरात्रि में हर तिथि पर माता के एक विशेष रूप का पूजन करने से भक्त की हर मनोकामना पूरी होती है।
भक्तों के साथ बाजार भी तैयार
जिलेभर में गरबा पांडालों के साथ घटस्थापना की तैयारियंा जहां अंतिम चरणों में चल रही है तो भक्तों के साथ शहर का बाजार भी तैयार हो गया है। यहां माता की अलग-अलग रंग-रुपों व आकृतियों की प्रतिमाओं के साथ माता की चूनरी से लेकर धूप के लिए दीप व अन्य साजों-सामान से बाजार पूरी तरह सज चुका है और बुधवार को माता की अगवानी के लिए अभी से ही उत्साह का माहौल देखा जा रहा है।
सजने लगे पांडाल, तैयारियां अंतिम चरण में
जिलेभर में गरबा पांडाल तैयार किए गए है। यहां पांडालों को चुनरी व आकर्षक विद्युत झालरों से सजाया जा रहा है। जिले में अधिकतर पांडाल गरबे के लिए तैयार हो चुके है। गरबा पांडालों के आसपास पूरे परिसर को आकर्षक विद्युत साज-सज्जा कर सजाया गया है। तैयारियां अंतिम चरण में है। गरबा पांडालों में विभिन्न स्टाइलों में गरबा नृत्य की प्रस्तुतियां होगी। शहर में बनी मूर्तियां जिले सहित चित्तौडग़ढ़, प्रतापगढ़, निंबाहेड़ा, जावरा, रतलाम, छोटी-बड़ी सादड़ी के गरबा पांडालों की शोभा बढ़ाएगी। मूर्तिकारों के अनुसार इस वर्ष मूर्तियों का कारोबार अनुमानित लगभग ३५ लाख तक पहुंचने की उम्मीद है। कई पांडालों में तो भक्तों ने देवास

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned