इस शहर में जीका वायरस को लेकर अलर्ट जारी

इस शहर में जीका वायरस को लेकर अलर्ट जारी

harinath dwivedi | Publish: Oct, 13 2018 09:24:05 PM (IST) | Updated: Oct, 13 2018 09:24:06 PM (IST) Mandsaur, Madhya Pradesh, India

इस शहर में जीका वायरस को लेकर अलर्ट जारी

मंदसौर । जिले में स्वाइन फ्लू, डेंगू और स्क्रब टाइफस के मरीज निकलने के बाद अब स्वास्थ्य विभाग द्वारा ‘जीका वायरस’ को लेकर अलर्ट जारी किया है। और सीएमएचओ द्वारा सख्त निर्देश जारी किए गए है कि राजस्थान से आने वाले मरीजों की केस हिस्ट्री पर पैनी नजर रखी जाए। इसका सबसे बड़ा कारण है कि राजस्थान में जीका वायरस की चपेट में कई लोग आ चुके है। और जिले से सटा हुआ प्रदेश है। उल्लेखनीय है जिले में सबसे पहला स्क्रब टाइफस का मरीज राजस्थान के इफेंक्ड हुआ था। और वहां से ही अधिकारियों को रिपोर्टदी थी। उसके बाद विभाग द्वारा संबंधित गांव को एक माह तक निगरानी में रखा गय था।
ऐडिस मच्छर फैलता है जीका वायरस
सीएमएचओ कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार जीका वायरस ऐडिस मच्छर के काटने से फैलता है। इसी मच्छर के काटने से डेंगू की बीमारी होती है। इसकी जांच जिला अस्पताल में होती है। सीएमएचओ द्वारा निर्देश जारी किए गए है कि कोई भी बुखार से पीडि़त मरीज अस्पताल पहुंंचे तो सबसे पहले उनकी केस हिस्ट्री की जानकारी ले। यदि राजस्थान से आए है तो विशेष तौर पर ध्यान दें। और उसकी जांच करवाईजाए। यदि किसी व्यक्ति को आठ से दस दिन पहले बुखार आया है तो वह भी एक बार चेक अप करवा लें।
स्वाइन फ्लू का वायरस ठंड में अधिक खतरनाक
जैसे-जैसे मौसम में ठंडक घूल रही है। वैसे-वैसे स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के ङ्क्षचता बढ़ती जा रही है। क्योंकि स्वाइन फ़्लू का वायरस ठंड में ज्यादा खतरनाक होता है। जानकारी के अनुसार स्वाइन फ्लू एच-१एन-१ वायरस के कारण होता है। और गिरते तापमान में यह जल्दी असर करता है। जिले में चार मरीज स्वाइन फ्लू के पॉजिटिव आ चुके है। जिसमें से एक महिला की मौत हो चुकी है।विभाग के अधिकारियों की माने तो यह वायरस बहुत जल्दी ही शरीर को चपेट में ले लेता है। सर्दी खांसी और बुखार होने पर सीधे चिकित्सा सलाह लेना आवश्यक है।
सोमवार को चूहों की रिपोर्ट आएगी
जिले में स्क्रब टाइफस के अब तक 67 मरीज सामने आ चुके है। जिसमें करीब ६० मरीज स्वस्थ्य हो चुके है। वहीं भोपाल के अधिकारियों द्वारा टाइफस से पीडि़त मरीजों के घरों से चूहों के सेंपल जांच के लिए दिल्ली भेजे थे। उसकी रिपोर्टसोमवार को सीएमएचओ कार्यालय पहुंचेगी।जिसके बाद अधिकारी बताएंगे कि असल में यह चूहे के पिस्सु या अन्य किसी जानवर के पिस्सु के कारण फैल रहा था।
इनका कहना..
जीका वायरस को लेकर जिले में अलर्ट जारी किया है। इसकी जांच जिला अस्पताल में होती है। मरीजों से केस हिस्ट्री में राजस्थान का विशेष रूप से ध्यान रखा जाएगा। क्योंंकि राजस्थान में इस वायरस की चपेट में आ चुके है। यह ऐडिस मच्छर से होता है।स्वाइन फ्लू का वायरस ठंड में अधिक खतरनाक होता है। अभी तक चार मरीजों को पॅाजिटिव निकला है।स्वाइन फ्लू से एक महिला की मौत हुईहै।
डॉ महेश मालवीय, सीएमएचओ।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned