बिना कारण नमूना कर रहे फेल, किसानों ने 2 घंटे किया हंगामा

बिना कारण नमूना कर रहे फेल, किसानों ने 2 घंटे किया हंगामा

By: harinath dwivedi

Published: 15 Nov 2018, 06:19 PM IST

मंदसौर । गरोठ समर्थन मूल्य पर शासन द्वारा बनाए गए उड़द खरीदी केंद्र पर बिना किसी कारण के उड़द खरीदी में किसानों द्वारा लाए गएउड़द के नमूने फेल किए जाने से नाराज किसानों ने करीब 2 घंटे तक खरीदी केंद्र पर नारेबाजी कर हंगामा खड़ा कर दिया। बाद में एसडीएम व अन्य अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद मात्र 2 दिन में 2 किसानों के ही माल की खरीदी हो पाई।
40 किसान उड़द लेकर पहुंचे थे
गरोठ अमरवास बालाजी रोड स्थित उड़द खरीदी केंद्र पर प्राथमिक कृषि साख सहकारी संस्था के जरिए किसानों को मैसेज भेजकर उड़द खरीदी के लिए बुलाया जा रहा है 13 नवंबर से प्रारंभ हुए इस खरीदी केंद्र पर पहले दिन गरोठ व आसपास के करीब 40 किसान उड़द लेकर पहुंचे जहां पर नेफेड के सर्वेयर द्वारा सभी किसानों का माल फेल कर दिया इससे निराश किसान वापस लौट गए। किसान दिनेश मालवीय, प्रकाश भेसानिया, मनोज मालवीय, गोविंदसिंह, भगतराम पाटीदार, नरेंद्र ने बताया कि मैसेज के बाद वह दूसरे दिन भी अपना उड़द लेकर खरीदी केंद्र पर पहुंचे जहां पर भी मौजूद सर्वेयर अरविंद कुमार द्वारा सभी किसानों की उपज फेल कर खरीदी करने से इंकार कर दिया। किसी को कहा मिट्टी ज्यादा है तो किसी को अन्य कारण बताकर वापस भेजने लगे। किसानों का आरोप है कि उनका उड़द फसल सही तरीके से निकाली हुई है जिसका नमूना फेल होने जैसी कोई गुंजाइश नहीं है यदि कुछ किसानों की उपज में कुछ कमी भी है तो सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार मानवता के आधार पर उसकी खरीदी को किया जाना चाहिए परंतु सर्वेयार की मनमानी के कारण किसी भी किसान का उड़द खरीदी नहीं हो पा रही है।
2 घंटे तक हंगामा
इससे उत्तेजित किसानों ने खरीदी केंद्र पर नारेबाजी के साथ हंगामा खड़ा कर दिया। बाद में किसी ने इसकी सूचना एसडीएम अनुकूल जैन को दी। जिस पर नेफेड के वरिष्ठ अधिकारी खरीदी केंद्र पर पहुंचे और माल खरीदी प्रारंभ की। जिसके बाद मात्र दो किसानों का माल ही की ही खरीदी हो पाई व समय हो जाने के कारण अनेक किसानों को बिना माल दिए निराश लौट जाना पड़ा। किसानों का आरोप है कि खरीदी केंद्र पर मनमानी के कारण किसान त्रस्त हो चुके हैं। किसानों ने बताया कि वह शासन की योजना अंतर्गत अच्छे भाव की चाह में खरीदी केंद्र पर अपना माल बेचने आए है। परंतु इस प्रकार से लेकर के आए कर्मचारियों द्वारा मनमाने तरीके से उनके नमूने फेलकर उन्हें वापस भेजा जा रहा है।
खरीदी केंद्र पर कोई व्यवस्था नहीं
किसान दिनेश मालवीय ने बताया कि शासन द्वारा बनाए गए इस उड़द खरीदी केंद्र पर किसानों के लिए न पीने के पानी की व्यवस्था है ना ठहरने का उचित इंतजाम जिसके कारण किसान पीने के पानी के लिए भी इधर- उधर भटकते फिर रहे हैं ऊपर से इस प्रकार से दिन भर व्यतीत करने के बाद भी किसानों का नमूना फेलकर उनकी परेशानी को और बढ़ा दी जाकर किसानों को शासन की योजना व अपनी उपज का उचित मूल्य लेने नहीं दिया जा रहा है।
संस्था व वेयर हाउस कर्मचारियों का विवाद आया सामने
किसानों के अनुसार बुधवार को उच्च अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद जैसे ही माल की खरीद चालू हुई दो किसानों का माल तुला कि वेयर हाउस कर्मचारी ने कह दिया कि सेवा संस्था किसानों की ट्रालियो में भरा माल अलग- अलग तुलवाकर पर्ची बनाकर वेयरहाउस में रखें जिस पर संस्था के कर्मचारियों ने असहमति व्यक्त की उसके बाद खरीदी बंद हो गई।
दोनो पक्षो को समझाया गया है।
इनका कहना...
उड़द खरीदी केंद्र पर किसानों के हंगामें के बाद किसानों तथा नेफेड के कर्मचारियों के बीच समझाईश दिया गया है। अब किसानों को किसी भी प्रकार की कोई परेशानी नहीं आने दी जाएगी। इसके साथ ही किसानों के लिए पानी व अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध करा दी जाएगी।
- दिनेश पहलवान, अध्यक्ष, प्राथमिक कृषि साख सेवा सहकारी संस्था गरोठ

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned