प्राचार्य ने छात्रा को सल्फास की गोली फेंकने का कहा लेकिन उसकी काउंसलिंग नहीं की

प्राचार्य ने छात्रा  को सल्फास की गोली फेंकने का कहा लेकिन उसकी काउंसलिंग नहीं की

harinath dwivedi | Publish: Dec, 08 2018 07:56:10 PM (IST) Mandsaur, Mandsaur, Madhya Pradesh, India

प्राचार्य ने छात्रा को सल्फास की गोली फेंकने का कहा लेकिन उसकी काउंसलिंग नहीं की

मंदसौर । छात्रा पूजा द्वारा आत्महत्या किए जाने के तीन दिन पूर्व वह सल्फास की गोली लेकर विद्यालय में आई थी। वह तनाव में थी। उसके द्वारा साथ में लाईगई सल्फास की गोली कक्षा में प्राचार्य ने देखी थी। गोली फेंकने की कहा। संभवत प्राचार्य को पूजा को बाहरी छात्रों द्वारा परेशान करने की जानकारी थी।प्राचार्य दिलीप चौहान द्वारा मृत छात्रा पूजा की काउंसलिंग नहीं की ओर उसकी परेशानी को समझा नहीं तथा जानकारी होते हुए भी कोई सुरक्षात्मक कदम नहीं उठाएं। ना उसके परिवार को इसके बारे में सूचना दी।इस प्रकार प्रभारी प्राचार्य दिलीप चौहान ने अपने पदीय कर्तव्यों का निर्वहन नहीं किया। इन आचरण पद की गरिमा के विपरीत प्रतीत होता है। यह बात जांच प्रतिवेदन में जांच अधिकारियों ने लिखी।
जांच दल ने जांच प्रतिवेदन में यह भी लिखा कि स्कूल में छात्राओं की पर्याप्त संख्या को देखते हुए महिला शिक्षिका की पदस्थापना की जाए। इसके अलावा यहां पर समय-समय पर महिला शिक्षिकाओं से काउंसलिंग भी करवाया जाए। क्योंकि स्कूल की तीन छात्राएं आत्महत्या कर चुकी है।
डीईओ कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार छात्रा पूजा कुमावत की आत्महत्या के बाद नांदवेल के ग्रामवासियों एवं विद्यार्थियों ने एक शिकायत प्रभारी प्राचार्य दिलीप चौहान के खिलाफ कलेक्टर ओपी श्रीवास्तव को की थी।उसके बाद जांच दल गठित किया गया था। जिसमें तहसीलदार ब्रह्मस्वरूप श्रीवास्तव और शाउमावि क्रमांक दो के प्राचार्य अंबाराम पाटीदार थे। दोनों जांच अधिकारियों ने जांच की।और जांच प्रतिवेदन तैयार किया। इसके बाद कलेक्टर द्वारा समय सीमा में निराकरण के लिए जिला पंचायत सीईओ आदित्य ङ्क्षसह को निर्देश दिए। सीईओ द्वारा प्रकरण में जांच अधिकारियों सेे जांच प्रतिवेदन मंागा। और जांच अधिकारियों द्वारा जांच प्रतिवेदन देने के बाद सीईओ आदित्य ङ्क्षसह ने शुक्रवार को प्रभारी प्राचार्य दिलीप चौहान को निलंबित कर दिया है।
मुख्यमंत्री से भी की थी शिकायत
इस मामले में ग्रामवासी ओर विद्यार्थियों ने एक शिकायत मुख्यमंत्री शिवराज ङ्क्षसह चौहान को भी की थी। मुख्यमंत्री कार्यालय अवर सचिव विजय राज ने शिकायत मिलने के बाद संबंधित विभाग के अधिकारी को समुचित कार्रवाईके लिए लिखा था। उसके बाद लोक शिक्षण आयुक्त जयश्री कियावत ने कलेक्टर ओपी श्रीवास्तव को इस प्रकरण में कार्रवाईकर प्रतिवेदन प्रेषित करने का लिखा था।
इनका कहना....
जिला पंचायत सीईओ आदित्य सिंह ने कहा कि नांदवेल के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य दिलीप चौहान के खिलाफ ग्रामवासी और विद्यार्थियों ने शिकायत की थी। उसके बाद जांच दल से जांच करवाई गई। शुक्रवार को प्रभारी प्राचार्य दिलीप चौहान को निलंबित कर दिया गया है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned