पत्नी को किडनी देकर पति ने निभाया 7 फेरो का वचन

महिला की जान बचाने पूरा गांव हुआ एकजुट, सोशल मीडिया से की राशि एकत्रित

By: harinath dwivedi

Published: 17 Jul 2018, 08:08 PM IST

मंदसौर । दलौदा चौपाटी निवासी एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी को किडनी देकर 7 फेरो के वचन को निभाया। यहीं नहीं महिला के उपचार की सहायता के लिए पूरा गांव एकजुट हो गया। जैसे ही महिला के लिए आर्थिक सहायता की सूचना सोशल मीडिया के माध्यम से ग्रामीणों तक पहुंची। सभी ने अपने- अपने स्तर से राशि जुटाने का कार्य प्रारंभ कर दिया और24 घंटे में 1.75 लाख रुपए की राशि एकत्र हो गई।
सभी ने किया आर्थिक सहयोग
जानकारी अनुसार दलौदा सरपंच विपिन जैन की पहल और आम जनता के सहयोग से महिला को नया जीवन मिला। महिला मंजूबाला पति पप्पूलाल सेन की किडनी खराब हो गई थी। चिकित्सको ने किडनी ट्रांसप्लांट की बात कहीं। इसकी सूचना जैसे ही ग्राम सरंपच विपिन जैन को मिली उन्होंने सोशल मीडिया के माध्यम से गांव के युवाओं व समाजसेवियों तक महिला के किडनी ट्रांसप्लांट के लिए आर्थिक सहायता के लिए सूचना भेजी। इस कार्य में उमा नागर और राकेशसिंह केलवा ने भी सहयोग किया। सर्वप्रथम सरपंच ने 50 हजार रुपए की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की। सरपंच की घोषणा के बाद किसी ने स्वेच्छानुसार 100 रुपए तो किसी ने 10 हजार रुपए तक सहायता की। इस प्रकार जनसहयोग से करीब १ लाख 75 हजार रुपए की सहायता प्राप्त हुई। प्रधानमंत्री आर्थिक सहायता कोष से 1.75 लाख रुपए का सहयोग मिला। इसके बाद महिला का उपचार अहमदाबाद के अस्पताल में प्रारंभ हुआ। यहां महिला के पति पप्पूलाल सेन ने अपनी एक किडनी देकर अपनी जीवनसाथी को नया जीवन दिया। पप्पूलाल सेन ने बताया कि किडनी ट्रांसप्लांट 13 जुलाई को शाम 6 .30 बजे हुआ। उन्होंने बताया कि मंजूबाला और वे अब स्वस्थ है। उन्होंने आर्थिक सहयोग के लिए दलौदावासियों का आभार माना।
चार प्रकरणों में ग्रामीण कर चुके है सहायता
सरपंच द्वारा आमजन के लिए सोशलमीडिया पर आर्थिक सहायता की मांग करने का यह पहला मामला नहीं है। गांव में अब तक 4बीमारी प्रकरणों में ग्रामीणों ने सहायता की है। इसमें ब्लड कैंसर, कैंसर बीमारी सहित एक पीडित को गंभीर बीमारी के उपचार के लिए सहयोग किया गया है। सरपंच विपिन जैन ने कहा कि वाट्सअप पर दलौदा के युवाओं, दानदाताओं व समाजसेवियों को जोड़ा गया है। बीमारी सहित किसी भी प्रकार की आर्थिक सहायता के लिए गु्रप पर मैसेज कर आमजन से अपील की जाती है, इसमेंं ग्रामीण स्वेच्छानुसार राशि का दान करते है।

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned