अगस्त तक नीमच और नवबंर तक चित्तौडग़ढ़ तक पूरा हो जाएगा इलेक्ट्रिफिकेशन का काम

अगस्त तक नीमच और नवबंर तक चित्तौडग़ढ़ तक पूरा हो जाएगा इलेक्ट्रिफिकेशन का काम

Nilesh Trivedi | Updated: 21 Jul 2019, 12:12:37 PM (IST) Mandsaur, Mandsaur, Madhya Pradesh, India

अगस्त तक नीमच और नवबंर तक चित्तौडग़ढ़ तक पूरा हो जाएगा इलेक्ट्रिफिकेशन का काम


मंदसौर.
रेलवे रतलाम मंडल की इलेक्ट्रिफिकेशन विंग ने ट्वीट कर दावा किया है कि अगले माह यानी अगस्त तक नीमच और नवंबर तक चित्तौड़ तक इलेक्ट्रिफिकेशन काम पूरा कर लिया जाएगा। इसके साथ ही इसका मेप भी ट्वीट किया है। वर्तमान में मंदसौर और नीमच के बीच काम चल रहा है और यह पिपलियामंडी से आगे तक हो चुका है। पिछले दिनों डीआरएम आरएन सुनकर ने भी मंदसौर मेें कहा था कि काम पूरा होने के साथ मार्च में इलेक्ट्रीक इंजन की यात्री गाडी इस ट्रेक पर चलने की बात कही थी। अगस्त में काम होने के बाद दिसबंर में इस ट्रेक पर ट्रायल होगा। यह प्रोजेक्ट पूरा होने के बाद इस क्षेत्र के लोगों को इंदौर से दिल्ली के अलावा बड़े शहरों की और सीधी ट्रेनें मिल सकेंगी।
डबलीकरण में लगेगा समय
इलेक्ट्रिफिकेशन का काम भले ही तेजी से चल रहा हो, लेकिन डबलीकरण का काम धीमी गति से चल रहा है। ऐसे में डबलीकरण के काम में अभी समय लगेगा। इसके अलावा पुल-पुलियाओं के काम में भी समय लगने के कारण डबलीकरण के लिए अभी इंतजार करना पड़ेगा। हालांकि चित्तौड़-नीमच की और डबलीकरण का काम जारी है तो रतलाम-नीमच के बीच भी डबलीकरण पर काम शुरु हो चुका है। लेकिन प्रोजेक्ट पूरा होने में अभी समय लगेगा।
रतलाम से मंदसौर तक हुआ काम, नीमच को अंतिम चरण में
जानकारी के अनुसार विद्युतीकरण का काम रतलाम से मंदसौर तक पूरा हो चुका है। मंदसौर व नीमच के बीच पोल लग चुके है और काम अंतिम चरणों में है। ऐसे में अगस्त में नीमच और नवंबर में रेलवे चित्तौड़ तक विद्युतीकरण का काम पूरा करने का दावा कर रहा है। रतलाम-जावरा के बीच इसका निरीक्षण भी हो चुका है। दलोदा मंदसौर की और भी काम पूरा तो हो गया, लेकिन अंतिम निरीक्षण होना बाकी है। पिपलियामंडी तक काम पूरा होने को है। अब पिपलिया से नीमच के बीच लाईन डालने सहित अन्य तकनीकि काम किए जा रहे है।
इंदौर से सीधी मिल सकेंगी दिल्ली के लिए ट्रेन
इंदौर से रतलाम तक विद्युतीकरण का काम पूरा हो चुका है। रतलाम-नीमच ट्रेक पर भी काम अंतिम पड़ाव में है। वहीं नीमच चित्तौड़ के बीच डबलीकरण के साथ विद्युतीकरण का काम भी चल रहा है। इसके बाद यहां से कोटा, अजमेर के साथ दिल्ली तक अलग-अलग टुकड़ों में विद्युतीकरण का काम अंतिम चरण में चल रहा है जो दो से तीन माह में पूरा होगा। इसके बाद इंदौर से दिल्ली तक इलेक्ट्रीक इंजन के साथ यात्री गाडिय़ों का आवागमन शुरु हो सकेगा।
..................

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned