कोई हड़ताल करेगा तो कोई भाजपा को वोट नहीं देने की लेेगा शपथ

अधिकारियों-कर्मचारियों सहित कई संस्थाएं अब अपनी मांगो के निराकरण को लेकर हड़ताल

By: harinath dwivedi

Published: 10 Feb 2018, 08:39 PM IST

मंदसौर । जिले में अधिकारियों-कर्मचारियों सहित कई संस्थाएं अब अपनी मांगो के निराकरण को लेकर हड़ताल करने को आमदा है। कोई धरना देगा तो कोई भाजपा को वोट नहीं देने की शपथ लेगा तो कोई कलमबंद हड़ताल या सामूहिक अवकाश लेगा।
12 फरवरी को करेंगे कामबंद हड़ताल,19 को हड़ताल
प्रदेशव्यापी आव्हान के तहत वाणिज्यिक कर विभाग के तीन संघों द्वारा वेतन विसंगति को लेकर 12 फरवरी को सामूहिक कामबंद हड़ताल की जाएगी। जिसके तहत मंदसौर में भी वाणिज्यिक कर कर्मी सामूहिक अवकाश लेकर हड़ताल पर रहेंगे। मप्र कराधान सहायक संघ के रतलाम संभाग के अध्यक्ष रंजीत हरित, संभागीय सचिव विरेन्द्र सौलंकी, मुकेश परमार, राजेन्द्र बौरासी, वाणिज्य कर निरीक्षक केएल पंवार, सुमित बारीया, सहायक वाणिज्य कर अधिकारी केएल पाल, राजेश भाबौर, कराधान सहायक संघ के आशीष वर्मा, सुरेश डामोर, अरविन्द कौर गांधी ने सहायक आयुक्त (राजस्व) आईपीएस ठाकुर को सामूहिक अवकाश का आवेदन प्रस्तुत किया। मप्र कराधान सहायक संघ के संभागीय अध्यक्ष रंजीत हरित ने बताया कि इस आंदोलन में राज्य कर अधिकारी संघ, राज्य कर निरीक्षक संघ एवं कराधान सहायक संघ के पदाधिकारी एवं सदस्य शामिल होंगे। इनके द्वारा सामूहिक अवकाश लेकर काम बंद किया जाएगा। तीनों संघों की वेतन विसंगति छठवें वेतनमान से ही लंबित है। पिछले वर्ष वाणिज्यिक कर विभाग स्टेट जीएसटी राजस्व का लक्ष्य पूरा करने का आश्वासन दिया गया था, जिसे आज तक पूरा नहीं किया गया। इसके विरोध में सामूहिक अवकाश व 19 फरवरी से प्रदेशव्यापी हड़ताल की जाएगी। उन्होंने बताया कि वाणिज्यिक कर विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों की वेतनमान संबंधी लड़ाई पिछले कई सालों से चल रही है। अन्य विभागों में समान पद वाले अधिकारियों व कर्मचारियों के वेतन में वृद्धि कर दी, लेकिन वाणिज्यिक कर विभाग की वेतन विसंगति दूर करने में भेदभाव बरता गया। जबकि शासन को राजस्व का एक बड़ा हिस्सा इसी विभाग से प्राप्त होता है।
अतिथि शिक्षक कल लेंगे भाजपा को वोट न देने की शपथ
नियमिकतरण की मांग को लेकर कई वर्षो से आंदोलन किये जा रहे है लेकिन सरकार द्वारा अतिथि शिक्षको को अभी तक नियमित नहीं किया गया है। इससे अतिथि शिक्षक हताश व निराश होकर निर्णय लिया है कि 12 फरवरी को गांधी चौराहा पर प्रात: 10 बजे शपथ ली जाएगी तथा कलेक्टर को नियमितिकरण की मांग को लेकर मुख्यमंत्री के नाम रैली निकालकर ज्ञापन दिया जाएगा। अतिथि शिक्षक संघ के मंगलदास बैरागी ने बताया कि इसके लिए विभिन्न अतिथि शिक्षक को अपने ब्लॉक पर दायित्व सौपे गये है। जिले से कई अतिथि शिक्षक गांधी चौराहे पर शपथ लेंगे।
12 फरवरी को करेंगे धरना प्रदर्शन
अपनी लंबित मांगो तथा विभिन्न समस्याओं के संबंध में सहकारी संस्थाएं कर्मचारी महासंघ मप्र की प्रादेशिक बैठक में लिए गए निर्णय अनुसार सहकारी संस्थाएं कर्मचारी महासंघ मप्र के आह्वान पर 12 फरवरी को जिला स्तर पर एकदिवसीय धरना प्रदर्शन, रैली एवं मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन अधिकारियों को दिया जाएगा। सहकारी संस्थाएं महासंघ के मीडिया प्रभारी नईम पठान ने बताया कि उचित निर्णय नहीं होने पर कर्मचारियों द्वारा आंदोलन के अंतिम चरण में 21 फरवरी से अनिश्चितकालीन कलमबंद हड़ताल एवं धरना प्रदर्शन किया जाएगा।


15 फरवरी को कंपनी प्रबंधन को ज्ञापन सौंपगे
बिजलीकर्मी 15 फरवरी को सभी कंपनी प्रबंधन को एवं 21 फरवरी को भोपाल में प्रदर्शन करेंगे। यूनाईटेड फोरम के प्रदेश संयोजक व्हीकेएस परिहार ने बताया कि शासन द्वारा 7वें वेतनमान की घोषणा के बाद शेष अन्य 4 मांगो पर लिखित आश्वासन के बाद भी कार्रवाई नहीं होने पर आंदोलन करने को मजबूर होना पड़ रहा है। विद्युुत संविदा कर्मियों को बिना शर्त नियमितीकरण, आउटसोर्स ठेका कर्मिया की सेवाएं निरंतर रख शोषण मुक्त नीति बनाने जैसी मांगे प्रमुख है।

Show More
harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned