scriptSelf-reliant Mandsaur: Mandsaur made self-reliance with horticulture c | आत्म निर्भर मंदसौर : उद्यानिकी फसल से मंदसौर ने आत्मनिर्भरता की और लगाई दौड़ | Patrika News

आत्म निर्भर मंदसौर : उद्यानिकी फसल से मंदसौर ने आत्मनिर्भरता की और लगाई दौड़

आत्म निर्भर मंदसौर : उद्यानिकी फसल से मंदसौर ने आत्मनिर्भरता की और लगाई दौड़

मंदसौर

Published: July 28, 2022 12:08:18 pm

मंदसौर.
अपना मंदसौर जिला लहसुन के मामले में आत्म निर्भर हो रहा है। जिले में लहसुन से लेकर प्याज व अन्य औषधीय फसलों के उत्पादन के साथ क्वालिटी भी कई राज्यों में बेहतर मानी जाती है। बेहतर आय के बाद अब जिले के किसान बढ़े पैमानें पर औषधीय व मसाला से लेकर उद्यानिकी फसलों की खेती कर रहे है। उद्यानिकी फसलों के दम पर मंदसौर ने आत्मनिर्भरता की और सरपट दौड़ लगाई है। जिले की लहसुन से लेकर संतरा और औषधी की फसल अब देशभर में मंदसौर को पहचान दिखा रहे है तो इससे रोजगार के अवसर भी बढ़ रहे है। किसानों की आय के साथ महिलाएं भी लहसुन का अचार बना रही है तो नए अवसर बढ़ रहे है। ऐसे में मंदसौर ने इसके दम पर देशभर में पहचान बनाने के साथ आत्मनिर्भर बन रहा है।
kisan-desi-jugaad-11.jpg

होती है यहां खेती
मसाला की फसल में जिले में उत्पादन व रकबा भी बेेहतर है। 67 हजार 757 हैक्टेयर मसाला फसलो का रकबा है और 2 लाख 50 हजार 80 मैट्रिक टन उत्पादन है। वहीं औषधीय में 9 हजार 170 हैक्टेयर का रकबा है और उत्पादन 10 हजार 388 मैट्रिक टन है। इनमें औषधीय में कलोंजी, मैथी, धनिया, तुलसी, इसबगोल, कालमेघ, अश्वगंधा सहित अन्य कई तरीको की औषधीय फसल पर खेती हो रही है। वहीं मसाला में लहसुन-प्याज की खेती सबसे अधिक होती है।

देशभर में पहचान बन रही अपनी लहसुन
आत्मनिर्भर मप्र अभियान में लहसुन का चयन कर शासन-प्रशानस ने लहसुन की ब्रांडिग शुरु की है। अब जिले की लहसुन देशभर में पहचान बन रही है। लहसुन के अचार से लेकर इससे जुड़े प्रोडक्ट महिलाओं के स्वसहायता समूह बना रही है। इससे उन्हें भी आय हो रही है। वन डिस्टिक वन प्रोडेक्ट में लहसुन को शामिल किया। इसके बाद से देशभर में मंदसौर की लहसुन को पहचान मिलना शुरु हुई। मंदसौर की लहसुन के नाम से ब्रांडिग कर लहसुन कृषको को कृषक उद्यमी बनाकर प्रोसेसिंग यूनिट व लहसुन आधारित उद्योगों व यूनिटों से जोडऩे की दिशा में काम हो रहा है। इसमें कई विभाग मिलकर काम कर रहे है।

कृषक उद्यमी बनाने के लिए शुरु हुआ काम
सूक्ष्म प्रोसेसिंग यूनिट के लिए अनुदान देकर यूनिट लगवाने के साथ कोल्ड स्टोरेज, पैकिंग, ग्रेडिंग, पावडर सहित ट्रांसपोटेशन के साथ लहसुन के उद्योग स्थापित कर किसानों को खेती के साथ लहसुन के उद्योगों से जोडक़र उद्यमी बनाने की दिशा में काम की शुरुआत कर दी गई है। एक और जहां महिलाएं लहसुन आधारित प्रोडक्ट बना रही है जो मांग के आधार पर बाहर जा रहे है तो वहीं प्रशासन ने किसानों को अनुदान दिलाकर यूनिट स्थापित कराने की शुरुआत कर दी है। जिले में उन क्षेत्रों का चयन किया गया है जहां अत्यधिक लहसुन उत्पादन होता है और उन क्षेत्रों में किसानों के समुह बनाकर प्रोसेसिंग यूनिटों से जोड़ा जा रहा है।

इसलिए हुआ जिले की लहसुन का चयन
जिले से दिल्ली से मुंबई तक एक्सप्रेस वे गुजर रहा है तो फोरलेन से लेकर अन्य हाईवे गुजर रहे है। वहीं चंबल के कारण पानी की उपलब्धता है और रेलवे परिवहन भी बेहतर है। सडक़-रेल परिवहन के साथ लहसुन की अधिकता व श्रमिक वर्ग के साथ लहसुन के लिए जलवायु अनुकूलता के साथ सभी परिस्थिति अनुकूल है। वैसे जिले में उद्यानिकी फसलों का रकबा 1 लाख 7 हजार हैक्टेयर है और इनका उत्पादन 6 लाख 43 हजार 566 मैट्रिक टन है। इसमें सबसे ज्यादा लहसुन का रकबा है। 18 हजार 211 हैक्टेयर रकबे की लहसुन में 1 लाख 82 हजार 110 मैट्रिक टन का उत्पादन होता है। देशी लहसुन के साथ ऊटी लहसुन व विदेशी किस्तों के साथ अन्य कई प्रकार की लहसुन का उत्पादन जिले के किसान कुशल तरीके से करते है। उत्पादन, क्वालिटी व रकबे के साथ किसानों की रुचि के कारण लहसुन का वन डिस्टिक वन प्रोडेक्ट में चयन किया गया। इसका सरप्लस भी बेहतर है तो जिले की लहसुन की प्रदेश ही नहीं देशभर के कई राज्यों में अधिक मांग की है। जिले की मंडियों से लहसुन देशभर में बड़ी मात्रा में जाती है। दवाई कंपनियों से लेकर अन्य प्रकार के उत्पादों में जिले की लहसुन की अधिक मांग के साथ लहसुन का चयन किया गया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

शिमला में सेवाओं की पहली 'गारंटी' देने पहुंचेगी AAP, भगवंत मान और मनीष सिसोदिया कल हिमाचल प्रदेश के दौरे परममता बनर्जी के ट्विटर प्रोफाइल में गायब जवाहर लाल नेहरू की तस्वीर, बरसी कांग्रेसमुंबई पुलिस की बड़ी कार्रवाई, गुजरात के भरूच में पकड़ी ‘नशे’ की फैक्ट्री, 1026 करोड़ के ड्रग्स के साथ 7 गिरफ्तारभूस्खलन से हिमाचल में 100 से अधिक सड़कें ठप, चार दिन भारी बारिश का अलर्टबिहारः मंत्रियों में विभागों का बंटवारा, गृह मंत्रालय नीतीश के पास, तेजस्वी के पास 4 विभाग, तेज प्रताप का घटा कद, देखें ListVideo मध्यप्रदेश में बाढ़ के हालात, सात जिलों में राहत-बचाव का काम शुरू, लोगों को घरों से निकालाMaharashtra: खाने को लेकर कैटरिंग मैनेजर पर भड़के शिवसेना MLA संतोष बांगर, कर्मचारी को जड़ दिए थप्पड़कश्मीरी पंडित की हत्या मामले में सामने आई मनोज सिन्हा, महबूबा मुफ्ती व उमर अब्दुल्ला की प्रतिक्रिया, जानिए क्या कहा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.