अपनी ही सरकार के मंत्री के आदेश के विरोध में यहां विरोध करने पहुंचे कांग्रेस के प्रदेश महासचिव

अपनी ही सरकार के मंत्री के आदेश के विरोध में यहां विरोध करने पहुंचे कांग्रेस के प्रदेश महासचिव

मंदसौर.
फर्टिलाईजस की दुकानों पर कृषि विभाग ने कभी कार्रवाई नहीं की। अब कृषि मंत्री ने निर्देश दिए तो प्रशासन यूरिया की कालाबाजारी को रोकने और फर्टिलाईजर्स की दुकानों-गोदामों पर हो रही अनियमितताओं पर नकले कसना शुरु की तो व्यापारी विरोध पर उतर आए है। जिले में चल रही कार्रवाई में प्रशासन के अधिकारी जहां पहुंच रहे। वहां कार्रवाई जारी है तो कृषि विभाग का अमला जहां जा रहा है।

वहां सबकुछ ठीक मिल रहा है। तीन-चार दिनों की कार्रवाई में जिले में खाद व्यापारियों में हड़कंप मच गया। यहां तक की कृषि मंत्री के निर्देश के बाद भी अपनी ही सरकार के विरोध में व्यापारियों के साथ कांग्रेस के महासचिव कलेक्टर के पास पहुंच गए।


कृषि मंत्री ने दिए निर्देश, इधर कांग्रेस महासचिव विरोध करने पहुंचे
कृषि मंत्री सचिन यादव ने अमानक खाद-बीज व अनियमितताओं को लेकर अभियान चलाने के निर्देश दिए। प्रशासन व विभाग ने पूरे जिले में यूरिया की कालाबाजारी से लेकर अनियमितताओं को लेकर कार्रवाई और दबिश देना शुरु की।

तो विरोध में फर्टिलाइजर्स एसोसिएशन के बैनर तले व्यापारी विरोध करने कलेक्टर के पास पहुंचे। कांग्रेस के प्रदेश महासचिव मुकेश काला अपनी ही सरकार के मंत्री के निर्देश के विरोध में उतरे व्यापारियों को लेकर कलेक्टर के पास पहुंचे। काला ने बताया कि व्यापारियों के साथ कलेक्टर से इतना ही कहा कि किसी व्यापारी को अनुचित परेशान नहीं किया जाए और जो गलत है। उस पर कार्रवाई करें।


ज्ञापन देने पहुंचे व्यापारी, कलेक्टर ने कहा गलत करने वालों को नहीं छोड़ेंगे
जिला बीज, कीटनाशक एवं फर्टिलाइजर्स एसोसिएशन के व्यापारी श्रीकोल्ड चौराहें पर एकत्रित होकर कलेक्ट्रेट पहुंचे। जहां कलेक्टर मनोज पुष्प को ज्ञापन सौंपा। इसमें उन्होंने कहा कि लगातार कार्रवाई और दबिश से व्यापारी स्वयं को अपमानित महसूस कर रहा है। उन्होंने दबिश और कार्रवाई को ही विसंगतिपूर्ण बताया। दलोदा में धुलचंद टेकचंद जांच टीम के रवैए से बेहोश होने की बात कही। इस पर कलेक्टर ने व्यापारी को दो टुक कहा कि किसी भी गलत और नियम विरुद्ध काम करने वालों को नहीं बख्शा जाएगा।

जिले में बाढ़ के दौरान किसान परेशान है। ऐसे में उनकी मदद करना चाहिए। इस पर व्यापारियों ने २६५ रुपए में ही खाद बेचने की बात कही। वर्तमान में खाद २६६ रुपए के रेट है लेकिन ३५० रुपए तक बेचने की शिकायत पर प्रशासन ने कार्रवाई की है। ज्ञापन में व्यापारियों ने अपनी मांग भी कलेक्टर के सामने रखी।

Nilesh Trivedi
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned