साधु का भेेष में जाकर पुलिस ने किया किसान आंदोलन से जुड़े नेता अमृतराम को गिरफ्तार

साधु का भेेष में जाकर पुलिस ने किया किसान आंदोलन से जुड़े नेता अमृतराम को गिरफ्तार - गिरफ्तारी के विरोध में ग्रामीणों सहित कांग्रेस नेताओं ने किया

By: bhuvanesh pandya

Published: 22 Aug 2017, 10:12 PM IST


मंदसौर/पिपलियामंडी.
किसान आंदोलन से जुड़े किसान नेता अमृतराम पाटीदार को मंगलवार की दोपहर १२ बजे पिपलियामंडी पुलिस ने बालागुढ़ा गांव में स्थित उनके घर से गिरफ्तार किया। पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने के लिए उनके घर साधु के भेष में गईथी। गिरफ्तार के बाद पुलिस उन्हें मंदसौर लाई। यहां से पुलिस उन्हें नारायणगढ़ न्यायालय ले गई। यहां न्यायालय में पेश किया गया। जहां से न्यायाधीश ने उन्हें जेल भेज दिया। पुलिस ने किसान आंदोलन के दौरान अमृतराम पर हिंसा भड़काने के आरोप में प्रकरण दर्ज कर रखा है। तब से पुलिस की नजरों से अमृतराम फरार है। किसान नेता पाटीदार की गिरफ्तारी की सूचना मिलने पर बालागुढ़ा व पिपलियामंडी क्षेत्र के ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त हो गया। कांग्रेस ने भी पुलिस की कार्रवाईका विरोध किया। इन क्षेत्रो से कईग्रामीण वाहन रैली के रुप में एसपी कार्यालय आए। यहां उन्होंने एसपी कार्यालय के बाहर नारेबाजी की। क्षेत्रीय कांग्रेस नेता श्यामलाल जोकचंद सहित कई कांग्रेस नेताओं के साथ कईग्रामीणों ने मंदसौर पुलिस अधीक्षक मनोजसिंह को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में आरोप लगाया कि पाटीदार के खिलाफ पुलिस द्वारा दर्ज किए प्रकरण गलत है, प्रकरण को समाप्त किया जाएं।
यहां नेताओं ने कहा कि यदि पाटीदार के खिलाफ दर्ज प्रकरण वापस नहीं लेते तो २३ अगस्त को मल्हारगढ़ तहसील में बंद का आव्हान करेंगे और जेल भरो आंदोलन करेंगे। उल्लेखनीय हैकि पिछले दिनों हुए किसान आंदोलन में पुलिस द्वारा धारा 435, 336 , 147, 148 , 149, 427, 18 8 आईपीसी में पिपलियामंडी थाने में प्रकरण दर्ज किया गया है। ज्ञापन देने वालो में कमलेश पटेल, बंशीलाल पाटीदार, अशोक खिंची, भंवरलाल पाटीदार, दिलीप पाटीदार, गोपाल पाटीदार, गोविंद शर्मा, भूपेन्द्र महावर, हंसराज पाटीदार, मानसिंह चौहान, मनोहर सोनी सहित बड़ी संख्या में किसान व कांग्रेसजन उपस्थित थे।
पुलिस पर लगाया आरोप, भाजपा के इशारे पर हो रही कार्रवाई
इससे पहले कांग्रेस नेता जोकचंद ने उपस्थितजनों के बीच आरोप लगाया कि प्रशासन भाजपा के इशारे पर किसान नेताओं पर फर्जी प्रकरण दर्ज कर रहा है, निर्दोष किसानों पर फर्जी कार्रवाई का कांग्रेस विरोध करेगी। जोकचन्द्र ने आरोप लगाया कि पुलिस प्रशासन की भूमिका किसान आंदोलन से ही संदिग्ध रही। किसानों को भड़काने में कोई कसर नहीं छोड़ी।
सीएसपी को नहीं सौंपा ज्ञापन, एसपी को आना पड़ा बाहर
कांग्रेस व किसान एसपी कार्यालय पहुंचे तो सीएसपी राकेश मोहन शुक्ल ज्ञापन लेने पहुंचे, किसानों की मांग थी कि एसपी को ही ज्ञापन देंगें, बाद में एसपी मनोजसिंह बाहर आए और ज्ञापन लिया, इस दौरान अधिकारियों व किसानों के बीच काफी बहस भी हुई, किसानों का कहना था कि कितने किसानों पर प्रकरण दर्ज हुए, इसकी सूची जारी की जाए, सीएसपी राकेश मोहन शुक्ल द्वारा किसानों को कार्यालय के बाहर से हटने की कहने के बाद किसान आक्रोशित हो गए और नारेबाजी करने लगे। ज्ञापन लेने के बाद एसपी ने आश्वस्त किया कि बिना सबूत के किसी भी किसान को गिरफ्तार नहीं करेंगे, साथ ही जिन पर प्रकरण दर्ज है, उनके भी नाम की सूची जारी की जाएगी।
बाइक रैली के रुप में पहुंचे पिपलिया चौपाटी
शाम को किसान बाइक रैली के रुप में पिपलिया चौपाटी पहुंचे, कुछ दुकानदारों ने अपनी दुकानें बंद कर दी। बाद में चौकी प्रभारी राकेश चौधरी पहुंचे व किसानों को समझाइश दी, बाद में किसान गांधी चौराहे पहुंचे गांधी प्रतिमा व कृषि मंडी के सामने सरदार पटेल प्रतिमा पर माल्यार्पण के बाद नारायणगढ़ होते हुए मल्हारगढ़ पहुंचे। मल्हारगढ़ तहसील कार्यालय पहुंच एसडीएम प्रकाश नायक को ज्ञापन सौंपा। इस अवसर पर महेन्द्र पाटीदार, कुलदीप पाटीदार, समरथ, अरुण, जितेन्द्र उपस्थित थे।
ग्रामीण बोले साधु के वेश में आए, थाना प्रभारी ने कहा वर्दी में गए थे
ग्रामीणों के अनुसार मंगलवार दोपहर 12 बजे पिपलिया टीआई कमलेश सिंगार, थाना प्रभारी राकेश चौघरी सहित पिपलिया पुलिस बल साधु के भेष में मंूह पर नकाब बांधकर गांव पहुंचे और अचानक पाटीदार के घर पहुंचे, ग्रामीणों को पता चलता उससे पहले वे अमृतराम पाटीदार को वाहन में बैठाकर ले गए। चौकी प्रभारी राकेश चौधरी का कहना है कि दोपहर पुलिस वर्दी में गई थी और फरार आरोपी पाटीदार को पकड़ लिया, जिसे नारायणगढ़ न्यायाधीश शशांक खरे के समक्ष पेश किया, जहां से उसे मंदसौर जेल भेजने के आदेश हुए।
----------------------

bhuvanesh pandya
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned