scriptThe sewerage of the city is doing fair to the zenith of Shivna and the | शिवना के आंचल को मेला कर रहा शहर का सीवरेज तो राजाराम फैक्ट्री का पानी कर रहा जहरीला | Patrika News

शिवना के आंचल को मेला कर रहा शहर का सीवरेज तो राजाराम फैक्ट्री का पानी कर रहा जहरीला

शिवना के आंचल को मेला कर रहा शहर का सीवरेज तो राजाराम फैक्ट्री का पानी कर रहा जहरीला

मंदसौर

Updated: May 17, 2022 11:17:28 am

मंदसौर.
मां शिवना के जल को निर्मल करने और नदी को स्वच्छ करने के लिए संकल्प के साथ प्रयास फिर से शुरु हुए। लेकिन शिवना शुद्धिकरण में सबसे बड़ी अड़चन इसमें मिल रहे सीवरेज को रोकना है। ८ किमी के क्षेत्र में आधा दर्जन से अधिक जगहों पर बड़े नालों से हर दिन बड़ी मात्रा में गंदा पानी नदी में मिल रहा है जो नदी में प्रदूषण का स्तर बड़ा रहा है। इतना ही नहीं सभी की नजरों के सामने राजाराम फैक्ट्री से हर दिन छोड़ा जा रहा प्रदूषित पानी नदी में मिल रहा है जो पानी में ऑक्सीजन कम करने के साथ प्रदूषण का स्तर बड़ा रहा है।
शिवना के आंचल को मेला कर रहा शहर का सीवरेज तो राजाराम फैक्ट्री का पानी कर रहा जहरीला
शिवना के आंचल को मेला कर रहा शहर का सीवरेज तो राजाराम फैक्ट्री का पानी कर रहा जहरीला
नदी को शुद्ध करने के लिए श्रमदान से लेकर हर स्तर पर अभियान चले लेकिन फैक्ट्री के पानी को नदी में मिलने से आज तक नहीं रोका जा सका और दूषित शिवना का यही सबसे अहम कारण है। अब शहरवासियों की आस स्वच्छ शिवना के सपने को साकार करने के लिए फैक्ट्री से और शहर से आ रहे गंदे पानी को मिलने से रोकना और उतना ही जरुरी है अलावदाखेड़ी में शिवना पर बने स्टॉपडेम का हल खोजना। जिनके कारण नदी वर्षभर दूषित रहती है।

जो शिवना जनआस्था का केंद्र उसे ही बना दिया गंदा नाला
विश्व प्रसिद्ध अष्टमुखी भगवान पशुपतिनाथ के चरण पखारने वाली शिवना जनआस्था का केंद्र है। लेकिन वर्तमान में नालों के पानी और फैक्ट्री से छोड़े जा रही दूषित पानी के कारण गंदा नाले के रुप में दिख रही है। जो आस्था का केंद्र है उसे ही नाला बनने तक भी इस पर कोई गंभीर नहीं है। बड़ी विड़बना तो यह है कि शिवना शुद्धिकरण के लिए अब तक हुए प्रयासों और सर्वे के बीच बैठकों में हर एक पहलू पर मंथन हुआ लेकिन मुक्तिधाम के समीप क्षेत्र में राजाराम फैक्ट्री से इसमें मिल रहे दूषित पानी को मिलने से रोकने पर ना बात हुई और ना ही इस पर किसी ने बेबाकी से मुद्दा उठाया। इसी कारण सालों से फैक्ट्री का पानी नदी में मिल रहा है और यह नदी के प्रदूषण को बड़ा रहा है।

८ किमी क्षेत्र में आधा दर्जन से अधिक नालें
शहरीय क्षेत्र में ८ किमी क्षेत्र में शिवना नदी में प्रदूषण का स्तर सबसे अधिक है। इसमें रेलवे ब्रिज से लेकर मुक्तिधाम और यहां पुलिया वाले क्षेत्र में नालों से लेकर राजाराम फैक्ट्री से इसमें छोड़े जा रहे केमिकलयुक्त और दूषित अपशिष्ट और पानी तो वहीं भगवान पशुपतिनाथ मंदिर क्षेत्र में बड़ी पुलिया से लेकर छोटी पुलिया और कोर्ट के निचले क्षेत्र तक मिल रहे नालें भी इसकी बड़ी वजह है। इतना ही नहीं कई पांईट ऐसे है कि पाईप डालकर नदी के बीच में गंदे पानी को छोड़ा जा रहा है। वहीं खानपुरा में तीन छत्री बालाजी के समीप बड़ा नाला इसमें मिल रहा है। इस तरह शहरीय क्षेत्र में कई जगहों पर शहर के गंदे पानी के नालों से नदी में सीवरेज मिल रहा है। वहीं फैक्ट्री का पानी शिवना के जल को हर दिन जहरीला कर रहा है।

मंदिर क्षेत्र में सबसे अधिक प्रदूषण, दुर्गंध से भक्त होते है परेशान
भगवान पशुपतिनाथ मंदिर पर दूर-दरार्ज से भक्त दर्शन करने पहुंचते है। शिव के आंगन में बह रही शिवना की दूर्दशा के साथ बढ़ते प्रदूषण के कारण फैल रही दुर्गंध इन भक्तों को परेशान करती है। मंदिर क्षेत्र में सीवरेज के कारण बढ़ रहा प्रदूषण देशभर से आने वाले भक्तों की नजर में शिवना की दुर्दशा को बया करती है। इतना ही नहीं मुक्तिधाम क्षेत्र में बड़ी पुलिया व रेल ओवरब्रिज से शहर में प्रवेश करने वाले यात्रियों के लिए यहां से उठती दुर्गंध ही पहचान बन गई है।
प्रयास कर रहे है
नदी में नालों के मिल रहे पानी को कैसे रोका जाए। इस पर प्रयास कर रहे है। ३० करोड़ की योजना में टेंडर के साथ इसके लिए नाला बनेगा और पानी को उसमें जोड़ा जाएगा। वहीं फैक्ट्री के पानी को भी नदी में नहीं मिलने के लिए भी निर्देश दिए है। प्रयास करते हुए आगे बढ़ रहे है। अलावदाखेड़ी में जो स्टॉपडेम बना है उसका भी हल निकाला जाएगा। -गौतमसिंह, कलेक्टर
.........
शिवना शुद्धिकरण के लिए नपा में कंट्रोल रूम स्थापित

शिवना शुद्धिकरण अभियान को लेकर नगर पालिका में कंट्रोल रुप स्थापित किया गया है। सीएमओ पीके सुमन ने बताया कि 19 मई से जिला प्रशासन की पहल पर शिवना नदी के कायाकल्प के लिए शिवना गहरीकरण व शुद्धिकरण अभियान प्रारंभ होने जा रहा है। इस अभियान के संबंध जो भी नागरिक, समाजसेवी संस्था के जनप्रतिनिधी यदि कोई सुझाव देना चाहते है तो वे नगर पालिका कार्यालय में खोले गए शिवना शुद्धिकरण अभियान के कंट्रोल रूम पर दे सकते है। साथ ही नपा के कार्यालीन समय में फोन नंबर 07422-224911 पर अपने सुझाव नोट करा सकते है। नपा का कंट्रोल नपा के कार्यालयीन समय में आपके सुझाव को नोट कर संबंधित अधिकारीयो को अवगत कराएंगे। उन पर अमल भी लाया जाएगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: खतरे में MVA सरकार! समर्थन वापस लेने की तैयारी में शिंदे खेमा, राज्यपाल से जल्द करेंगे संपर्क?Mumbai Building Collapse: मुंबई के कुर्ला में चार मंजिला इमारत गिरी, एक की मौत; 12 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला गयाWest Bengal : मुकुल का इस्तीफा- ममता का निर्देश या सीबीआइ का डर?Karnataka Text Book Row : स्कूली पाठ्य पुस्तकों में होंगे आठ बदलावपीएम मोदी आज UAE दौरे के लिए होंगे रवाना, राष्ट्रपति से करेंगे मुलाकातअमेरिकाः मिसौरी में बड़ा ट्रेन हादसा, 3 की मौत और 50 से ज्यादा घायलराष्ट्रपति उम्मीदवार Draupadi Murmu पर अभद्र टिप्पणी करने पर डायरेक्टर राम गोपाल वर्मा पर लखनऊ में केस दर्ज, पुलिस ने शुरू की जांचMaharashtra News: सांगली में परिवार के 9 सदस्यों की मौत आत्महत्या नहीं बल्कि हत्या थी, पुलिस ने किया चौका देने वाला खुलासा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.