VIDEO: एक्सीडेंट के बाद न्यायाधीश को लोगों ने दौड़ाकर पीटा, कपड़े भी फाड़े

 VIDEO: एक्सीडेंट के बाद न्यायाधीश को लोगों ने दौड़ाकर पीटा, कपड़े भी फाड़े

महू-नीमच राजमार्ग पर ग्राम सूंठोद में सड़क पार करने के लिए डिवाइडर पर खडे़ एक बालक को मंदसौर में पदस्थ प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश राजवर्धन गुप्ता की कार ने टक्कर मार दी।


मंदसौर। महू-नीमच राजमार्ग पर ग्राम सूंठोद में सड़क पार करने के लिए डिवाइडर पर खडे़ एक बालक को मंदसौर में पदस्थ प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश राजवर्धन गुप्ता की कार ने टक्कर मार दी। टक्कर इतनी तेज थी कि बालक 10 फीट दूर उछलकर गिर गया। इसके बाद आक्रोशित लोगों ने जज के साथ जमकर मारपीट की और कपड़े फाड़ दिए। इसका वीडियो सोमवार को वायरल हुआ है।

गुस्साए लोगों ने कार को पलटा
गुस्साए लोगों ने कार को दो-तीन पलटी देकर सड़क के बीच में आड़ा करके जाम लगा दिया। करीब दो घंटे तक जमकर हंगामा भी हुआ। हाईवे भी जाम रहा। पुलिस ने पहले न्यायाधीश गुप्ता को ग्रामीणों के चुंगल से छुड़ाया। पुलिस प्रशासन के समझाने के बाद ग्रामीण शांत हुए।


क्रेन चालक को भी पीटा
दुर्घटना के बाद लोगों का गुस्सा यहीं नहीं थमा। कार को उठाने लाए गई क्रेन के ड्राइवर को भी ग्रामीणों ने उठाने नहीं दिया और ड्राइवर को जमकर पीट दिया।

bitten judge


यह था घटनाक्रम
सरपंच विनोद गायरी, जनपद सदस्य समरथ गेहलोत, आशीष फरक्या, रामेश्वर गेहलोत के मुताबिक साहिल (14) पिता मुकेश गेहलोत सूंठोद बस स्टैंड पर हाईवे मार्ग पार करने के लिए डिवाइडर पर खड़ा था कि मंदसौर से आ रही कार एमपी-02 एचसी-0272 ने ट्रक को टक्कर मार दी। टक्कर के बाद कार डिवाइडर के दूसरी तरफ जा गिरी। बालक दस फीट दूर उछल कर गिरा था।


MP पुलिस की अजब कहानी
ट्रक की टक्कर से कार जैसी गाड़ियां पिचक जाती है, लेकिन एक अनोखी टक्कर ने साइंस की सभी थ्योरी झुठला दी। ट्रक की टक्कर से कार अनियंत्रित होकर डिवाइडर पर चढ़कर दो पलटी खा गई, लेकिन उसके जिस हिस्से से ट्रक टकराया, वहां कोई खरोंच तक नहीं आई। शनिवार शाम को महू-नीमच राजमार्ग पर सूंठोद में न्यायाधीश गुप्ता की कार से बालक साहिब को टक्कर लगने के बाद बवाल हुआ था। उसमें देर रात पुलिस ने बताया था कि ट्रक की पीछे से टक्कर लगने के बाद ही कार अनियंत्रित हुई थी, इसीलिए बालक उसकी चपेट में आ गया था। कार की स्थिति और पुलिस के बयानों में विरोधाभास साफ नजर आता है। कार के पीछे का हिस्सा पूरी तरह से सलामत है, उस पर किसी भी ट्रक या भारी वाहन के टकराने जैसे निशान नहीं है।


कौन चला रहा था कार?
सरपंच दशरथ गायरी ने कहा कि वाहन जज ही चला रहे थे, साइड में एक व्यक्ति और बैठा था। कार को पीछे से ट्रक जोरदार टक्कर मारकर चला गया। इसी से कार अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकराते हुए दूर जा गिरी। वहीं आशीष ने कहा कि अनियंत्रित होकर कार डिवाइडर से टकराई, उसे ट्रक ने पीछे से टक्कर नहीं मारी। अभियोजन मुंशी राजेंद्र द्वारा पिपलियामंडी थाने में लिखवाई रिपोर्ट में कार ड्राइवर कन्हैयालाल कुमावत चला रहा था, जबकि न्यायाधीश गुप्ता पीछे वाली सीट पर बैठे थे। घटना के बाद ड्राइवर कार छोड़कर भाग गया।

क्यों बदला बयान?
शनिवार को पुलिस की थ्योरी कार में पीछे टक्कर लगने की थी। खुद sp मनोज शर्मा ने यह बात कही थी। रविवार को जब उन्हें बताया गया कि कार के पीछे का हिस्सा तो सही सलामत है, तब पुलिस की थ्योरी ही बदल गई।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned