scriptWith faith and hard work, 32 days journey completed for Shivna | आस्था-विश्वास और परिश्रम के साथ शिवना के लिए 32 दिनों की यात्रा हुई पूर्ण | Patrika News

आस्था-विश्वास और परिश्रम के साथ शिवना के लिए 32 दिनों की यात्रा हुई पूर्ण

आस्था-विश्वास और परिश्रम के साथ शिवना के लिए 32 दिनों की यात्रा हुई पूर्ण

मंदसौर

Published: June 20, 2022 10:49:39 am

मंदसौर.
शिवना मां के प्रति आस्था रखने वाले प्रत्येक श्रमदानी के अथक परिश्रम और बिना छुट्टी लिए लगातार ३२ दिनों से महाअभियान में यहां पहुंचकर श्रमदान करने से अब नदी का स्वरुप बदला सा दिख रहा है। आस्था-विश्वास व परिश्रम के साथ ३२ दिनों की यह यात्रा पूर्ण हुई। अब २१ जून को शिवना शुद्धिकरण व गहरीकरण के इस महाअभियान की पूर्णाहुति भी योग दिवस के अवसर पर होगी। शिवना को प्रवाहमान बनाने और शुद्ध रखने के लिए रविवार को दो घंटे से अधिक समय तक चले श्रमदान के बाद किन्नर गुरु अनिता दीदी ने शपथ दिलाई। लोगों ने श्रम करते हुए पसीना बहाया। जयकारों के साथ श्रमदान भी किया। एक माह से अधिक समय से चल रहा श्रमदान का यह दौर अब अंतिम दौर में चल रहा है।
कलेक्टर ने रविवार को शिवना शुद्धिकरण अभियान के दौरान कहा कि मां शिवना के प्रति जो आस्था और विश्वास के साथ श्रमदान करते हुए साफ और स्वच्छ रखने के लिए एक लंबी यात्रा पूर्ण हुई। इसकी पूर्णाहुति भी विशेष होगी। योग दिवस के दिन हम स्वस्थ रहते हुए राष्ट्र के समस्त कार्यक्रमों में अपनी भागीदारी करते रहें ऐसा आशीर्वाद भगवान पशुपतिनाथ से प्राप्त करेंगे। कलेक्टर गौतम सिंह ने बड़े श्रद्धा के साथ नगर के साथ ही आसपास के क्षेत्रों से पधारे प्रत्येक समाज सेवी संगठन प्रत्येक प्रशासकीय विभाग के कर्मचारी अधिकारी जिन्होंने मां शिवना के लिए तगारी उठाकर मन में साफ साफ रखने का संकल्प लेकर जो कार्य किया है उन सभी की सराहना की है। उन्होंने कहा कि स्वच्छता एवं शुद्धिकरण के आंदोलन को जन जन तक पहुंचाने में बहुत ही शिद्दत के साथ कार्य किया है। भगवान पशुपतिनाथ सहस्त्र शिवलिंग शिवना मां सभी श्रमदानियों को आशीर्वाद देगी। इस अभियान की पूर्णता व सफलता श्रमदानियों की मेहनत से हुई है।
गंदे नालों को रोका जाना चाहिए
32 से दिवस के श्रमदान पर अनीता दीदी ने पहुंचकर मां शिवना के इस अभियान में जिसने भी श्रमदान किया है उन्हें धन्यवाद दिया। उन्होंने सभी श्रमदानियों के साथ श्रमदान करते हुए कहा कि शिवना पहले स्वच्छ और साफ थी यह गंदी तो गंदे नालों से हुई है। इन्हें रोका जाना चाहिए। विजय परदेशी, गोपाल शर्मा ने कहां की हम सौभाग्यशाली हैं हम लोग जहां भगवान प्रकट हुए हैं उस स्थल को साफ स्वच्छ रखने का मौका हमें दिया गया है इसके लिए प्रत्येक जन्म हमको ऐसे कार्य करने का अवसर मिलता रहे। 32 दिवस की लंबी यात्रा श्रमदान करने वाले मनीष भावसार, हरिशंकर शर्मा, अरुण गोड़, राजाराम तंवर, अजी उल्ला खान, सुनीता भावसार, सीमा चौरडीया, बंशीलाल टांक, अनिल मालीवाल, शिवेंद्र प्रताप सिंह, रविंद्र बेस, लाल बहादुर श्रीवास्तव, जितेंद्र वासवानी, सुनील व्यास सहित अन्य ने अपनी नियमित सेवा दी है। शिवना कल-कल करती हुई बहे इसके लिए सभी ने अपनी भूमिका निभाई है। 21 जून का श्रमदान सुबह ६.३० बजे से ७ बजे तक होगा। इसके साथ अधिकारियों की मौजूदगी में इसका समापन होगा। श्रमदान के इस अभियान की पूर्णाहुति पर हरिशंकर शर्मा, मनीष भावसार जनता के और सुझाव को एकत्र कर कलेक्टर को सौंपेगे। इसमें रामघाट से लेकर मुक्तिधाम तक सागबमती की तर्ज पर लोहे की जाली लगाने का और गंदे नालों को पूर्ण रूप से प्रतिबंधित करने का लक्ष्य रखने के साथ ही चारों और हरियाली और पौधें लगाने का भी प्रशासन के साथ इस कार्य को पूरा करने का इसकी शुरुआत बरसात के बाद की जाएगी।
आस्था-विश्वास और परिश्रम के साथ शिवना के लिए 32 दिनों की यात्रा हुई पूर्ण
आस्था-विश्वास और परिश्रम के साथ शिवना के लिए 32 दिनों की यात्रा हुई पूर्ण
शिवना की सेवा में मातृशक्ति नहीं रही पीछे
समाजसेविका किरण मंडोरा ने कहा देश की मातृशक्ति सेवा कार्य में कभी पीछे नहीं रही प्रत्येक कार्यक्रम की सफलता में मातृशक्ति को केवल बुलाने की देर है। वह बड़ी श्रद्धा और उस कार्य को पूरा करने में लगन निष्ठा से कार्य करती है और मां शिवना ना हमारे लिए नदी ही नहीं हमारी आस्था का केंद्र है। इस नदी के अंदर हमारे इष्ट देव का उत्पत्ति स्थल है इस पर किया हुआ सेवा कार्य कभी भी बेकार नहीं जाएगा।
श्रमदान हर कार्य को पूरा कर सकता है
एडवोकेट विजय परदेशी ने कहा कि श्रमदान हर बड़े कार्य को पूरा कर सकती है। श्रमदान के प्रति सभी के आस्था है। इस राष्ट्र को सुंदर बनाने के लिए भारत के प्रत्येक नागरिक को नदियों को और हर क्षेत्र में पौधें लगाकर वायुमंडल को शुद्ध करने के लिए बहुत प्रयास करने की आवश्यकता है। भारत में भावनाएं काम करती हैं बस उनका उपयोग शासन को लेना आना चाहिए। आम जनता शासन के साथ बराबर कंधे से कंधा मिलाकर कार्य करेगी।
शिवना के लिए गहरी आस्था है
पशुपतिनाथ प्रबंध समिति के मैनेजर राहुल रुनवाल ने श्रमदान करते हुए कहा कि इस नदी के प्रति सभी की गहरी आस्था है। बाहर से आने वाले दर्शनार्थी शिवना के अंदर स्नान भी करते हैं अबकी बार शिवना का जो जल है वह साफ स्वच्छ है यदि प्रयास जारी रहे तो शिवना का और अच्छा रूप निखर कर आएगा। इसके लिए सभी श्रमदान करेंगे परिणाम सुखद होंगे।
प्रयासों के सुखद परिणाम आएंगे
श्रमदान करने आई अनीता दीदी ने कहा कि शिवना तो पहले से स्वच्छ और साफ थी इसके अंदर गंदगी जनता ने मिलाई है और जनता ही साफ स्वच्छ रखने के लिए आगे आएगी तो इसके सुखद परिणाम निकलेंगे। इसमें गंदे नाले ना मिलाया जाए और विश्व विख्यात प्रतिमा जहां से प्रगट हुई है उसके लिए शासन को स्थाई समाधान के लिए कठोर कदम उठाने होंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

राजस्थान में इंटरनेट कर्फ्यू खत्म, 12 जिलों में नेट चालू, पांच जिलों में सुबह खत्म होगी नेटबंदीनूपुर शर्मा पर डबल बेंच की टिप्पणियों को वापस लिया जाए, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के समक्ष दाखिल की गई Letter PettitionENG vs IND Edgbaston Test Day 1 Live: ऋषभ पंत के शतक की बदौलत भारतीय टीम मजबूत स्थिति मेंMaharashtra Politics: महाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने देवेंद्र फडणवीस के डिप्टी सीएम बनने की बताई असली वजह, कही यह बातजंगल में सर्चिंग कर रहे जवानों पर नक्सलियों ने की फायरिंगपंचायत चुनाव: दो पुलिस थानों ने की कार्रवाई, प्रत्याशी का चुनाव चिन्ह छाता तो उसने ट्राली भर छाता बंटवाने भेजे, पुलिस ने किए जब्तMonsoon/ शहर में साढ़े आठ इंच बारिश से सडक़ों पर सैलाब जैसा नजारा, जन जीवन प्रभावित2 जुलाई को छ.ग. बंद: उदयपुर की घटना का असर छत्तीसगढ़ में, कई दलों ने खोला मोर्चा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.