Share Market और RIL का सहारा बना RRVL, जानिए कैसे हुआ यह कमाल

  • अबु धाबी इंवेस्टमेंट अथॉरिटी के निवेश की घोषणा के बाद रिलायंस के शेयरों में 3.50 फीसदी से ज्यादा की तेजी
  • रिलायंस के मार्केट में कारोबारी सत्र के दौरान 55 हजार करोड़ रुपए का देचाने को मिला इजाफा
  • एक महीने में आरआरवीएल 7 निवेशकों को 8 फीसदी से ज्यादा हिस्सेदारी देकर जुटा चुकी है 37,700 करोड़ से ज्यादा
  • मुकेश अंबानी रिलायंस रिटेल की 15 फीसदी तक बेच सकती है हिस्सेदारी, अधिग्रहण में करेंगी निवेश

By: Saurabh Sharma

Updated: 07 Oct 2020, 03:37 PM IST

नई दिल्ली। मंगलवार को अबु धाबी इंवेस्टमेंट अथॉरिटी ने रिलायंस रिटेल में 1 फीसदी से ज्यादा की हिस्सेदारी के लिए 5512 करोड़ रुपए की निवेश घोषणा की। जिसके बाद रिलायंस के शेयरों में बुधवार को 3.50 फीसदी से ज्यादा की तेजी देखने को मिल रही है। कंपनी ने कारोबारी सत्र के दौरान 55 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की कमाई की। साथ ही कंपनी का मार्केट कैप 15.61 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का हो गया है। जबकि शुक्रवार को कंपनी का मार्केट कैप 15 लाख करोड़ रुपए से नीचे था। जानकारों की मानें तो रिलायंस इंडस्ट्रीज रिलायंस रिटेल की 15 फीसदी की हिस्सेदारी बेच सकती है। अभी तक कंपनी रिटेल की 8 फीसदी तक की हिस्सेदारी बेच चुकी है। जिससे कंपनी को 37700 करोड़ रुपए से ज्यादा का विदेशी निवेश मिल चुका है।

यह भी पढ़ेंः- रिलायंस रिटेल में अबु धाबी इनवेस्टमेंट अथॉरिटी करेगी 5500 करोड़ का निवेश

रिलायंस की वजह से संभला शेयर बाजार
आज सुबह जब बाजार खुला तो गिरावट का मुंह देखना पड़ा था। इसका कारण था विदेशी बाजारों का गिरना। विदेशी बाजार इसलिए गिरे थे क्योंकि अमरीकी आर्थिक पैकेज अमरीकी प्रेसीडेंशियल इलेक्शन तक के लिए टल गया है। जिसकी वजह से अमरीकी बाजार धड़ाम हो गया है। जिससे एशियाई बाजार भी गिरे हुए दिखाई दिए हैं, लेकिन थोड़ी ही देर के बाद रिलायंस के शेयरों में जबरदस्त इजाफा देखने को मिला। जिससेे घरेलू शेयर बाजार में तेजी देखने को मिली। मौजूदा समय में घरेलू शेयर बाजार 39,939 अंकों पर कारोबार कर रहा है। जानकारों की मानें तो बाजार बंद होने से पहले 40 हजार के स्तर को छू सकता है। वहीं निफ्टी 50 11728 अंकों पर कारोबार कर रहा है।

यह भी पढ़ेंः- एक महीने में भारत आ सकता है विजय माल्या, जानिए सुप्रीम को दिए हलफनामे में केंद्र सरकार ने क्या दी जानकारी

रिलायंस के शेयरों में 3.50 से ज्यादा की तेजी
आज रिलायंस के शेयरों में 3.50 फीसदी से ज्यादा की तेजी देखने को मिल रही है। जो कारोबारी सत्र के दौरान 4 फीसदी तक जाकर दिन के उच्चतम स्तर 2309.40 रुपए पर चला गया था। मौजूदा समय में कंपनी का शेयर 3.60 फीसदी की तेजी के साथ 2285 रुपए पर कारोबार कर रहा है। जबकि कंपनी के शेयर की शुरुआत 2233.25 रुपए के साथ हुई थी और 2221 रुपए के साथ दिन के न्यूनतम स्तर तक गया था।

यह भी पढ़ेंः- Flipkart Big Billion Days Sale: एसबीआई से लेकर बजाज और पेटीएम तक जाने कितना होगा फायदा

कंपनी के मार्केट कैप में 55 हजार करोड़ रुपए का इजाफा
वहीं बात रिलायंस के मार्केट कैप की करें तो आज कंपनी के शेयरों में इजाफे की वजह से मार्केट कैप 15 लाख करोड़ रुपए के पारा पहुंच गया। जब शुक्रवार को बाजार बंद हुआ था तो कंपनी का मार्केट कैप 1494772.64 करोड़ रुपए था। आज जब कंपनी के शेयर प्राइस 2309.40 रुपए पर पहुंचा तो कंपनी का मार्केट कैप 1561368.26 करोड़ रुपए हो गया। यानी इस दौरान कंपनी के मार्केट कैप में 54917.33 करोड़ रुपए का इजाफा होगा। जानकारों की मानें तो आने वाले दिनों में रिलायंस के शेयरों में और तेजी देखने को मिल सकती है।

यह भी पढ़ेंः- Amazon Prime Day Sale : ग्रेट इंडियन फेस्टिवल 17 अक्टूबर से होगी शुरू, जानिए कितना मिलेगा डिस्काउंट और ऑफर्स

एडीआईए ने किया 5512 करोड़ का निवेश
रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड में अबु धाबी इनवेस्टमेंट अथॉरिटी द्वारा 1.2 फीसदी हिस्सेदारी के लिए भारत का सबसे बड़ा रिटेलर ने 4.285 लाख करोड़ रुपए के प्री-मनी इक्विटी मूल्य पर 5,512.5 करोड़ रुपए का निवेश किया है। आरआईएल द्वारा आए बयान के अनुसार आरआरवीएल ने अब सिल्वर लेक, केकेआर, जनरल अटलांटिक, मुबाडाला, जीआईसी, टीपीजी और एडीआईए जैसे प्रमुख वैश्विक निवेशकों से 37,710 करोड़ रुपए जुटा लिए हैं।

यह भी पढ़ेंः- चने के बाद अरहर की दाल भी हो सकती है थाली से गायब, 150 रुपए प्रति किलो तक पहुंचे दाम

15 फीसदी तक बिक सकती है रिटेल की हिस्सेदारी
वहीं दूसरी ओर मुकेश अंबानी रिलायंस रिटेल की हिस्सेदारी को 15 फीसदी तक बेच सकते हैं। जोकि जियो प्लेटफॉर्म के डिसइंवेस्टमेंट मुकाबले 50 फीसदी ही है। जियो प्लेटफॉर्म की मुकेश अंबानी ने करीब 32 फीसदी की हिस्सेदारी बेची थी। जानकारों के अनुसार उस समय रिलायंस पर कर्ज का बड़ा बोझ था। जिसे उतारने के लिए जियो के विनिवेश की जरुरत ज्यादा थी। अब वो स्थिति नहीं है। रिलायंस के पास मौजूदा समय में रुपयों की भी कोई कमी नहीं है। रिटेल के इक्विटी को बेचकर जो रुपया आएगा, उसे रिलायंस नई कंपनियों को खरीदने मे खर्च करेगी।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned