क्या अनिल अंबानी ग्रुप की नैया पार लगाएगी यह कंपनी, 100 दिनों में 800 फीसदी तक चढ़ा शेयर

  • 9 सितंबर के बाद से reliance naval and engineering के शेयर में लगातार तेजी
  • 0.73 पैसे से बुधवार सुबह तक 8.05 रुपए तक पहुंचे कंपनी का एक शेयर
  • करीब 10 साल पहले Share Market में लिस्टिड हुई थी रिलायंस नेवल एंड इंजिनियरिंग

By: Saurabh Sharma

Updated: 27 Nov 2019, 01:13 PM IST

नई दिल्ली। अनिल धीरूभाई अंबानी ग्रुप ( ADAG ) की कई कंपनियां कर्ज के बोझ से दबी हुई हैं। हाल ही में अनिल अंबानी ( Anil Ambani ) ने रिलायंस कंयूनिकेशन ( Reliance Communication ) के डायरेक्टर पद से इस्तिफा भी दे दिया है। इसी बीच ग्रुप और अनिल अंबानी के लिए अच्छी खबर आई है। वास्तव में बीते 100 दिनों में अनिल अंबानी की रिलायंस नेवल एंड इंजिनियरिंग ( reliance naval and engineering ) के शेयरों में 800 फीसदी से ज्यादा का उछाल देखने को मिला है। ताज्जुब की बात तो ये है कि यह कंपनी बीते तीन सालों से घाटे में हैं। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर अनिल अंबानी की इस कंपनी के शेयर कितने रुपए के हो गए हैं..

यह भी पढ़ेंः- प्याज की नई फसल का उत्पादन कम करेगा प्याज के दाम

रिलायंस नेवल के उछल रहे हैं शेयर्स
अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस नेवल एंड इंजिनियरिंग के शेयरों में बीते 100 दिनों से उछाल देखने को मिल रहा है। वास्तविक तारीख से शुरुआत करें तो 9 सिंतबर को कंपनी का शेयर 0.73 पैसे अपने रिकॉर्ड लेवल पर था। उसके बाद से कंपनी के शेयरों में रैली शुरू हुई। आज सुबह जब मार्केट खुला तो कंपनी का शेयर 8.05 रुपए पर पहुंच गया। कंपनी की शेयर बाजार में 2009 में लिस्टिंग हुई थी। यह पहली बार है जब कंपनी का शेयर लगातार चढ़ रहा है।

यह भी पढ़ेंः- विदेशी बाजारों में बढ़त का दिखा असर, सेंसेक्स लगातार दूसरे दिन 41 हजार के पार

लगातार तीन सालों से हो रहा है कंपनी को घाटा
अगर बात कंपनी के घाटे और मुनाफे की करें तो बीते तीन सालों या फिर 14 तिमाहियों से कंपनी को घाटा हो रहा है। वित्त वर्ष 2019 के अंत में कंपनी का कन्सॉलिडेटेड ग्रॉस डेब्ट 10916.15 करोड़ रुपए था। बैंकरप्सी ट्राइब्यूनल इसे बैंकरप्सी प्रोसेस में डालने पर विचार कर रहा है, क्योंकि लेंडर्स ने इसके कर्ज की रीस्ट्रक्चरिंग से इनकार कर दिया है।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned