अमेजन को टक्कर देने के लिए अलीबाबा का नया दांव, इस भारतीय कंपनी के साथ कर सकती है साझेदारी

अमेजन को टक्कर देने के लिए अलीबाबा का नया दांव, इस भारतीय कंपनी के साथ कर सकती है साझेदारी

| Publish: Aug, 18 2018 03:45:44 PM (IST) बाजार

चीन की दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा ने भारत के रिटेल बाजार में कदम रखने के लिए भारतीय ई-कॉमर्स कंपनियों के साथ बातचीत शुरू कर दी है।

नई दिल्ली। भारत में बढ़ते ई-कॉमर्स कारोबार का लाभ लेने के लिए दुनियाभर की कंपनियों में होड़ मची है। फ्लिपकार्ट-वॉलमार्ट डील के बाद अब चीन की दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा अब भारत में पैर पसारने के लिए बेताब दिख रही है। इसके लिए अलीबाबा ने भारत की ई-कॉमर्स कंपनियों में से बातचीत शुरू कर दी है। टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, हाल ही में अलीबाबा के एक वरिष्ठ अधिकारी ने भारत की दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनियों से बातचीत की है। इसमें मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड, टाटा ग्रुप और किशोर बियानी के फ्यूचर रिटेल शामिल हैं। अमरीकी रिटेल कंपनी अमेजन के बढ़ते कदमों को रोकने के लिए अलीबाबा ने भारतीय कंपनियों के साथ साझेदारी करने की योजना बनाई है।

रिलायंस के साथ पहली बार बातचीत

टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, अलीबाबा काफी पहले से भारतीय ई-कॉमर्स कंपनियों से बातचीत कर रही है लेकिन रिलायंस ग्रुप से पहली बार बातचीत की गई है। जानकारी के अनुसार अलीबाबा इससे पहले ट्रेंट के चेयरमैन नोेएल टाटा और टाटा समूह के पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्त्री से बातचीत कर चुकी है। अलीबाबा का मानना है कि रिलायंस, टाटा और प्यूचर ग्रुप के साथ साझेदारी करने से उसके ओमनी चैनल ब्लूप्रिंट को काफी मदद मिलेगी। आपको बता दें कि अलीबाबा का ओमनी चैनल या मल्टी चैनल रिटेल ऑनलाइन और ऑफलाइन स्टोर्स से खरीदारी की सुविधा प्रदान करता है। अलीबाबा का यह मॉडल चीन में काफी लोकप्रिय है।

किसी कंपनी के साथ बड़ी साझेदारी कर सकती है अलीबाबा

रिपोर्ट के अनुसार, भारत में पैर पसारने के लिए अलीबाबा भारतीय रिटेल कंपनियों से साझेदारी कर सकती है। अली बाबा भारतीय कंपनियों के साथ जॉइन्ट वेंचर या फिर व्यापक साझेदारी कर सकती है। इसके लिए अलीबाबा किसी भी भारतीय कंपनी के रिटेल बिजनेस में हिस्सेदारी खरीद सकती है। आपको बता दें कि हाल ही में फ्यूचर ग्रुप के किशोर बियानी ने विदेशी निवेशक के साथ डील फाइनल करने की बात कही थी। हालांकि, बियानी ने विदेशी निवेशक का नाम नहीं बताया था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned