कोरोना वायरस से future group का बुरा हाल, किशोर बियानी कर रहे हैं हिस्सेदारी बेचने की तैयारी

किशोर इस संकट से उबरने के लिए Future Retail Limited (FRL) की हिस्सेदारी को बेचने के लिए प्रेमजी इंवेस्ट से बातचीत कर रहे हैं। इसके अलावा फ्यूचर ग्रूप राइट्स इश्यू के ऑप्शन पर भी विचार कर रहा है।

By: Pragati Bajpai

Updated: 27 Mar 2020, 01:59 PM IST

नई दिल्ली: कोरोना वायरस का कहर जारी है। बाजार और उद्योगपतियों पर इसका असर साफ देखा जा सकता है। अब खबर आ रही है कि बाजार की गिरावट के चलते फ्यूचर ग्रुप के चेयरमैन किशोर बियानी बहुत जल्द फ्यूचर रीटेल के शेयर्स बेच सकते हैं। दरअसल फ्यूचर ग्रुप के शेयर्स की कीमत लगातार गिरती जा रही है और इस बात का अंदाजा लगाना थोड़ा मुश्किल है कि ये गिरावट कब तक जारी रहेगी । शेयरों की गिरती कीमत की वजह से कंपनी को अपनी बीमा कंपनी को दूसरी कंपनियों के साथ मर्जर के बारे में सोचना पड़ रहा है।

RBI ने EMI देने वाले लाखों लोगों को दी राहत, लोन की किस्तों में होगी 16000 रुपए की बचत

इस हफ्ते की शुरूआत में Future Corporate Resources Private Ltd, अपने कर्ज चुकाने से चूक गई थी। जिसके चलते IDBI Trusteeship Services ने अपने गिरवीं रखें शेयर्स को वापस ले लिया है। अगर ये डील सफल नहीं होती या मौजूदा निवेशक कंपनी को सपोर्ट करने में विफल हो जाते हैं तो कंपनी रीटेल सुपरमार्केट चेन BIG BAZAAR से हाथ धो सकती है।

किशोर इस संकट से उबरने के लिए Future Retail Limited (FRL) की हिस्सेदारी को बेचने के लिए प्रेमजी इंवेस्ट से बातचीत कर रहे हैं। इसके अलावा फ्यूचर ग्रूप राइट्स इश्यू के ऑप्शन पर भी विचार कर रहा है। जिसमें कंपनी के सभी शेयरहोल्डर्स पार्टीसिपेट कर सकते हैं। आपको बता दें कि AMAZON कंपनी का भी फ्यूचर ग्रुप में शेयर है लेकिन कंपनी अब अमेजन को और अधिक इंवेस्ट करने की इजाजत नहीं दे सकती है।

वहीं सूत्रों के मुताबिक राइट्स इश्यू के जरिए कंपनी के लिए फंड जुटाना थोड़ा मुश्किल और चांसेज हैं कि बियानी को अपनी हिस्सेदारी ग्रुप में कम करनी पड़ेगी। पिछले सप्ताह ICRA द्वारा कंपनी की रेटिंग को कर्जों की वजह से कम करना पड़ा था । फ्यूचर ग्रुप पर 12778 करोड़ के कर्ज में डूबी हुई है। आपको मालूम हो कि पिछले एक महीने में कोरोना वायरस की वजह से कंपनी के शेयर 70 फीसदी तक गिर चुके हैं और इस वक्त कंपनी को चलाने के लिए कैश की किल्लत हो रही है। कंपनी के ऊपर टोटल मार्केट कैपिटल का 1.3 कर्ज है । ऐसे में कंपनी को आखिर में अपने शेयर बेचने के लिए बाध्य होना पड़ सकता है।

Pragati Bajpai
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned