एफपीआई ने दिसंबर में इक्विटी से निकाले 4000 करोड़

विदेशी निवेशको ने क्यों निकाले पैसे

By: manish ranjan

Published: 10 Dec 2017, 03:22 PM IST

नई दिल्ली. विदेशी निवेशकों ने दिसंबर महीने अब तक घरेलू स्टॉक मार्केट में 4000 करोड़ रुपए से ज्यादा की निकासी की है। क्रूड की कीमत में तेजी और राजकोषीय घाटा बढऩे की वजह से एफपीआई ने मार्केट से पैसे निकाले हैं। 8 महीने के हाई के बाद एफपीआई का निवेश दिसंबर महीने में घटा है। सरकार द्वारा बैंकों के लिए रिकैपिटलाइजेशन प्लान और वल्र्ड बैंक की ईज ऑफ डुइंग बिजनेस रैंकिंग में भारत की रैंकिंग में सुधार के चलते नवंबर में निवेश 8 महीने के हाई पर पहुंच गया था। नवंबर में एफपीआई का इन्वेस्टमेंट 19,728 करोड़ रुपए रहा था। यह मार्च के बाद एफपीआई का हाइएस्ट इन्वेस्टमेंट था। मार्च में एफपीआई ने 30,906 करोड़ रुपए निवेश किए थे। वहीं स्टॉक मार्केट की बात करें तो बीते हफ्ते सेंसेक्स की 30 में से 20 कंपनियों के शेयरों के दाम बढ़े जबकि अन्य 10 दबाव में रहे। एफएमसीजी क्षेत्र की कंपनी हिन्दुस्तान यूनिलिवर के शेयर सबसे ज्यादा 5.94 प्रतिशत चढ़े। इसी क्षेत्र की आईटीसी के शेयरों में 2.51 प्रतिशत की बढ़त देखी गयी। ऑटो कंपनियों मे मिलाजुल रुख रहा। मारुति सुजुकी के शेयर 5.03 प्रतिशत, टाटा मोटर्स के 2.98, टाटा मोटर्स डीवीआर के 2.14 और बजाज ऑटो के 0.08 प्रतिशत चढ़े। वहीं हीरो मोटोकॉर्प में 2.60 प्रतिशत और महिंद्रा एंड महिंद्रा में 1.44 प्रतिशत की साप्ताहिक गिरावट रही। आईटी कंपनियों में इंफोसिस ने जहाँ 4.49 प्रतिशत का मुनाफा कमाया, वहीं विप्रो में 2.14 फीसदी और टीसीएस में 1.12 फीसदी की गिरावट देखी गयी। फार्मा क्षेत्र की कंपनियों में भी मिश्रित रुख रहा।

कैसा रहा एचडीफसी का प्रदर्शन

बैंकिंग और फाइनेंस में एचडीएफसी बैंक की 0.20 प्रतिशत की गिरावट को छोडक़र अन्य में तेजी रही। आईसीआईसीआई बैंक ने 1.74 प्रतिशत, एक्सिस बैंक ने 1.66 प्रतिशत, एचडीएफसी ने 1.08 प्रतिशत, कोटक महिंद्रा बैंक ने 0.39 प्रतिशत और भारतीय स्टेट बैंक ने 0.19 प्रतिशत का मुनाफा कमाया। अन्य कंपनियों में टाटा स्टील में 2.37 प्रतिशत, अदानी पोट््र्स में 1.47, रिलायंस इंडस्ट्रीज में 1.22, एलएंडटी में 0.55, ओएनजीसी में 0.31 और पावरग्रिड में 0.02 प्रतिशत की बढ़त रही।

manish ranjan Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned