प्याज के बाद लहसुन ने बिगाड़ा रसोई का स्वाद, 300 रुपए के पार पहुंचा भाव

  • बारिश के कारण लहसुन का स्टॉक खराब हो गया
  • थोक भाव में बीते दो सप्ताह में कोई खास बदलाव नहीं हुआ

By: Shivani Sharma

Updated: 13 Oct 2019, 05:52 PM IST

नई दिल्ली। लहसुन की महंगाई ने भोजन का जायका बिगाड़ दिया है। प्याज और टमाटर की महंगाई से लोग पहले से ही परेशान हैं, अब लहसुन का दाम भी आसमान छू रहा है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में दुकानों पर लहसुन 300 रुपये किलो तक बिक रहा है। हालांकि लहसुन के थोक भाव में बीते दो सप्ताह में कोई खास बदलाव नहीं हुआ है, लेकिन रिटेल में लहुसन 250-300 रुपये प्रति किलो मिलने लगा है। जो कि दो सप्ताह पहले 150-200 रुपये प्रति किलो था।


बारिश के कारण खराब हुआ स्टॉक

देश में इस साल लहसुन का उत्पादन पिछले साल से 76 फीसदी अधिक रहने के बावजूद इसके दाम में बेहताशा वृद्धि हुई है। देश की प्रमुख लहसुन मंडी मध्यप्रदेश के नीमच, मंदसौर और राजस्थान के कोटा के कारोबारियों ने बताया कि बारिश के कारण स्टॉक में रखा लहुसन खराब हो जाने से सप्लाई का टोटा पड़ गया है, जिससे कीमतों में इजाफा हुआ है।


300 रुपए किलो बिक रहा लहसुन

देश की राजधानी दिल्ली में मदर डेयरी के बूथ पर लहसुन 300 रुपये प्रति किलो बिक रहा है। जबकि दिल्ली-एनसीआर में सब्जी की दुकानों पर लहसुन 250-300 रुपये प्रति किलो बिक रहा है। लहसुन के प्रमुख उत्पादक राज्य राजस्थान और मध्यप्रदेश सहित देश के अन्य हिस्सों में भी रिटेल में भाव 200 रुपये किलो से ज्यादा ही है। हालांकि नीचम मंडी में लहसुन का थोक भाव बीते 30 सितंबर को जितना था, तकरीबन उसी भाव पर बीते शनिवार को लहुसन बिका।


सूत्रों से मिली जानकारी

नीमच में शनिवार को विभिन्न क्वालिटी के लहसुन का भाव 8,000-17000 रुपये कुंटल था। कारोबारी सूत्र से मिली जानकारी के अनुसार, स्पेशल क्वालिटी का लहसुन हालांकि 21,700 रुपये प्रति कुंटल तक बिका। कोटा में लहसुन का थोक भाव 7,000-17,500 रुपये प्रति कुंटल था।


भाव बढ़ने का इंतजार कर रहे कारोबारी

नीमच के कारोबारी पीयूष गोयल ने बताया कि आवक काफी घट गई, क्योंकि जिनके पास लहसुन है, वे भाव और बढ़ने का इंतजार कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि इस समय लहसुन की आवक 4,000-5,000 बोरी (एक बोरी में 50 किलो) है, जबकि पीक आवक के सीजन के दौरान नीमच में लहसुन की आवक 20,000 बोरी से ज्यादा रहती है।


पीयूष गोयल ने दी जानकारी

गोयल ने बताया कि भाव बढ़ने का एक कारण यह भी है कि मानसून सीजन के आखिर में हुई बारिश से बुवाई में देर हो जाएगी, जिससे नई फसल आने में भी देर होगी। उन्होंने बताया कि रिटेल कारोबारी वहां भी लहसुन 200 रुपये किलो से अधिक दाम पर बेच रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर आवक इसी तरह घटती रही तो आने वाले दिनों में दाम में और इजाफा हो सकता है।

Show More
Shivani Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned