बाजार: गोल्ड एक्सचेंज से पूरी तरह बदल सकती है कारोबार की तस्वीर

- लोगों को मिलेगा खरा सोना, निवेशकों को पारदर्शी-सुरक्षित प्लेटफॉर्म
- दो कमोडिटी एक्सचेंजों में वायदा सौदे की सहूलियत
- 25 हजार टन कुल सोना है जेवरों के रूप में घरों में
- 02 हजार टन सोना है देश में मंदिरों के पास लगभग
- 27 हजार टन सोना देश में, मूल्य 185 लाख करोड़

By: विकास गुप्ता

Published: 08 Feb 2021, 04:37 PM IST

बसंत मौर्या

मुंबई. संसद में बजट पेश किए जाने के बाद देश में बुलियन एक्सचेंज को लेकर कवायद तेज हो गई है। यह सपना कब तक हकीकत में बदलेगा, अभी इस बारे में कुछ नहीं कह सकते। वैसे सोना-चांदी के कारोबारी और ज्वैलर्स संगठन इसे लेकर खासे उत्साहित हैं। माना यही जा रहा कि गोल्ड एक्सचेंज शुरू होने के बाद सर्राफा कारोबार की तस्वीर बदल जाएगी। कारोबारी सरकार के इस फैसले की सराहना कर रहे हैं। एक्सचेंज से आम लोग न सिर्फ खरा सोना खरीद पाएंगे, बल्कि निवेशकों के लिए पारदर्शी और विश्वसनीय प्लेटफॉर्म भी उपलब्ध होगा। एक्सचेंज की कार्यप्रणाली और विश्वसनीयता को लेकर पत्रिका ने इंडिया बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन (इब्जा) के राष्ट्रीय सचिव सुरेंद्र मेहता से बातचीत की। पेश हैं अंश...

ऐसे लाभ होगा-
सबसे ज्यादा फायदा आम लोगों को ही होगा। एक्सचेंज से वे सोना खरीद सकते हैं। उन्हें शुद्ध सोने की डिलीवरी मिलेगी। कोई हिडन कॉस्ट नहीं होगी। सोना खरीदने की प्रक्रिया पारदर्शी होगी। शुद्धता की गारंटी मिलेगी। बीआइएस मानकों को पूरा करने वाली रिफाइनरी के साथ एक्सचेंज समझौता करेगा। प्योरिटी सुनिश्चित करने के लिए एक्सचेंज रिफाइनरी का ऑडिट कराएगा।

योजना की दरकार-
मंदिरों को सोना दान में मिला है। लोगों की भावनाएं इससे जुड़ी हैं। आभूषणों से महिलाओं को बेहद लगाव होता है। यह सोना बाहर निकालने के लिए सरकार को दीर्घावधि योजना बनानी होगी। नियम-कायदों में ढील देनी होगी। बिना बिल वाले आभूषणों को लेने की छूट देनी होगी। इसमें से यदि हर साल 200-250 टन सोना बाजार में आए, तो हमारी आयात निर्भरता एक चौथाई कम होगी।

ऐसे काम करेगा एक्सचेंज-
शेयर बाजार और कमोडिटी एक्सचेंजों की तरह ही बुलियन एक्सचेंज भी काम करेगा। संचालन बाजार नियामक सेबी की गाइडलाइन के अनुसार होगा। आभूषण कारोबारी इससे जुड़े सकते हैं। आम लोग भी ब्रोकर-एजेंट के माध्यम से सौदे कर सकते हैं। एक्सचेंज में सौदों में जोखिम नहीं होगा। दो कमोडिटी एक्सचेंज सोने में वायदा सौदों का विकल्प दे रहे हैं। बुलियन एक्सचेंज में स्पॉट और वायदा दोनों तरह के विकल्प मिलेंगे। तय मानक पूरा करने पर मौजूदा एक्सचेंज या निवेशकों का समूह बुलियन एक्सचेंज बना सकते हैं।

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned