कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी से चिंतित है भारत, सऊदी अरब से निर्बाध सप्लाई के लिए किया बात

  • सऊदी अरब ऊर्जा मंत्री खालिद अल-फलीह के साथ बैठक।
  • सऊदी प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की इस साल फरवरी में भारत दौरे के बाद पहली यात्रा है।
  • रणनीतिक पेट्रोलियन रिजर्व प्रोग्राम पर भी हुई बातचीत

By: Ashutosh Verma

Published: 10 Mar 2019, 08:13 PM IST

नई दिल्ली। पेट्रोलियम मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्री खालिद अल-फलीह के साथ बैठक में कच्चे तेल के दाम बढऩे से घरेलू तेल की कीमतों में पडऩे वाले प्रभाव को लेकर चिंता जताई। धर्मेद्र प्रधान ने शनिवार को अल फलीह से बात करते हुए पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन ओपोक और अन्य तेल निर्यातकों द्वारा कच्चे तेल की सप्लाई में कटौती के मद्देनजर भारत को कच्चे तेल और एलपीजी की निर्बाध सप्लाई को लेकर बातचीत की।


सऊदी अरब ऊर्जा मंत्री खालिद अल-फलीह के साथ बैठक

अल फलीह की यात्रा सऊदी प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की इस साल फरवरी में भारत दौरे के बाद पहली यात्रा है। बयान में ये भी कहा गया कि दोनों मंत्रियों ने भूराजनीतिक घटनाक्रमों का वैश्विक तेल बाजार पर प्रभाव को लेकर भी चर्चा की। इसी के साथ इन दोनों मंत्रियों ने भारत के तेल और गैस क्षेत्र में सऊदी के निवेश प्रस्तावों की समीक्षा की, जिसमें महाराष्ट्र में वेस्ट कोस्ट रिफाइनरी संयुक्त उपक्रम और पेट्रोकेमिलकल प्रोजेक्ट शामिल है। इस प्रोजेक्ट की अनुमानित लागत लगभग 44 अरब डॉलर है, जो कि दुनिया की सबसे बड़ी ग्रीनफील्ड रिफाइनरी होगी।


रणनीतिक पेट्रोलियन रिजर्व प्रोग्राम पर बातचीत

दोनों नेताओं ने भारतीय रणनीतिक पेट्रोलियन रिजर्व (एसपीआर) प्रोग्राम में सऊदी अरब की भागीदारी पर भी बात की। सऊदी अरब भारत को कच्चा तेल और एलपीजी निर्यात करने वाला दूसरा सबसे बड़ा निर्यातक है।2017-18 में भारत में सऊदी अरब से 3.68 करोड़ टन (एमएमटी) कच्चा तेल आयात किया जो कि कुल आयात का 16.7 प्रतिशत था।

Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर।

Show More
Ashutosh Verma Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned