बाबा रामदेव की एक अौर नर्इ शुरुआत, अब देने जा रहे आपको जमकर कमार्इ करने का मौका

बाबा रामदेव की एक अौर नर्इ शुरुआत, अब देने जा रहे आपको जमकर कमार्इ करने का मौका

Ashutosh Kumar Verma | Publish: Dec, 13 2018 02:49:53 PM (IST) बाजार

मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद बहुत जल्द इनिशियल पब्लिक आॅफरिंग (आर्इपीआे) ला सकती है। हाल ही बाबा रामदेव ने इस तरफ इशारा किया था कि पतंजलि स्टाॅक एक्सचेंज में लिस्टिं करा सकती है।

नर्इ दिल्ली। देश के एफएमसीजी सेक्टर से लेकर फार्मा सेक्टर तक में धूम मचाने के बाद अब बाबा रामदेव एक आैर बड़ी तैयारी में जुटे हुए हैं। इस बार बाबा रामदेव देश के शेयर मार्केट में अपनी धाकड़ एंट्री कर सकते है। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद बहुत जल्द इनिशियल पब्लिक आॅफरिंग (आर्इपीआे) ला सकती है। हाल ही बाबा रामदेव ने इस तरफ इशारा किया था कि पतंजलि स्टाॅक एक्सचेंज में लिस्टिं करा सकती है। करीब एक माह पहले जब उनसे पूछा गया था कि क्या पतंजलि आयुर्वेद का आर्इपीआे आने वाला है तो उन्होंने कहा कि इसको लेकर बहुत जल्द 'अच्छी खबर' मिल सकती है। मतलब साफ है कि योग गुरू बाबा रामदेव अब स्टाॅक मार्केट में एंट्री करने वाले हैं। हालांकि, पतंजलि का ये आर्इपीआे आखिर कब तक अाएगा, इसके बारे में अभी कोर्इ जानकारी नहीं दी गर्इ है।


विदेशी इक्विटी में लिस्टिंग से बाबा ने किया था इन्कार

इसपर उन्होंने आगे कहा कि देश में यदि कर्इ सुविधाएं दी जाती हैं तो बहुत भारत उत्पादन क्षेत्र में दुनिया के लिए एक नजीर पेश कर सकता है। उन्होंने कहा कि कर्इ क्षेत्रों आैर इंडस्ट्री में फिलहाल संकट की स्थिति है, एेसे में बैंकों को उनकी मदद करनी चाहिए। इसके पहले अक्टूबर माह में बाबा रामदेव ने कहा था कि वो विदेशी इक्विटी में पतंजलि आयुर्वेद की लिस्टिंग नहीं कराना चाहते हैं। पतंजलि एक चैरिटेबल फर्म है।


देश की नंबर एक एफएमसीजी सेक्टर कंपनी बनना चाहती पतंजलि आयुर्वेद

बैंकों द्वारा आैद्योगिक क्षेत्र को मदद न करने पर बाबा रामदेव ने भगौड़ा शराब कारोबारी विजय माल्य की तरफ इशारा करते हुए कहा, "बैंकों को मदद करते समय सतर्क भी रहना चाहिए। उन्होंने सही से परखकर केवल जरूरतमंद उद्योगों की ही मदद करनी चाहिए।" बताते चलें कि पतंजलि आयुर्वेद देश के एफएमसीजी सेक्टर में हिंदुस्तान यूनीलीवर लिमिटेड (एचयूएल) को पछाड़कर नबंर एक की कुर्सी पर काबिज होना चाहती है। कंपनी ने वित्त वर्ष 2020 तक ये लक्ष्य हासिल करने का फैसला लिया है।
Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business news in hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned