तीन साल के हाई पर है पेट्रोल की कीमतें

manish ranjan

Publish: Sep, 13 2017 04:57:00 (IST)

Market
तीन साल के हाई पर है पेट्रोल की कीमतें

मुंबई मे पेट्रोल की कीमत 79 रुपए प्रति लीटर हो गया है तो वहीं दिल्ली मे भी एक लीटर पेट्रोल का दाम 70 रुपए हो गया है।

नई दिल्ली। 16 जून से डेली डाइनेमिक प्रइसिंग सिस्टम लागू होने के बाद अब पेट्रोल-डीजल का दाम अपने सबसे उच्चतम स्तर पर चला गया है। पेट्रोल-डीजल के दाम बढऩे का सीधा असर आम लोगों की जेब पर दिखाई दे रहा है। मुंबई मे पेट्रोल की कीमत 79 रुपए प्रति लीटर हो गया है तो वहीं दिल्ली मे भी एक लीटर पेट्रोल का दाम 70 रुपए हो गया है।

 

कच्चे तेल की कीमतों मे गिरावट के बाद भी बढ़ रहे है दाम

हैरान करने वाली बात यह है कि अंतराष्ट्रीय बाजारों मे कच्चे तेल कीमतों मे लगातार गिरावट देखने को मिल रहा लेकिन इसके बावजूद भी घरेलू बाजार में तेल की कीमतों मे भारी इजाफा देखने को मिल रहा है। बीते तीन साल में कच्चे तेल की कीमत मे लगभग आधा से ज्यादा का गिरावट देखा गया है। साल 2014 के छह हजार प्रति बैरल के मुकाबले अभी अंतराष्ट्री बाजार में कच्चे तेल की कीमत 3093 रुपए प्रति बैरल है। लेकिन तेल की कीमतो मे आए इतना भारी कमी होने के बाद भी इसका फायदा ग्राहकों को नहीं मिल रहा है।

 


कैच न्यूज की एक रिपोर्ट के मुताबिक ये कंपनियां एक लीटर कच्चे तेल के लिए 21.50 रुपए की भुगतान करती हैं। इसके बाद एंट्री टैक्स, रिफाइनरी प्रोसेसिंग, लैंडिंग कॉस्टऔर अन्य ऑपरेशनल कॉस्ट को मिलाकर एक लीटर कच्चे तेल को रिफाइन करने पर 9.34 रुपए खर्च है। इंडियन ऑयल, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम और भारत पेट्रोलियम कच्चेतेल को रिफाइन करती है। यदि इस हिसाब से देखें तो एक लीटर पेट्रोल को तैयार करने में कंपनियों का पूरा खर्च लगभग 31 रुपए का आता है। पेट्रोल और डीजल की कीमतों मे इतना इजाफा होने का कारण इन पर वसूला जाने वाला टैक्स है।


नाकाम दिख रहा डाइनैमिक प्राइसिंग का सिस्टम

16 जून से डेली डाइनैमिक प्राइसिंग लागू होने के बाद से अब रोज पेट्रोल-डीजल की कीमतो मे बदलाव हो जाता है। ये सिस्टम प्राइसिंग सिस्टम मे पारदर्शिता लाने के लिए किया गया था लेकिन फिलहाल इसकी मार लोगों की जेब पर पड़ रहा है। ध्यान देने वाली बात यह है कि जीएसटी लागू होने का बाद से भी पेट्राले-डीजल को जीएसटी से बाहर रखा गया है। इस वजह से केन्द्र और राज्य अभी भी अपना अलग-अलग टैक्स लगा रहे हैं। आपको बता दें कि केन्द्र में बीजेपी की सरकार आने के बाद से ही डीजल पर लगने वाले एक्साइल ड्यूटी मे 380 फीसदी और पेट्रोल पर 120 फीसदी का बढ़ोतरी हुआ है। इस बात से ये अंदाजा लगाया जा सकता है कि केन्द्र को इससे कितनी कमाई हो रही है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned