लगातार तीसरे दिन भी बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए आपके शहर में क्या है नई दरें

लगातार तीसरे दिन भी बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए आपके शहर में क्या है नई दरें

Ashutosh Kumar Verma | Updated: 07 Jul 2018, 08:17:43 AM (IST) बाजार

देश के तीन बड़ी सरकारी तेल कंपनियां - इंडियन आॅयाल काॅर्पोरेशन, भारत पेट्रोलियम और हिन्दुस्तान पेट्रोलियम ने 26 जून के बाद पेट्रोल-डीजल के दाम में कोई बढ़ोतरी नहीं की थी।

नई दिल्ली। आज शनिवार को पेट्रोल-डीजल के दाम में लगातार तीसरे दिन बढ़ोेतरी देखने को मिली है। राजधानी दिल्ली में आज पेट्रोल का नया दाम 75.98 रुपये प्रति लीटर है। मुंबई में आज पेट्रोल की नई दर की बात करें तो मुंबईवासियों को आज एक लीटर पेट्रोल के लिए 83.37 रुपये खर्च करने होंगे। कोलकाता और चेन्नई में भी पेट्रोल के दाम में आज बढ़ोतरी होने के बाद नई कीमतें क्रमशः 78.66 रुपये और 78.85 रुपये प्रति लीटर है। डीजल के दाम में भी आज लगातार दूसरे दिन इजाफा देखने को मिला है। दिल्ली में आज डीजल का दाम बढ़कर 67.76 रुपये हो गया है। मुंबई में डीजल की नई दर 71.90 रुपये प्रति लीटर है। जबकि कोलकाता व चेन्नई में आज की बढ़ोतरी के बाद डीजल की नई कीमतें क्रमशः 70.31 रुपये और 71.52 रुपये प्रति लीटर है।


तेल कंपनियों ने वैश्विक दबाव में बढ़ाए दाम

आपको याद दिला दें की करीब 5 सप्ताह के बाद बीते गुरूवार को पहली बार पेट्रोल-डीजल के दाम में बढ़ोतरी देखने को मिली थी। देश के तीन बड़ी सरकारी तेल कंपनियां इंडियन आॅयाल काॅर्पोरेशन, भारत पेट्रोलियम और हिन्दुस्तान पेट्रोलियम ने 26 जून के बाद पेट्रोल-डीजल के दाम में कोई बढ़ोतरी नहीं की थी। तेल की दाम में बढ़ोतरी के लिए आॅयल मार्केटिंग कंपनियों का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में लगातार बढ़ोतरी हो रही है वहीं डाॅलर के मुकाबले रुपये में भी कमजोरी देखने को मिल रहा है।


ओपेक देशों ने लिया था तेल उत्पादन बढ़ाने का फैसला

लगातार पांच सप्ताह के बाद तेल के दाम में बढ़ोतरी के बाद इंडियन आॅयल काॅर्पोरेशन के अध्यक्ष संजीव कुमार ने बताया कि, हम ओपेक देशों के फैसले का इंतजार कर रहे थे। इमें उम्मीद थी जुलाई तक ओपेक देश प्रति दिन 10 लाख बैरल कच्चे तेल के उत्पादन के फैसले पर जुलाई से अमल करेंगी। गौरतलब है कि पिछले माह ही ओपेक देशों ने अपने बैठक में तेल उत्पादन बढ़ाने का फैसला किया था। वहीं दूसरी ओर अमरीका भारत, चीन समेत दूसरे तेल खरीदारों पर ये दबाव बना रहा है कि वो 4 नवंबर से पहले इरान से कच्चे तेल के आयात को बंद कर दें।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned