रुपए के गिरने से आप पर गिरने वाला है मुसीबतों को पहाड़

रुपए के गिरने से आप पर गिरने वाला है मुसीबतों को पहाड़

manish ranjan | Publish: Sep, 06 2018 03:41:15 PM (IST) | Updated: Sep, 06 2018 03:47:26 PM (IST) बाजार

भारतीय रुपए के गिरने का सिलसिला रूकने का नाम ही नहीं ले रहा हैं। लगातार हर दिन रुपया गिरता ही जा रहा हैं।

नई दिल्ली। भारतीय रुपए के गिरने का सिलसिला रूकने का नाम ही नहीं ले रहा हैं। लगातार हर दिन रुपया गिरता ही जा रहा हैं। आज एक बार फिर रुपए ने गिर कर एक नया रिकॉर्ड बना लिया।डॉलर के मुकाबले रुपया 34 पैसे तक गिर चुका हैं। आज रुपया गिरकर 72.09 के सबसे निचले स्तर तक पहुंचा गया। रुपए के गिरने की कई वजह बताई जा रही हैं। लेकिन रुपए के गिरन से इसकी मार जिस पर सबसे ज्यादा पड़ने वाली हैं वो है आम आदमी। क्योंकि रुपए के गिरने से महंगाई बढ़ने की आशंका बढ़ गई है।

रुपया के गिरने से बढ़ेगी मंहगाई
जैसे-जैसे रुपया कमजोर होता जा रहा है वैसे वैसे देश में तेल के दाम मंहगे होते जा रहे हैं। लगभग हर दिन ही पेट्रोल और डीजल महंगे होते जा रहे हैं। आज रुपया और भी कमजोर हो गया है जिससे पेट्रोल और डीजल की कीमतों में और भी ज्यादा इजाफा होने की आशंका बढ़ गई है। देश में पेट्रोल और डीजल की खपत को पूरा करने के लिए डॉलर देकर विदेशों से कच्चा तेल खरीदा जाता है और डॉलर खरीदने के लिए अब ज्यादा रुपए चुकाने पड़ रहे हैं ऐसे में पेट्रोल और डीजल की महंगाई बढ़ने की आशंका मजबूत हो गई है।

ये सामाम होने जा रहे है मंहगे
रुपए के गिरने से ना सिर्फ देश में पेट्रोल और डीजल महंगे होगे बल्कि कई ऐसी चीजें है जो की रुपए के गिरने से मंहगी होने वाली हैं। रुपए की कमजोरी से लगभग देश का हर सामान मंहगा होने वाला हैं। जिनमें देश में ज्यादा आयात होने वाले उत्पादों में खाने का तेल, कोयला, कैमिकल, महंगे रत्न, स्टील, इलेक्ट्रिकल मशीनें, ट्रांस्पोर्ट का सामान और प्लास्टिक का समान प्रमुख हैं और रुपए के सस्ता होने की वजह से इन तमाम वस्तुओं के महंगा होने की आशंका बढ़ गई है। इन सबके अलावा विदेश यात्रा, विदेश में पढ़ाई और विदेश से ली जाने वाली हर उस सेवा के लिए भी ज्यादा कीमत लगेगी जिसका भुगतान डॉलर में करना पड़ता है।

अरुण जेटली का रुपए पर बयान
आम जनता की मुसीबते तो बढ़ेगी ही जब देश के वित्त मंत्री अरुण जेटली को लगता है की रुपए का लगातार गिरना घबराने की बात नहीं हैं। इतना ही नहीं अरुण जेटली को लगता है की रुपया कमजोर नहीं हो रहा हैं बल्कि डॉलर मजबूत हो रहा हैं। ऐसे में जब रुपए के गिरने पर देश के वित्त मंत्री का यह सोचना है तो आम जनता को राहत कहा से मिलेेगी।

 

 

 

Ad Block is Banned