एक बार फिर TCS बनी देश की सबसे बड़ी कंपनी, कुल मार्केट कैप 8 लाख करोड़ रुपये के पार

एक बार फिर TCS बनी देश की सबसे बड़ी कंपनी, कुल मार्केट कैप 8 लाख करोड़ रुपये के पार

Ashutosh Kumar Verma | Publish: Sep, 04 2018 02:09:22 PM (IST) | Updated: Sep, 05 2018 08:41:40 AM (IST) बाजार

बाजार पूंजीकरण (मार्केट कैप) के मामले में TCS ने मुकेश अंबानी की स्वामित्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज को पछाड़कर 8 लाख करोड़ रुपये की कंपनी बन गर्इ है।

नर्इ दिल्ली। बाजार पूंजीकरण के मामले में मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज की बादशाहत खत्म हो गर्इ है। बाजार पूंजीकरण के मामले में रिलायंस इंडस्ट्रीज को पछाड़कर टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) अब देश की सबसे बड़ी कंपनी बन गर्इ है। दरअसल मंगलवार को कारोबार के दौरान टीसीएस के शेयर्स में भारी उछाल देखने को मिला जिसके बाद कंपनी के कुल बाजार पूंजीकरण में भी उछाल देखने को मिला। अाज दोपहर तक कारोबार के दौरान कंपनी के शेयर्स रिकाॅर्ड हार्इ स्तर पर पहुंच गए।


रुपये में कमजोरी से आर्इटी कंपनियों की बल्ले-बल्ले
बाॅम्बे स्टाॅक एक्सचेंज (बीएसर्इ ) पर टीसीएस के शेयर्स 2096 रुपये प्रति शेयर्स के रिकाॅर्ड हार्इ स्तर पर पहुंच गए। बताते चलें की टीसीएस भारत की सबसे बड़ी आर्इटी कंपनी है आैर रुपये में लगातार हो रहे गिरावट से आर्इटी सेक्टर की कंपनियों को फायदा देखने को मिल रहा है। रुपये में गिरावट की वजह से एक तरफ जहां अधिकतर कंपनियों के शेयर्स में गिरावट देखने को मिल रहा हैं वहीं दूसरी तरफ आर्इटी सेक्टर की कंपनियें के शेयर्स में तेजी दर्ज की जा रही थी। डाॅलर के मुकाबले रुपये में लगातार गिरावट देखने को मिल रही है। आज भी डाॅलर के मुकाबले रुपया 71.28 के स्तर तक पहुंच गया है।


पिछले माह ही रिलायंय इंडस्ट्रीज का बाजार पूंजीकरण 8 लाख करोड़ रुपये के पार पहुंचा था
गौरतलब है कि टीसीएस से पहले रिलायंस इंडस्ट्रीज 8 लाख कराेड़ रुपये के बाजार पूंजीकरण वाली देश की पहली कंपनी बनी थी। मौजूदा समय में रिलायंस इंडस्ट्रीज का कुल बाजार पूंजीकरण 8 लाख करोड़ रुपये से नीचे आ गया है। पिछले कुछ समय में शेयर बाजार में रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर्स में भारी गिरावट देखने को मिल रही है। पिछले माह रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर 1328 रुपये के मुकाबले रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर आज 1240 रुपये प्रति शेयर के भाव पर आ गया है। इसी के साथ कंपनी का बाजार पूंजीकरण घटकर 7 लाख 85 हजार करोड़ हो गया है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned