Toilet के लिए सात दिन से अनशन कर रहे खड़ेश्वरी बाबा, देखें वीडियो

Toilet के लिए सात दिन से अनशन कर रहे खड़ेश्वरी बाबा, देखें वीडियो

Amit Sharma | Updated: 14 Jul 2019, 02:30:33 PM (IST) Mathura, Mathura, Uttar Pradesh, India

थाना हाईवे क्षेत्र अंतर्गत गोवर्धन चौराहे के पास प्राचीन देवी मंदिर के महंत हैं खड़ेश्वरी बाबा।

पिछले कई सालों से यहाँ रहकर प्राचीन देवी मंदिर की सेवा पूजा कर रहे मंदिर महंत खड़ेश्वरी बाबा विगत 7 दिनों से अन्न जल त्याग कर अनशन पर बैठे बाबा के स्वास्थ्य में गिरावट है।

मथुरा। स्वच्छ भारत अभियान (Swachh bharat abhiyan) के तहत पूरे देश में शौचालय (Toilet) बनाए जा रहे हैं। कान्हा की नगरी मथुरा में बाबा खड़ेश्वरी शौचालय बनवाने के लिए पिछले सात दिन से अनशन पर हैं। वे खड़े हुए हैं। अन्न-जल त्याग दिया है। रविवार को बाबा का स्वास्थ्य अचानक खराब हो गया। बाबा की तबियत बिगड़ने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम मौके पर पहुँची लेकिन बाबा ने उपचार कराने से मना कर दिया ।

यह भी पढ़ें- उड़न खटोले से होगी गोवर्धन परिक्रमा, जानिए टाइमिंग और किराया

sadhu

गोवर्धन चौराहे का मामला
थाना हाईवे क्षेत्र अंतर्गत गोवर्धन चौराहे के पास प्राचीन देवी मंदिर के महंत हैं खड़ेश्वरी बाबा। पिछले कई सालों से यहाँ रहकर प्राचीन देवी मंदिर की सेवा पूजा कर रहे मंदिर महंत खड़ेश्वरी बाबा विगत 7 दिनों से अन्न जल त्याग कर अनशन पर बैठे बाबा के स्वास्थ्य में गिरावट है। बाबा का कहना है कि अतिक्रमण (encroachment) के नाम पर मंदिर के शौचालय (Toilet) को पुलिस की मौजूदगी में तोड़ दिया गया। प्रशासन द्वारा शौचालय को तोड़ देने के बाद से ही बाबा उसी दिन से अन्न जल त्याग कर और हर वक्त खड़े रहकर अनशन करने में लगे हुए हैं। बाबा के समर्थक और जानकरों का दावा है कि बाबा के अनशन की जानकारी प्रशासन को लग चुकी है, लेकिन अभी तक प्रशासनिक तंत्र ने वहाँ पहुँचकर बाबा को कोई आश्वासन नहीं दिया है।

यह भी पढ़ें- #SakshiMishra ट्विटर पर टॉप ट्रेंड में, तारीफ खत्म अब समझाइश का दौर चालू

यह भी पढ़ें- योगी सरकार के रडार पर घोटालेबाज, जल्द होंगे सलाखों के पीछे: श्रीकांत शर्मा

प्रशासन को बाबा की मृत्यु का इंतजार
लोगों का आरोप है कि प्रशासन को मंदिर के महंत खड़ेश्वरी बाबा की मृत्यु का इंतजार है। रविवार को बाबा की तबीयत पूरी तरह बिगड़ चुकी है। बोल नहीं पा रहे हैं। प्रशासनिक अधिकारियों की हठधर्मिता ऐसी है बाबा के समझाने भी कोई नहीं पहुँचा। शौचालय (Toilet) टूटने से बाबा के सामने नित्य क्रियाओं की समस्या बनी हुई है। बाबा ने काफी विरोध किया, लेकिन उनकी एक न चली। प्रशासन ने दूसरा शौचालय (Toilet) भी नहीं बनवाया है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned