माँ गोदम्मा जी के विवाहोत्सव के चतुर्थ दिवस दिया गया भात

- माँ गोदम्मा जी के विवाहोत्सव के चतुर्थ दिवस दिया गया भात

- चतुर्थ दिवस माँ गोदम्मा जी घूँघट धारण किये निज मन्दिर से निकली

- मध्य मन्दिर प्रांगड़ में भृमण करते हुए बारहद्वारी स्थित मण्डप में पहुँची

- मन्दिर के स्वामी गोवर्द्धन पीठाधीश्वर गोवर्द्धन रंगाचार्य महाराज की तरफ से दिया गया भात

By: arun rawat

Updated: 12 Jan 2021, 02:45 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क


मथुरा. श्री रँगनाथ मन्दिर में चल रहे 5 दिवसीय माँ गोदम्मा जी के विवाहोत्सव के चतुर्थ दिवस भात दिया गया . फल,मेवा , श्रंगार का सामान , वस्त्र आदि उनके विवाहोत्सव के अवसर पर अर्पित किए गए।

वृन्दावन के रंगनाथ मंदिर में 5 दिवसीय विवाहोत्सव के चतुर्थ दिवस माँ गोदम्मा जी घूँघट धारण किये निज मन्दिर से निकली। पालकी में विराजमान हो कर माँ गोदम्मा जी की सवारी पौंडानाथ स्थित शेषशायी भगवान विष्णु जी के समक्ष पहुँची जहां भगवान विष्णु की माला उनको पहनाई गयी। जिसके बाद चाँदी की पालकी में विराजमान माँ गोदम्मा जी की सवारी परम्परागत वाद्य यंत्रों की मधुर धुन और वेदपाठी ब्राह्मणों द्वारा किये जा रहे वैदिक मंत्रोच्चारण के मध्य मन्दिर प्रांगड़ में भृमण करते हुए बारहद्वारी स्थित मण्डप में पहुँची। जहाँ उनको झूला झुलाया गया। इसके पश्चात परम्परा का विधिवत निर्बहन करते हुए मन्दिर के स्वामी गोवर्द्धन पीठाधीश्वर गोवर्द्धन रंगाचार्य महाराज जी की तरफ से भात दिया गया. गोपाल जी मन्दिर से मन्दिर के सेवायत फल ,मेवा , मिठाई, वस्त्र , श्रंगार आदि लेकर मण्डप में पहुँचे जहाँ माँ गोदम्मा जी को भात अर्पित किया गया.इस अद्भुत दर्शन को कर श्रद्धालु अपने को धन्य मान रहे थे। इस दौरान रघुनाथ स्वामी , यतिराज स्वामी , राजू स्वामी , चौवी स्वामी , रँगा स्वामी , माल्दा गोवर्धन, तिरुपति , कन्हैया आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

By - Nirmal Rajoot

arun rawat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned