मथुरा में चाइल्ड लाइन से दोस्ती सप्ताह की शुरुआत

- चाइल्ड लाइन से दोस्ती सप्ताह की शुरुआत

- हजारों लोगों ने किये हस्ताक्षर

- बाल श्रम को रोकने का किया वादा

- मथुरा रेलवे जंक्शन पर चलाया गया अभियान

By: arun rawat

Published: 12 Nov 2020, 03:50 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
मथुरा. चिराग सोसायटी द्वारा संचालित महिला एवं बाल विकास मंत्रालय भारत सरकार की परियोजना चाइल्ड लाइन 1098 के माध्यम से आज चाइल्ड लाइन से दोस्ती सप्ताह का आयोजन रेलवे स्टेशन पर किया गया। इस अभियान के तहत हजारों लोगों ने हस्ताक्षर कर इस अभियान में अपना योगदान दिया।


मथुरा जंक्शन में चाइल्ड लाइन से दोस्ती सप्ताह का शुभारम्भ किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रहे मथुरा रेलवे जंक्शन के निदेशक रवि प्रकाश ने अपने हस्ताक्षर से इस अभियान की शुरुआत की। निदेशक रवि प्रकाश ने हस्ताक्षर करते हुए कहा कि हमें बच्चों से दोस्ताना व्यवहार करना चाहिए। बच्चे समाज की धरोहर है। जब हम सब बच्चों के प्रति अपनी ज़िम्मेदारी समझेंगे तभी बाल मित्र समाज की स्थापना हो सकेगी। स्टेशन अधीक्षक जेपी मीणा ने बच्चों के प्रति सजग रहने के लिए कहा कि अपने बच्चों को गलत माहौल से दूर रखना है तो अपने बच्चों से दोस्ती करनी होगी साथ ही अपने आस-पास भी ख्याल रखना होगा।

प्रभारी आरपीएफ सीबी प्रसाद ने रेलवे चाइल्ड लाइन की सराहना करते हुए कहा कि जब से स्टेशन पर चाइल्ड लाइन ने काम शुरू किया है तब से बहुत बच्चों को संरक्षण प्राप्त हुआ है। प्रभारी जीआरपी सुबोध कुमार यादव ने भी अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि रेलवे चाइल्ड लाइन द्वारा जो काम बच्चों के हित मे किया जा रहा है बहुत ही सरहानीय है। कार्क्रम के दौरान बड़ी तादाद में समाजसेवी प्रतिनिधियों पुलिस कर्मचारियों, ओटो टैक्सी ड्राइवर, यात्रियों एवं छात्र छात्राओं ने हस्ताक्षर कर बच्चों से दोस्ती का वादा किया।

रेलवे चाइल्ड लाइन के कोऑर्डिनेटर मोहम्मद सईद ने बताया की चाइल्ड लाइन से दोस्ती सप्ताह हर साल नवंबर माह में मनाया जाता है। इसका मकसद बच्चों के प्रति हो रही हिंसा ,बाल श्रम, बाल तस्करी, बाल यौन शोषण आदि को रोकना है। इस अवसर पर रेलवे चाइल्डलाइन टीम से हसन खान, मोहम्मद समीम, मधुबाला ,नवीर, नेहा, नीलू आदि उपस्थित रहे।

arun rawat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned