परफार्मेंस ग्रांट मामले में अब ग्राम पंचायत सचिव व एपीओ की तय होगी भूमिका

-मथुरा में डीपीआरओ रहे राजेंद्र प्रसाद व एडीओ, सचिवों के खिलाफ दर्ज है रिपोर्ट

मथुरा। चार वर्ष पूर्व 77 ग्राम पंचायतों को मिली परफार्मेंस ग्रांट की धनराशि में से तत्कालीन जिला पंचायत अधिकारी एवं अन्य अधीनस्थ ने 1.34 करोड़ रुपये की राजकीय धनराशि का दुरुपयोग करते हुए बंदरबांट कर डाला। ग्राम पंचायतों के चयन में भी मनमानी बरती गई थी। इस धनराशि को शासनदेश के विपरीत दिया गया था। अधिसूचना सेक्टर उ.प्र. सतर्कता अधिष्ठान लखनऊ ने जांच में डीपीआरओ और अन्य अधीनस्थ को दोषी मानते हुए मथुरा के थाना सदर बाजार में रिपोर्ट दर्ज कराई है।

यह भी पढ़ें- प्रियंका गांधी ट्विटर की राजनीति करती हैं - श्रीकांत शर्मा

जांच अधिकारियों के अनुसार, अब ग्राम पंचायत सचिव से लेकर एपीओ तक की भूमिका तय की जाएगी। मामला सरकारी अफसरों से जुड़ा होने की वजह से उनके खिलाफ चार्जशीट लगाई जाएगी और अभियोजन के लिए शासन से अनुमति भी ली जाएगी।

यह भी पढ़ें- पर्यावरण संरक्षण को लेकर एयरपोर्ट के अधिकारी निकले साइकिल यात्रा पर, हर दिन 80 किमी साइकिल चलाकर लोगों को कर रहे जागरुक

शासन ने वर्ष 2016-17 में जनपद की सभी 77 ग्राम पंचायतों को 14 वें वित्त से परफारमेंस ग्रांट के रूप में 21 करोड़ 16 लाख 10 हजार 289 रुपये की धनराशि विकास कार्यों के लिए भेजी थी। इसमें यह तय हुआ था कि जिन ग्राम पंचायतों की आय में वृद्धि हुई है और उन्होंने अपनी आय के स्रोत बना लिए हैं उनको यह धनराशि विकास की गति को आगे बढ़ाने के लिए दी जानी थी। इसके लिए शासन ने एक शासनादेश भी किया था। इसमें ग्राम पंचायतों के चयन की पूरी प्रक्रिया को अपनाने के निर्देश दिए गए थे।

यह भी पढ़ें- शादीशुदा दरोगा ने धोखा देकर रचायी दूसरी शादी, गर्भवती होने पर पत्नी का जबरन कराया गर्भपात फिर घर से निकाला

विभागीय सूत्रों की माने तो तत्कालीन डीपीआरओ एवं वर्तमान में उन्नाव के डीपीआरओ राजेंद्र प्रसाद यादव ने शासनदेश की अनदेखी करते हुए कुछ ग्राम पंचायतों को ही 1 करोड़ 34 लाख 10 हजार 490 रुपये की धनराशि विकास कार्यों के लिए दे डाली। इस धनराशि कुछ विकास कार्य तो हुए लेकिन अधिकांश धनराशि का बंदरबांट कर डाला गया। मजेदार बात यह रही कि जो धनराशि खर्च करने को दी गई थी वह पूरे वित्तीय वर्ष में खर्च ही नहीं हुई।

यह भी पढ़ें- नवोदय प्रकरण: नाबालिग होने के कारण तीन छात्रों का नहीं हो सका पॉलीग्राफी टेस्ट, किशोर न्यायालय में प्रार्थना पत्र देकर मांगी अनुमति

परफारमेंस ग्रांट की जांच शासन स्तर पर हुई तो विभाग में खलबली मच गई। पहले तो विभागीय जांच हुई। सभी डीपीआरओ से खर्च किया गया पैसा भी वापस करने को कहा गया। मथुरा में प्राप्त धनराशि से कम खर्च होने पर वर्ष 2017-18 में मिले 14वें वित्त की धनराशि से परफारमेंस के तहत हुए विकास कार्यों का पैसा उन ग्राम पंचायतों के खातों से काट कर वापिस भिजवा दिया गया। तब माना जा रहा था कि पैसा वापस होने पर अब शासन कोई ठोस कार्रवाई नहीं करेगा। वहीं दूसरी ओर शासन ने पूरे मामले को उ.प्र. सतर्कता अधिष्ठान लखनऊ के सुपुर्द कर दिया। सतर्कता अधिष्ठान लखनऊ की टीम ने जब ग्राम पंचायतों में जाकर परफारमेंस ग्रांट की जांच पड़ताल की तो खर्च की गई धनराशि में गड़बड़ी मिली।

यह भी पढ़ें- अब ईंट-पत्थर जमा किए तो कार्रवाई, Dhara 144 के तहत लगाए गए अनेक प्रतिबंध, पढ़िए पूरी जानकारी

इनके खिलाफ हुई रिपोर्ट
शनिवार को अनिल कुमार यादव निरीक्षक अभिसूचना सेक्टर उ.प्र. सतर्कता अधिष्ठान, लखनऊ ने मथुरा के थाना सदर बाजार में तत्कालीन डीपीआरओ राजेंद्र प्रसाद यादव, संबंधित सहायक विकास अधिकारी व संबंधित ग्राम पंचायत अधिकारी एवं सचिवों के खिलाफ आईपीसी की धारा 420, 466, 467,468,471,166 व 34 भादवि धारा 7 व 13(1) क धारा 13 (2) भा.नि.अधि. के तहत दर्ज कराई है।

Show More
अमित शर्मा
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned